विपक्ष के डेलिगेशन के साथ श्रीनगर एयरपोर्ट से लौटे राहुल गांधी, बोले- जम्मू-कश्मीर के हालात ठीक नहीं

विपक्ष के डेलिगेशन के साथ श्रीनगर एयरपोर्ट से लौटे राहुल गांधी, बोले- जम्मू-कश्मीर के हालात ठीक नहीं
विपक्ष के डेलिगेशन के साथ श्रीनगर से लौटे राहुल गांधी, बोले- जम्मू-कश्मीर के हालात ठीक नहीं

Prashant Kumar Jha | Updated: 25 Aug 2019, 07:44:45 AM (IST) राजनीति

  • राहुल गांधी के नेतृत्व में विपक्षी दलों का प्रतिनिधिमंडल जम्मू कश्मीर के दौरे पर था
  • प्रशासन ने डेलिगेशन को श्रीनगर एयरपोर्ट से बाहर जाने नहीं दिया

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा छिनने के बाद घाटी के हालात का जायजा लेने के लिए शनिवार को राहुल गांधी की अगुवाई में विपक्षी दलों का प्रतिनिधिमंडल श्रीनगर पहुंचा। लेकिन जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने श्रीनगर एयरपोर्ट से उन्हें बैरन दिल्ली वापस भेज दिया। प्रशासन ने उन्हें दौरा करने की इजाजत नहीं दी। राहुल गांधी के श्रीनगर दौरे पर राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने तंज कसा। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी को यहां आकर राजनीति नहीं करनी चाहिए।

दिल्ली लौटने के बाद कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि कश्मीर के हालात सामान्य नहीं है। उन्होंने कहा कि कुछ दिन पहले राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने उन्हें जम्मू-कश्मीर आने का न्योता दिया था। मैंने निमंत्रण स्वीकार किया और आज हमें श्रीनगर एयरपोर्ट से बाहर जाने की इजाजत नहीं दी गई। हमारे साथ मीडिया को भी गुमराह किया गया। इससे साफ है कि जम्मू-कश्मीर में स्थिति सामान्य नहीं है।

वहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि जम्मू कश्मीर की स्थिति भयानक और भयावह है। हमें कश्मीर में जाने के अनुमति नहीं दी गई। लेकिन प्लेन में जो यात्रियों से आपबीती सुनी है उससे आंख में आंसू आ गए।

ये भी पढ़ें: एक ही महीने में भाजपा के दो 'सूर्य' हुए अस्त, विपक्ष की आंखें भी नम

राहुल यहां आकर राजनीति नहीं करें- राज्यपाल

कांग्रेस नेता राहुल गांधी के कश्मीर दौरे को लेकर जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि ऐसे मौके पर विपक्षी दल के नेताओं का यहां आना और राजनीति करना ठीक नहीं है। उन्होंने कहा कि कश्मीर मुद्दे पर राहुल गांधी को संसद में बोलना चाहिए था।

मीडिया से बदसलूकी

श्रीनगर एयरपोर्ट पर मीडिया से बदसलूकी का भी मामले सामने आया। विपक्षी दलों का डेलिगेशन जैसे ही श्रीनगर एयरपोर्ट पर पहुंचा कि नेताओं और मीडिया को अलग-अलग कर दिया गया। मीडिया ने विपक्षी दलों के नेताओं से बात करनी चाही तो पुलिस ने उनके साथ धक्कामुक्की करने की कोशिश की। मीडिया ने पुलिस की इस कार्रवाई का कड़ा विरोध किया।

ये भी पढ़ें: अरुण जेटली वकील नहीं चार्टेड अकाउंटेंट बनना चाहते थे, फिर ऐसे उतरे राजनीति में

 

गौरतलब है कि विस्तारा की फ्लाइट में राहुल गांधी के साथ पूर्व सीएम गुलाम नबी आजाद, शरद यादव, आनंद शर्मा, माजिद मेमन, मनोज झा और डी राजा मौजूद हैं। इस दौरान मनोज झा ने कहा कहा कि हम लोग जम्मू-कश्मीर के लोगों से मिलना चाहते हैं, लेकिन हमें रोका जा रहा है।

वहीं, शरद यादव का कहना है कि जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है और क्या हम अपने ही देश के एक भाग में नहीं जा सकते? माकपा महासचिव सीताराम येचुरी का कहना है कि उनको जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने विनम्रतापूर्वक आमंत्रित किया था। इसलिए हम उनके निमंत्रण के सम्मान में श्रीनगर जा रहे हैं।

ये भी पढ़ें: महिलाओं से दूरी, डिस्को के शौकीन थे बीजेपी के अरुण, जेटली के बारे में 5 दिलचस्प बातें

जम्मू-कश्मीर में हालात हो रहे सामान्य

इससे पहले प्रशासन ने विपक्षी नेताओं को यह कहते हुए यहां नहीं आने का अनुरोध किया है कि धीरे-धीरे सामान्य हो रहे हालात में बाधा डालने के प्रयास नहीं किए जाने चाहिए। जम्मू-कश्मीर सरकार के सूचना एवं जनसंपर्क विभाग ने ट्वीट करते हुए कहा कि ऐसे समय में जब सरकार जम्मू-कश्मीर के लोगों को सीमा पार आतंवाद और आतंकियों व अलगाववादियों के हमले से बचाने की कोशिश कर रही है और बदमाशों व उपद्रवी तत्वों को नियंत्रित कर धीरे-धीरे सार्वजनिक व्यवस्था को बहाल करने की कोशिश कर रही है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned