script आचार्यश्री विजय कुलबोधि सूरीश्वर महाराज ने बताया जीवन में प्रसन्नता का मंत्र | Acharyashri Vijay Kulbodi Surishwar Maharaj | Patrika News

आचार्यश्री विजय कुलबोधि सूरीश्वर महाराज ने बताया जीवन में प्रसन्नता का मंत्र

locationरतलामPublished: Nov 26, 2023 12:07:39 pm

Submitted by:

Gourishankar Jodha

रतलाम। जीवन में प्रसन्नता का एक ही मंत्र है, आप कैमरे की तरह चीजें जीवन में संग्रहित न करें, आइने की तरह सभी को स्वीकार करें। हम अपने मोबाइल में अच्छी चीज तो सेव करते हैं और बुरी डिलीट कर देते है, लेकिन मन में ऐसा नहीं करते हैं। तनाव से बचने के लिए हमें सिर्फ इतना करना है कि यदि कोई गलती करे तो आप उसे भूल जाएं, मन में गांठ बांधकर न रखें, क्योंकि महाभारत भी दुर्योधन के मन में गांठ बांधे रखने से हुई थी। आज सास-बहू की, पिता-पुत्र की गलती भूलने को तैयार नहीं है। इन्हीं कारणों से हम तनाव में हैं।

patrika
ratlam news
यह विचार आचार्यश्री विजय कुलबोधि सूरीश्वर महाराज ने तेजा नगर में दो दिवसीय विशेष प्रवचन के दौरान व्यक्त किए। आचार्यश्री ने 'यात्रा शुद्धि से सिद्धि की ओरÓ विषय पर विशेष प्रवचन देते हुए कहा कि 21वी सदी में कैंसर, किडनी, अटैक, बीपी से भी खतरनाक बीमारी यदि कोई है तो वह तनाव है और यदि इससे बचना है, तो मन में जमा कचरे को बाहर करना होगा।
बादल बरस कर हल्के होते हैं
आचार्य श्री ने कहा कि यात्रा को सिद्धि की ओर ले जाने के तीन विकल्प

बहते रहना, बरसना है और बोना है। नदी बहती रहती है इसलिए स्वच्छ है, ठीक ऐसे ही हमें अपने मन को नदी की तरह बहता हुआ रखना है। बादल बरस कर हल्के होते हैं, ऐसे ही आप भी प्रेम, शक्ति, संपत्ति, समय जो हो वह देने को राजी हो जाओ, क्योकि हम जो बोते हैं, उसी का उदय होता है।
मोहन टॉकीज में रविवार को विशेष प्रवचन, सोमवार को चातुर्मास परिवर्तन


आचार्यश्री की निश्रा में 26 नवंबर को सैलाना वालों की हवेली, मोहन टॉकीज में "चातुर्मास पूर्ण विराम या अल्पविराम" विषय पर विशेष प्रवचन होंगे। प्रवचन का समय प्रात: 9.15 से 10.30 बजे तक होंगे। 27 नवंबर को जैन कॉलोनी में चातुर्मास परिवर्तन एवं श्री शत्रुंजय तीर्थ की भाव यात्रा का आयोजन होगा। सुबह 6.30 बजे आचार्य श्री गाजे-बाजे के साथ सेठजी का बाजार से चातुर्मास परिवर्तन के लिए प्रस्थान करेंगे। इसके बाद सुबह 7 बजे जैन कालोनी में श्री शत्रुंजय तीर्थ की भाव यात्रा का आयोजन होगा। लाभार्थी श्री जैन कॉलोनी श्री संघ रहेगा। श्री देवसूर तपागच्छ चारथुई जैन श्रीसंघ गुजराती उपाश्रय, श्री ऋषभदेव केशरीमल जैन श्वेताम्बर तीर्थ पेढ़़ी ने धर्मालुजनों से इस अवसर पर अधिक से अधिक संख्या में शामिल होकर धर्मलाभ लेने का आग्रह किया है।

ट्रेंडिंग वीडियो