Breaking अब गरीब रथ ट्रेन में भी मिलेगा खाना, रेलवे कर रहा कोच में ये बड़ा बदलाव

Breaking अब गरीब रथ ट्रेन में भी मिलेगा खाना, रेलवे कर रहा कोच में ये बड़ा बदलाव

By: Ashish Pathak

Published: 15 May 2018, 05:10 AM IST

रतलाम। अब तक गरीब व युवा रथ ट्रेन में रतलाम से बांद्रा व निजामुद्ीन जाने वाले यात्रियों को पैंट्रीकार की समस्या से जुझना होता था। अब ये समस्या रेलवे जून माह से समाप्त करने जा रहा है। जुलाई से बांद्रा-निजामुद्ीन गरीब रथ व बांद्रा-निजामुद्ीन युवा ट्रेन में रेलवे पैंट्रीकार लगाने जा रहा है। इसमे परंपरागत रोटी, सब्जी, चावल व दाल के बजाए हवाई हजाज की तर्ज पर सीमित मात्रा में उच्च गुणवत्तायुक्त व स्वादिष्ट भोजन देने की योजना को मंजूरी मिल गई है। ट्रेन में खानपान की कमान आईआरसीटीसी के निरीक्षकों के हाथ में होगी। फिलहाल मुंबई-रतलाम-अमृतसर गोल्डन टेंपल मेंल ट्रेन में निरीक्षक भोजन की व्यवस्था की कमान संभालते है।

रेलवे जुलाई से नई डिजाइन की पैंट्रीकार लाने जा रहा है। नई श्रेणी की पैंट्रीकार खुली हुई रहेगी। इसके अलावा इसमे सिर्फ भोजन गर्म करने की सुविधा रहेगी। इसके अलावा रेलवे रतलाम से निकलने वाली राजधानी, दुरंतो टे्रन के मैन्यु में भी बदलाव करने जा रहा है। जुलाई माह से इन ट्रेन में भी हवाई जहाज की तरह रेडी टू ईट सेवा शुरू करने जा रहा है।

सुविधाघर हटाकर पैंट्रीकार

गरीब रथ ट्रेन में सुविधाघर को हटाकर मिनी पैंट्रीकार लगने जा रही है। इस प्रयोग के सफल होने पर इसको सभी मेल व एक्सपे्रस ट्रेन में भी लागू कर दिया जाएगा। इसके अलावा भोजन की गुणवत्ता सुधारने के लिए मंडल से निकलने वाली सभी महत्वपूर्ण ट्रेन की पैंट्रीकार में आईआरसीटीसी के निरीक्षक कार्य करेंगे। इनको ये अधिकार होगा की भोजन खराब होने पर चलती ट्रेन में ही ठेकेदार पर आर्थिक दंड लगा सके।

थर्ड पार्टी ऑडिट

इसके अलावा रेलवे भोजन की गुणवत्ता को सुधारने के लिए थर्ड पार्टी ऑडिट भी कराने जा रही है। इतना ही नहीं, इस समय अलग-अलग ट्रेन में पैंट्रीकार में कार्य करने वाले कर्मचारियों की यूनिफॉर्म अलग-अलग है, जुलाई माह से देशभर में एक जैसी यूनिफॉर्म में ये कर्मचारी नजर आएंगे। इसके अलावा प्रत्येक कर्मचारी की यूनिफॉर्म पर नाम भी लिखा होगा।

इससे बड़ा लाभ होगा

मंडल में गरीब रथ व युवा ट्रेन के चलने के दौरान सबसे बड़ी समस्या पेयजल से लेकर अन्य खाद्य पदार्थ की आती हैं। पैंटीकार लगने से बड़ा लाभ ये होगा कि भोजन की समस्या से निजात मिलेगी।

- जेके जयंत, जनसपंर्क अधिकारी, रतलाम रेल मंडल

Show More
Ashish Pathak Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned