कांग्रेस नेता सुष्मिता देव TMC में शामिल, कल पार्टी से दिया था इस्तीफा

Congress leader Sushmita Dev joined TMC: कांग्रेस की पूर्व सांसद सुष्मिता देव ने पार्टी छोड़ अब तृणमूल कांग्रेस का दामन थाम लिया है। सोमवार को तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के कद्दावर नेता अभिषेक बनर्जी और डेरक ओ ब्रायन ने सुष्मिता देव को TMC की सदस्यता दिलाई।

By: Anil Kumar

Updated: 16 Aug 2021, 05:31 PM IST

कोलकाता। कांग्रेस (Congress) को एक बड़ा झटका लगा है। ऑल इंडिया महिला कांग्रेस की अध्यक्ष रह चुकीं पूर्व सांसद सुष्मिता देव (Congress Leader Sushmita Dev Resign) ने पार्टी छोड़ अब तृणमूल कांग्रेस का दामन थाम लिया है। सुष्मिता देव ने सोमवार को तृणमूल कांग्रेस (Trinmool Congress) पार्टी जॉइन की। टीएमसी के कद्दावर नेता अभिषेक बनर्जी और डेरक ओ ब्रायन ने सुष्मिता देव को TMC की सदस्यता दिलाई।

सुष्मिता ने 15 अगस्त के दिन कांग्रेस पार्टी की सदस्यता से इस्तीफा देते हुए सोनिया गांधी को अपना त्यागपत्र सौंप दिया था। अब सुष्मिता देव के कांग्रेस छोड़ने पर पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने ने सवाल खड़े किए हैं और पार्टी नेतृत्व को निशाने पर लिया है। वरिष्ठ नेताओं ने कहा है कि एक के बाद एक युवा नेता पार्टी छोड़कर जा रहे हैं, ऐसे में इसपर मंथन होना चाहिए।

यह भी पढ़ें :- सुष्मिता देव ने कांग्रेस से दिया इस्तीफा, कपिल सिब्बल और कार्ति चिदंबरम ने पार्टी पर कसा तंज

बता दें कि असम में विपक्ष के कांग्रेस नेता देवव्रत सैकिया ने पुष्टि करते हुए बताया कि देव ने शुक्रवार रात सोनिया गांधी को एक पत्र भेजा था। शनिवार दोपहर को सोनिया गांधी और राहुल गांधी सहित कांग्रेस आलाकमान ने दिल्ली में असम प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रतिनिधिमंडलों के साथ बैठक की। वह (सुष्मिता देव) बैठक का हिस्सा थीं.. हमें पता नहीं था कि वह पार्टी छोड़ने जा रही हैं।

असम में कांग्रेस की जगह ले सकती है टीएमसी

आपको बता दें कि सुष्मिता देव के इस्तीफा देने का बाद असम में कांग्रेस पार्टी को एक और बड़ा झटका लगा है। इससे पहले हाल ही में कई विधायकों और कुछ साल पहले असम के सीएम हिमंत बिस्वा ने पार्टी नेतृत्व और राहुल गांधी पर सवाल खड़े करते हुए इस्तीफा दे दिया था। बता दें सुष्मिता देव के पिता संतोष मोहन देव की असम में अच्छी पकड़ रही है। वे राजीव गांधी सरकार में केंद्रीय मंत्री भी रहे। अपने पिता के विरासत को आगे बढ़ाते हुए सुष्मिता देव ने कांग्रेस की टिकट पर जीतकर सिल्चर सीट से सांसद बनी।

यह भी पढ़ें :- Coronavirus: कांग्रेस की दिग्गज नेता में हुई कोरोना संक्रमण की पुष्टि, ट्वीट कर कही बड़ी बात

माना जा रहा है कि असम में कमजोर होती कांग्रेस की जगह अब टीएमसी ले सकती है। अब टीएमसी सुष्मिता देव की मदद से असम में अपने विस्तार की योजना बना रही है। वहीं त्रिपुरा में भी टीएमसी की नजर है। चूंकि त्रिपुरा में भी टीएमसी काफी सक्रिय है। चूंकि असम (बराक घाटी) और त्रिपुरा में काफी संख्या में बंगाली भाषी के लोग रहते हैं।

असम में टीएमसी का नेतृत्व करने के लिए सुष्मिता देव के तौर पर एक बड़ा चेहरा मिल गया है। हालांकि, इससे पहले रायजोर दल के प्रमुख अखिल गोगोई से हाथ मिलाने पर टीएमसी आगे बढ़ रही थी और असम में पार्टी की कमान संभालने की पेशकेश भी की थी। लेकिन कोई बातचीत आगे नहीं बढ़ पाई और अब सुष्मिता देव के तौर पर टीएमसी को एक जाना-पहचाना बड़ा चेहरा मिल गया है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने पार्टी पर उठाए सवाल

सुष्मिता देव के पार्टी छोड़ने के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने पार्टी नेतृत्व पर सवाल खड़े किए हैं और तंज भी कसा है। कार्तिक चिंदबरम और कपिल सिब्बल ने अपनी राय रखते हुए कहा कि युवा पार्टी छोड़कर जा रहे हैं और नेतृत्व आंख बंद करके आगे बढ़ रही है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति चिदंबरम ने सुष्मिता देव के इस्तीफे पर लिखा कि हमें इस बात पर गहन विचार करना चाहिए कि सुष्मिता देव जैसे युवा नेता पार्टी छोड़कर क्यों जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें :- सुप्रीम कोर्ट ने सुष्मिता देव की याचिका पर सुनवाई से किया इनकार, मोदी और शाह को मिली राहत

वहीं, कांग्रेस पार्टी के नेता कपिल सिब्बल ने ट्विट करते हुए लिखा, सुष्मिता देव ने कांग्रेस पार्टी की प्राथमिकत सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। जब युवा नेता छोड़कर जाते हैं तो हम 'बूढ़ों' को दोषी ठहराया जाता है। पार्टी आंख बंद करके आगे बढ़ रही है।

Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned