scriptकालदां के जंगलों में वन्यजीव की दहाड़,पता लगाने के लिए लगाए फोटोट्रेप कैमरे | Patrika News
खास खबर

कालदां के जंगलों में वन्यजीव की दहाड़,पता लगाने के लिए लगाए फोटोट्रेप कैमरे

रामगढ विषधारी टाइगर रिजर्व के बफर जोन में इन दिनों वन्यजीवों की गतिविधियां बढ़ गई है। दो दिनों से वन क्षेत्र में दो जंगली सुअरों के शिकार की घटनाओं से वन विभाग सतर्क हो गया है तथा जंगल में गश्त बढ़ा दी है।

बूंदीJun 07, 2024 / 07:01 pm

पंकज जोशी

गुढ़ानाथावतान. रामगढ विषधारी टाइगर रिजर्व के बफर जोन में इन दिनों वन्यजीवों की गतिविधियां बढ़ गई है। दो दिनों से वन क्षेत्र में दो जंगली सुअरों के शिकार की घटनाओं से वन विभाग सतर्क हो गया है तथा जंगल में गश्त बढ़ा दी है। जानकारी के अनुसार बुधवार व गुरुवार को उमरथुना के कुछ ग्रामीण पहाड़ी इलाके में स्थित कैकत्या महादेव स्थान के प्राकृतिक जलस्रोत की साफ सफाई करने के लिए गए थे। इस दौरान ग्रामीणों को किसी वन्यजीव के दहाड़ने की आवाज सुनाई दी।
मौके पर दो अलग अलग जगहों पर जंगली सुअरों का शिकार किया हुआ था। ग्रामीण सोनू मीणा ने बताया कि जंगली सुअरों को किसी वन्यजीव द्वारा खाया हुआ है। ग्रामीणों ने वन्यजीव की गतिविधियों की सूचना वन विभाग को दी है। वन सुरक्षा समिति उमरथुना के अध्यक्ष मदन गोपाल मीणा ने बताया कि कालदां के जंगल में टाइगर व पैंथर दोनों का मूवमेंट हो सकता है। वयस्क जंगली सूअर का शिकार अक्सर टाइगर ही कर सकता है ऐसे में आशंका है कि इस क्षेत्र में बाघ का मूवमेंट हो।
सूचना पर वन विभाग के कर्मचारी गुरुवार शाम को मौके पर पंहुचे तथा वन्यजीव की पहचान के लिए फोटोट्रेप कैमरे लगाए। गौरतलब है कि पूर्व में भी वन्यजीव ने शाहपुरा व उमरथुना गांव में आकर बाड़े में बंधे गोवंश का शिकार किया था। ग्रामीणों ने वन विभाग से कई बार वन्यजीव के आबादी क्षेत्र में आने की शिकायत की, लेकिन उन्होंने कोई ध्यान नहीं दिया।
जंगल में भूख से भटकने को मजबूर है बाघ-बघेरे
जिले में रामगढ़ विषधारी टाइगर रिजर्व बनने के साथ ही बाघ-बघेरे भी बढ़ने लगे है, लेकिन उस अनुपात में जंगल में पर्याप्त शिकार व पेयजल स्रोत नहीं बढ़े है। टाइगर रिजर्व के कोर क्षेत्र में तो बाहर से चीतल व सांभर लाकर छोड़े गए हैं, लेकिन बफर क्षेत्र पर किसी का ध्यान नहीं है। देवझर महादेव से भीमलत महादेव तक फैला जंगल वन्यजीवों के लिहाज से काफी समृद्ध एवं निर्जन वन क्षेत्र है। यहां दो दर्जन से अधिक पैंथर मौजूद है, जो भोजन की तलाश में भटकने को मजबूर हैं।
रामगढ़ विषधारी टाइगर रिजर्व के बफर जोन के कैकत्या महादेव क्षेत्र में जंगली सूअरों के शिकार की सूचना पर वहां फोटोट्रेप कैमरे लगा दिए है तथा गश्त बढ़ा दी है। लोगों को भी सतर्क रहने के निर्देश दिए गए हैं।
डॉ. दीपक जासू, क्षेत्रीय वन अधिकारी, बूंदी

Hindi News/ Special / कालदां के जंगलों में वन्यजीव की दहाड़,पता लगाने के लिए लगाए फोटोट्रेप कैमरे

ट्रेंडिंग वीडियो