श्रावस्ती में ऑटोलिफ्टर गैंग का खुलासा, चोरी की 12 मोटरसाइकिलें बरामद, तीन गिरफ्तार

- टीम को एसपी ने दिया 15000 का इनाम

By: Mahendra Pratap

Published: 28 Mar 2021, 06:06 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

श्रावस्ती. मल्हीपुर पुलिस ने ऑटोलिफ्टर गैंग का खुलासा किया है। इस दौरान पुलिस ने ऑटोलिफ्टर गैंग के तीन सदस्यों को गिरफ्तार किया है। जिनकी निशानदेही पर चोरी की 12 मोटरसाइकिलें बरामद की गई हैं। पकड़े गए तीनों युवक मल्हीपुर थाना क्षेत्र के बताए जा रहे हैं। फिलहाल पुलिस ने तीनों के खिलाफ सुसंगत धाराओं में मामला दर्जकर सभी को जेल भेज दिया है। वहीं पुलिस अधीक्षक अरविंद कुमार मौर्य ने टीम को 15000 रुपए नगद पुरस्कार भी दिया है।

यूपी ग्राम पंचायत चुनाव में फिर लगा ग्रहण, हाईकोर्ट में दखिल हुई पुनर्विचार याचिका

पुलिस अधीक्षक अरविन्द कुमार मौर्य ने अपराध पर अंकुश लगाने के लिए जिले के सभी थानाध्यक्षों को मुस्तैद कर दिया है। मल्हीपुर प्रभारी निरीक्षक दद्दन सिंह अपने हमराहियों के साथ कानीबोझी चौराहे पर चेकिंग कर रहे थे। जहां उन्हें मुखबिर से सूचना मिली कि तीन अज्ञात व्यक्ति चोरी की मोटरसाइकिल के साथ डिलवा स्कूल के सामने से जाने वाले रास्ते से होकर नेपाल जा रहे है। इसकी सूचना मिलते ही प्रभारी निरीक्षक अपने हमराहियों के साथ मुखबिर के बताये स्थान पर पहुंच गए और घेराबन्दी की। कुछ देर बाद तीन व्यक्ति तीन मोटरसाइकिल पर आते हुए दिखाई दिये। तीनों जब नजदीक आए तोर पुलिस को देख कर भागने लगे। जिन्हें पुलिस ने घेरकर पकड़ लिया।

कई चोरी की बाइकों को कराया बरामद :- तीनों से गाड़ी के कागजात मांगने ओर उनके आनाकानी करने पर उनसे कड़ाई से पूछताछ करने पर पता चला कि ये सभी मोटरसाइकिलें चोरी की हैं। और इसके साथ ही उन्होंने बताया कि चोरी की नौ और बाइकें एक स्थान पर रखी हैं। जिन्हें उनकी निशानदेही पर पुलिस ने बरामद कर लिया। पकड़े गए आरोपियों में अखलाख उर्फ नेता पुत्र हबीब खां निवासी बधनी दाखिला मकुनी झिरझिरवा थाना मल्हीपुर, मोहिद खां पुत्र रग्घू खां निवासी रोशनपुरवा थाना मल्हीपुर और सारिफ खान पुत्र आरिफ खान निवासी बदला चौराहा थाना मल्हीपुर शामिल हैं।

एसपी से मिला इनाम :- फिलहाल पुलिस ने सभी के खिलाफ मामला दर्जकर उन्हें जेल भेज दिया है। वहीं पुलिस अधीक्षक अरविंद कुमार मौर्य ने इस सराहनीय कार्य के लिए प्रभारी निरीक्षक दद्दन सिंह व उनकी टीम को 15000 रुपए का नगद इनाम भी दिया है।

Mahendra Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned