scriptKnow Why BJP Make Draupadi Murmu A Candidate For Presidential Election 2022 | Presidential Election 2022: द्रौपदी मुर्मू को उम्मीदवार बनाकर BJP ने साधे एक तीर से दो निशाने | Patrika News

Presidential Election 2022: द्रौपदी मुर्मू को उम्मीदवार बनाकर BJP ने साधे एक तीर से दो निशाने

राष्ट्रपति चुनाव को लेकर राजनीतिक दलों के बीच हलचलें तेज हो गई हैं। सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों की ओर से अपने-अपने उम्मीदवारों के नामों का ऐलान भी कर दिया गया है। दरअसल बीजेपी ने द्रौपदी मुर्मू के नाम पर मुहर लगाकर एक तीर से दो निशाने साधने की कोशिश की है।

नई दिल्ली

Published: June 22, 2022 10:42:53 am

राष्ट्रपति चुनाव का वक्त जैसे-जैसे नजदीक आ रहा है वैसे-वैसे सियासी पारा भी हाई होता जा रहा है। दोनों पक्षों की ओर से अपने-अपने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया गया है। इसके बाद से ही सियासी समीकरण साधने की कोशिशें शुरू हो गई हैं। विपक्ष ने साझा उम्मीदवार को तौर पर जहां यशवंत सिन्हा पर भरोसा जताया है वहीं बीजेपी ने द्रौपदी मुर्मू के नाम पर मुहर लगाकर एक तीर से दो निशाने साधने की कोशिश की है। राजनीतिक जानकारों की मानें तो चुनाव में बीजेपी नेतृत्व वाले एनडीए का पलड़ा भारी है। लिहाजा देश का अगला राष्ट्रपति बनने का द्रौपदी मुर्मू लगभग सफर तय माना जा रहा है।
Know Why BJP Make Draupadi Murmu A Candidate For Presidential Election 2022
Know Why BJP Make Draupadi Murmu A Candidate For Presidential Election 2022
भाजपा देश के आदिवासी समुदाय और महिलाओं के बीच अपनी पैठ को मजबूत करने में जुटी है, लिहाजा उसके लिए द्रौपदी मुर्मू एक बेहतरीन विकल्प है।

मुर्मू बीजेपी के लिए काफी काम भी कर चुकी हैं और मोदी-शाह की करीबी भी मानी जाती हैं। यही नहीं पूर्वी भारत में जड़ें जमा रही बीजेपी को द्रौपदी के सहारे ज्यादा लाभ मिलने की उम्मीद है।

यह भी पढ़ें

Presidential Election 2022: द्रौपदी मुर्मू ने बीजेडी से मांगा था समर्थन, जानिए क्या बोले नवीन पटनायक




पहला निशानाः महिला सशक्तिकरण और आधी आबादी को संदेश
राष्ट्रपति चुनाव के अंकगणित में भाजपा और एनडीए का पलड़ा भारी है और ऐसे में मुर्मू का राष्ट्रपति चुना जाना लगभग तय है। जीतने के बाद द्रौपदी मुर्मू देश की पहली आदिवासी राष्ट्रपति भी होगी।

उनके पहले ही देश की पहली आदिवासी राज्यपाल बनने का रिकॉर्ड दर्ज है। लेकिन बीजेपी ने उनके नाम को आगे बढ़ाकर देश की आधी आबादी को बड़ा संदेश दिया है।

हाल के चुनाव में बीजेपी को महिलाओं का बड़ा समर्थन मिला है। यही वजह है कि अब बीजेपी महिलाओं की उपस्थिति को नकार नहीं सकती है। विपक्ष वैसे भी बीजेपी पर कैबिनेट में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने और महिला सशक्तिकरण बिल पास कराने का दबाव बनाता रहा है।

ऐसे में देश के सर्वोच्च पद के लिए सामने लाना वह भी सबसे वंचित आदिवासी वर्ग से उभारने का एक मजबूत राजनीतिक संदेश है। इतना ही नहीं बीजेपी की 2024 के लोकसभा चुनाव की रणनीति के लिए भी यह एक कारगर कदम साबित हो सकता है।

दूसरा निशानाः सामाजिक और जातिगत समीकरणों पर नजर
बीजेपी ने मुर्मू के जरिए सामाजिक और जातिगत समीकरणों को साधने की भी कोशिश की है। दरअसल देश की राजनीति इन दिनों दलितों और पिछड़ा वर्ग के इर्द-गिर्द घूम रही है।

आम आदमी पार्टी अब गांधी के नहीं बल्कि बाबा साहेब अम्बेडकर के नाम पर आगे बढ़ रही है। पूर्वी भारत में इस समीकरण का बड़ा महत्व भी है। लिहाजा भाजपा की सामाजिक समीकरणों की रणनीति भी इससे साफ होती है, क्योंकि उसने 2017 में दलित समुदाय से रामनाथ कोविंद को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाया था।

अब BJP ने आदिवासी समुदाय से आने वाली द्रोपदी मुर्मू को उम्मीदवार बनाया है। बीजेपी की चुनावी सफलता में इन दोनों समुदाय का बड़ा योगदान रहा है। वह इन दोनों आधारों को मजबूत बनाने में जुटी हुई है।

यह भी पढ़ें

Presidential Election 2022: NDA ने द्रौपदी मुर्मू को बनाया राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: आदित्य को छोड़ शिवसेना के सारे MLA Minister हुए बागी, उद्धव ठाकरे के साथ बचे सिर्फ MLC मंत्रीMaharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में क्या बन रहे हैं नए सियासी समीकरण? बागी एकनाथ शिंदे ने राज ठाकरे से की फोन पर बातचीतPresidential Election: यशवंत सिन्हा ने भरा नामांकन, राहुल गांधी-शरद पवार समेत विपक्ष के कई बड़े नेता मौजूदPunjab Budget LIVE Updates: वित्तमंत्री हरपाल चीमा ने कहा- सभी जिलों में बनाए जाएंगे साइबर अपराध क्राइम कंट्रोल रूममनी लॉन्ड्रिंग मामले में सत्येंद्र जैन को बड़ी राहत, कोर्ट ने हिरासत अवधि बढ़ाने से किया इनकार, जानिए क्या बताई वजहRajasthan Invest Summit : कांग्रेस शासित राजस्थान में 1.68 लाख करोड़ के निवेश की तैयारी में Rahul Gandhi के 'Double A'Ram Nath Kovind Vrindavan Visit : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद वृंदावन पहुंचे, सीएम योगी ने किया स्वागत, जानें पूरा कार्यक्रमExclusive Interview: राष्ट्रपति उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को किस आधार पर जीत की उम्मीद और क्या बोले आदिवासी महिला के खिलाफ उम्मीदवारी पर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.