scriptHindi subject professors appointed in schools of Rajasthan | अब हिन्दी पढ़ने की बाधा खत्म, प्रदेश की स्कूलों में रिक्त पदों पर लगाए इतने प्राध्यापक | Patrika News

अब हिन्दी पढ़ने की बाधा खत्म, प्रदेश की स्कूलों में रिक्त पदों पर लगाए इतने प्राध्यापक

locationपालीPublished: Jan 31, 2024 04:18:31 pm

Submitted by:

Suresh Hemnani

पाली, जालोर, सिरोही व सांचौर में 100से अधिक प्राध्यापकों की नियुक्ति। प्राध्यापक (स्कूल शिक्षा) हिन्दी के पद पर पे-मैट्रिक्स लेवल (एल-12) पर चयन के बाद दी गई नियुक्ति।

 

अब हिन्दी पढ़ने की बाधा खत्म, प्रदेश की स्कूलों में रिक्त पदों पर लगाए इतने प्राध्यापक
अब हिन्दी पढ़ने की बाधा खत्म, प्रदेश की स्कूलों में रिक्त पदों पर लगाए इतने प्राध्यापक

प्रदेश के 1199 स्कूलों में पूरा सत्र गुजरने के बावजूद हिन्दी विषय पढ़ाने वाले प्राध्यापक नहीं थे। ऐसे में विद्यार्थियों को स्वयं के स्तर पर ही अध्ययन करना पड़ रहा था। अब उन स्कूलों में प्राध्यापक (स्कूल शिक्षा) हिन्दी के पद पर पे-मैट्रिक्स लेवल (एल-12) पर चयन के बाद प्राध्यापकों को नियुक्ति दी गई है। ये प्राध्यापक नियुक्ति लेने के बाद भले ही बोर्ड परीक्षा के विद्यार्थियों को पूरा पाठ्यक्रम नहीं पढ़ा सके, लेकिन कम से कम ई-वर्क बुक का कार्य करवा सकेंगे। इसके साथ ही विद्यार्थियों की विषय पुनर्रावृति कराने में सहयोग करेंगे। इसका कारण यह है कि अभी बोर्ड परीक्षा आने के बीच फरवरी का पूरा माह है और समान परीक्षा योजना की कक्षाओं में उससे अधिक समय है।

दो साल रहेगा परिवीक्षा काल
प्राध्यापक पदों पर नियुक्त इन अध्यापकों का परिवीक्षा काल दो साल का रहेगा। इसमें राजकीय सेवा में पहले से कार्यरत चयनित अभ्यर्थियाें को विकल्प के आधार पर विद्यमान वेतन/नियत पारिश्रमिक व नव चयनितों को नियत पारिश्रमिक नियमानुसार दिया जाएगा। परिवीक्षा काल में राज्य बीमा की कटौती नहीं की जाएगी।

17 फरवरी तक करना होगा कार्य ग्रहण
प्राध्यापक पदों पर नियुक्त हुए अभ्यर्थियों को 17 फरवरी तक स्कूलों में दस्तावेज आदि पेश कर कार्यग्रहण करना होगा। ऐसा नहीं करने पर उनके नियुक्ति आदेश स्वत: निरस्त मान लिए जाएंगे। इसके अलावा अभ्यर्थी की ओर से दिए गए दस्तावेज/सूचनाएं/तथ्य सही नहीं होने पर बिना किसी नोटिस के सेवाएं समाप्त की जाएगी।

चुनाव से पहले होनी थी नियुक्ति
प्राध्यापकों की नियुक्ति चुनाव से पहले होनी थी, लेकिन आचार संहिता लगने के कारण वह अटक गई। अब हिन्दी के प्राध्यापक रिक्त पदों पर नियुक्त होने से विद्यार्थियों को लाभ होगा। वे रिवीजन करवाने के साथ ई-वर्क बुक का कार्य करवा सकेंगे।
-चन्द्रप्रकाश जायसवपाल, संयुक्त निदेशक, पाली शिक्षा मण्डल

इन गांवों के स्कूलों में दी गई नियुक्ति
पाली जिला: जोड़किया, बोगला, दूदनी, बामनेरा, अनोपपुरा, पनोता, खेतरली, टेवाली, खिवांदी, कलाली, रोहट, पतावा, रास, भाटून्द, गढवाड़ा, ठाकुरला, डेंडा, सोनाई लाखा, वायद, डरी, आना, सेवरिया, जोजावर, भाकरीवाला, मंडला ब्लॉक सोजत, मांडा, दिवांदी, बिठुड़ा कलां, अटबड़ा, झूपेलाव, धामली, राणावास, गुड़ारामसिंह, धाना लाटौती, बीठु व कुड़की

जालोर जिला: तेजा की बेरी, बोरटा, पुर, बाकरा गांव, देबावास, सांगाणा, रायथल, शंखवाली, भैंसवाड़ा, भंवरानी, नोरवा, सायला, साकंड, थूर, नोसरा, पुरण, बैरठ, मांडवला, सुराणा, उम्मेदाबाद, दुगावा, रामसीन, थोबाऊ, मोदरान स्टेशन, तालियाना

सांचौर जिला: जूनी बाली, हालीवाव, डूंगरी, रानीवाड़ा, सिलदर, बागोड़ा, जेरन, हाड़ेचा, केरीया, रानीवाड़ा कलां, मोरसीम, केसूरी, करवाड़ा ढाणी

सिरोही जिला: जैतावरा, मारोल, मंडार, वातेरा, सिलदर, वरमाण, रेवदर, रायपुर, पाड़ीव, डबानी, किंवरली, वासन, भैरूगढ़, मडिया, दत्तानी, निम्बज, कैलाशनगर, अंदौर, मानादर, पुराना जोगापुरा, जैला, वैलागरी, अजारी, डाक, चिबागांव, जोलपुर, दांतराई, मांडवारा, शाहपुर, वीरवाड़ा, लूणोलन, भाटाणा, बसंतगढ़, भारजा, इसरा, मगरीवाड़ा, कोजारा, गुलाबगंज, गोयली, धवली, ठंडीवेरी, अनादरा, पोसीतरा, धान, नागाणी, पामेरा

ट्रेंडिंग वीडियो