West Bengal की इस सीट से चुनाव लड़ेंगी ममता बनर्जी, PM मोदी को दी सीधी चुनौती

  • पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव को लेकर सियासी गहमागहमी तेज हो चली है
  • मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपनी पार्टी के 291 उम्मीदवारों की सूूची जारी कर दी है

By: Mohit sharma

Updated: 05 Mar 2021, 04:56 PM IST

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव ( West Bengal Assembly Election ) को लेकर सियासी गहमागहमी तेज हो चली है। ऐसे में राजनीतिक दलों की ओर से जारी आरोप-प्रत्यारोप के सिलसिले के बीच मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ( West Bengal CM Mamata banerjee ) ने अपनी पार्टी के 291 उम्मीदवारों की सूूची जारी कर दी है। जबकि तीन सीटों को सहयोगियों के लिए छोड़ दिया है। ममता बनर्जी ( Mamata banerjee ) ने घोषणा की है कि वह खुद नंदीग्राम ( Nandigram ) सीट से चुनावी मैदान में उतरेंगी। इस दौरान एक प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन कर ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( PM Narendra Modi ) को भी चुनौती दी है।

29 साल की उम्र में 35 बच्चों का पिता बना यह शख्स, जानिए कैसे हुआ यह कमाल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रस्तावित 20 रैलियों पर भी सवाल उठाया

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मीडिया से बात करते हुए ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रस्तावित 20 रैलियों पर भी सवाल उठाया। ममता बनर्जी ने कहा कि वो चाहे जितनी रैली कर लें, लेकिन हम चुनावी मैदान में अंत तक टिके रहेंगे। आपको बता दें कि भारतीय जनता पार्टी के सूत्रों से यह जानकारी मिली थी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पश्चिम बंगाल में 30 से 35 चुनावी रैली करेंगे। शुरुआती दौर में प्रधानमंत्री की 20 रैलियां लगाई गई हैं। इसके साथ ही केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जैसे भाजपा के बड़े चहरे भी पार्टी के लिए के प्रचार में उतरे हैं।

देश के इस शहर में अब कचरा फैलाने पर लगेगा 5 हजार का जुर्माना, कार चालकों पर होगी कार्रवाई

तृणमूल कांग्रेस के पास जहां सत्ता बरकरार रखने की चुनौती

आपको बता दें कि बंगाल में कांग्रेस को सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस और भाजपा से कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ रहा है। गौरतलब है कि भाजपा इस चुनावी राज्य में तेजी से ताकत के रूप में उभर रही है। अगले साल 294 सदस्यीय बंगाल विधानसभा का चुनाव है। तृणमूल कांग्रेस के पास जहां सत्ता बरकरार रखने की चुनौती है, वहीं कांग्रेस को भी राज्य में अपनी जमीन बरकरार रखनी है। कांग्रेस इस बात को लेकर दुविधा में थी कि वह वाम दलों के साथ जाए या तृणमूल के साथ चुने। हालांकि इसके राज्य के नेता वामपंथियों से अनौपचारिक रूप से बातचीत कर रहे हैं और राज्य में एक साथ कार्यक्रम आयोजित कर रहे हैं।

अगर आप भी हैं PF खाता धारक तो जरूर पढ़ लें यह खबर, EPFO ने कर दिया बड़ा ऐलान

पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव

आपको बता दें कि देश में इस साल ( पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, केरल, पुडुचेरी और असम ) पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं। अन्य राज्यों के साथ ही राजनीतिक दलों का पूरा फोकस पश्चिम बंगाल चुनाव पर टिका हुआ है। हालांकि यहां मुख्य मुकाबला भारतीय जनता पार्टी और सत्ताधारी दल तृणमूल कांग्रेस के बीच माना जा रहा है।

Show More
Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned