scriptLancet Study Reveals 46 Percent Of Children Falling Victim To Long Covid | लॉन्ग कोविड के शिकार हो रहे 46 फीसदी बच्चे, संक्रमण के बाद भी लंबे समय तक पीछा नहीं छोड़ रहा वायरस | Patrika News

लॉन्ग कोविड के शिकार हो रहे 46 फीसदी बच्चे, संक्रमण के बाद भी लंबे समय तक पीछा नहीं छोड़ रहा वायरस

देश में कोरोना वायरस का खतरा लगातार बढ़ रहा है। कई राज्यों में स्थिति एक बार बिगड़ने लगी है। इस बीच एक और बड़ी खबर ने चिंता और बढ़ा दी है। एक स्टडी में खुलासा हुआ है कि 46 फीसदी बच्चे लॉन्ग कोविड के शिकार हो रहे हैं।

नई दिल्ली

Published: June 23, 2022 02:55:51 pm

देश में कोरोना वायरस का खतरा अभी टला नहीं है। रोजाना कोविड-19 के मामलों में तेजी देखने को मिल रही है। कुछ राज्यों में एक बार फिर हालात चिंताजनक बनते जा रहे हैं। इस बीच एक और बड़ी खबर ने हलचल बढ़ा दी है। दरअसल एक स्टडी में खुलासा हुआ है कि 46 फीसदी बच्चे लॉन्ग कोविड के शिकार हो रहे हैं। यानी लंबे समय तक कोरोना संक्रमण बच्चों का पीछा नहीं छोड़ रहा है। दरअसल ये स्टडी साइंस जर्नल लैंसेट ने की है। इस शोध के मुताबिक, संक्रमण से ठीक होने के बाद भी 46 फीसदी बच्चों में लॉन्ग कोविड के लक्षण दिख रहे हैं।
Lancet Study Reveals 46 Percent Of Children Falling Victim To Long Covid
Lancet Study Reveals 46 Percent Of Children Falling Victim To Long Covid
इतने दिनों तक चपेट में रख रहा संक्रमण
स्टडी में सामने आया है कि कोरोना संक्रमण से ठीक होने के बाद कम से कम दो महीनों यानी 60 दिनों तक लॉन्ग कोविड के लक्षण दिख रहे हैं।

कहां हुई स्टडी
ये स्टडी डेनमार्क में की गई। इस दौरान 14 साल तक के बच्चों पर विशेष शोध किया गया है। इस स्टडी में 11 हजार से ज्यादा ऐसे बच्चों को शामिल किया था, जो कोरोना संक्रमित हो चुके थे। इनके अलावा 33 हजार से ज्यादा उन बच्चों को शामिल किया गया था, जिन्हें कभी कोरोना नहीं हुआ था।

यह भी पढ़ें

कोरोना की सुपरस्पीड: यहां एक दिन में कोविड के इतने नए मामले आए सामने

एज ग्रुप के मुताबिक अलग-अलग दिक्कतें
स्टडी में हुए खुलासे के मुताबिक अलग-अलग एज ग्रुप के बच्चों में अलग-अलग दिक्कतें सामने आईं। जैसे
- 3 साल तक के बच्चों में मूड स्विंग्स, चकत्ते पड़ना और पेट में दर्द जैसी समस्या बनी हुई थी।
- 4 से 11 साल की उम्र बच्चों में मूड स्विंग्स, ध्यान नहीं लगा पाना और चकत्ते पड़ने जैसी समस्या थी।
- 12 से 14 साल की उम्र के बच्चे थकान, मूड स्विंग्स और ध्यान नहीं लगा पाने की समस्या से जूझ रहे थे।
- स्टडी के मुताबिक, 3 साल तक के 40 फीसदी बच्चे ऐसे थे, जिन्हें दो महीने और उससे ज्यादा समय तक लॉन्ग कोविड के लक्षण थे।
- 4 से 11 साल की उम्र के 38 फीसदी बच्चों में लॉन्ग कोविड बना हुआ था।
- 12 से 14 साल के 46 फीसदी बच्चों में दो महीने या उसके बाद भी लक्षण थे।
सबसे ज्यादा मिले ये लक्षण
स्टडी के मुताबिक, बच्चों में आमतौर पर जो लक्षण सबसे ज्यादा दिखे उनमें मूड स्विंग्स, थकान, सिरदर्द और पेट दर्द जैसी समस्या शामिल है।

एक तिहाई बच्चों में ये समस्या
शोधकर्ताओं की मानें तो कोविड संक्रमित एक तिहाई बच्चों में अब ऐसी समस्याएं भी दिख रहीं हैं, जो कोरोना के आने से पहले नहीं होती थी।
क्या होता है लॉन्ग कोविड?
इस सर्वे के जरिए लॉन्ग कोविड के 23 लक्षणों को लेकर सवाल किया गया था। विश्व स्वास्थ्य संगठन ( World Health Organistaion ) के मुताबिक, कोविड से ठीक होने के बाद भी अगर कम से कम दो महीने तक एक भी लक्षण बना रहता है, तो उसे लॉन्ग कोविड माना जाता है।

यह भी पढ़ें

Lancet study: टाइफाइड बुखार हुआ और खतरनाक, एंटीबायोटिक भी हो रहा अब बेअसर, भारत के लिए बढ़ा रिस्क

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान में 26 से फिर होगी झमाझम बारिश, यहां बरसेगी मेहरबुध ने रोहिणी नक्षत्र में किया प्रवेश, 4 राशि वालों के लिए धन और उन्नति मिलने के बने योगबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयपनीर, चिकन और मटन से भी महंगी बिक रही प्रोटीन से भरपूर ये सब्जी, बढ़ाती है इम्यूनिटीबेहद शार्प माइंड के होते हैं इन राशियों के बच्चे, सीखने की होती है अद्भुत क्षमतानोएडा में पूर्व IPS के घर इनकम टैक्स की छापेमारी, बेसमेंट में मिले 600 लॉकर से इतनी रकम बरामदझगड़ते हुए नहर पर पहुंचा परिवार, पहले पिता और उसके बाद बेटा नहर में कूदा3 हजार करोड़ रुपए से जबलपुर बनेगा महानगर, ये हो रही तैयारी

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: शरद पवार से मुलाकात के बाद संजय राउत के तेवर सख्त, बोले-फ्लोर टेस्ट में जीतेंगे, बागियों से बातचीत का निकल गया वक्तMaharashtra Political Crisis: केंद्रीय मंत्री रावसाहेब दानवे ने उद्धव सरकार पर कसा तंज, बोले-ये लोग आपस में झगड़ कर खुद गिरा लेंगे सरकारMaharashtra Political Crisis: गुवाहटी के होटल में विधायकों पर पानी की तरह बहाया जा रहा पैसा, जानिए रहने और खाने पर कितना हो रहा खर्चPresidential Election: द्रौपदी मुर्मू ने दाखिल किया राष्ट्रपति पद के लिए नामांकन, जगन मोहन रेड्डी और पटनायक के समर्थन से जीत तयगुजरात दंगाः जाकिया जाफरी को सुप्रीम कोर्ट से बड़ा झटका, SIT की क्लीन चिट के खिलाफ याचिका खारिजवरुण गांधी ने एक बार फिर भाजपा पर उठाया सवाल कहा, अग्निवीर पेंशन के हकदार नही हैं तो जनप्रतिनिधियों को यह ‘सहूलियत’ क्यों?दिल्ली सरकार का बड़ा फैसला, अब सरकारी दफ्तरों में बंद होगा फिजिकल फाइल सिस्टम, जानिए कैसे चलेगा काम?उत्तर कर्नाटक को अलग राज्य बनाने की नहीं कोई योजना : सीएम बसवराज बोम्मई
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.