लालगढ़ बस स्टेंड के नमावा से निर्मित सेंडविच के नमूने फेल

Krishan Ram | Updated: 12 Oct 2019, 05:17:32 PM (IST) Sri Ganganagar, Sri Ganganagar, Rajasthan, India

लालगढ़ बस स्टेंड के नमावा से निर्मित सेंडविच के नमूने फेल

श्रीगंगानगर. स्वास्थ्य विभाग की टीम ने अगस्त में चार बड़ी कार्रवाई करते हुए खाद्य पदार्थों की जांच की थी। अब आई जांच रिपोर्ट में लालगढ़ स्थित गोपाल स्वीट्स पर मावा से निर्मित सेंडविच की मिठाई का नमूना फेल हो गया। जांच रिपोर्ट में सेंडविच की मिठाई खाने योग्य नहीं पाई गई। इसके अलावा तीन अन्य नमूने कई मिस ब्रांड, सब स्टैंडर्ड व सरसों का तेल खुले में नहीं बेचान करने की रिपोर्ट आई है। फूड इंस्पेक्टर हरिराम वर्मा ने कहा कि अब इनके खिलाफ अतिरिक्त जिला कलक्टर प्रशासन के समक्ष प्रकरण बनाकर पेश किया जाएगा।
नमूने लिए, इनकी आई रिपोर्ट

लालगढ़ बस स्टेंड के नजदीक स्थित गोपाल स्वीट्स पर मावा से निर्मित मिठाई को लेकर कुछ सूचनाएं मिली थी। जिस पर आठ अगस्त को टीम ने गोपाल स्वीट्स पर कार्रवाई की। यहां से मावा व मावा निर्मित मिठाई सेंडविच के दो सैंपल लिए। जांच रिपोर्ट में यह सैंपल फेल हुआ है।

सब स्टैंडर्ड
आठ अगस्त को गोल बाजार स्थित नागपाल मैंगो बार पर विभाग की टीम ने दबिश दी थी। यहां बिना बैच, बिना उत्पादन व समाप्ति तिथि की आइसक्रीम बेचान की सूचना मिली। उसके रोहित उद्योग स्थित फैक्ट्री पर छापा मारा गया। जहां आइसक्रीम तैयार की जा रही थी। यहां विभाग ने आइसक्रीम का सैंपल लेते हुए बॉक्स आदि जब्त किए। इसके साथ ही तैयार माल को मौके पर ही विक्रय निषेध करते हुए फैक्ट्री को सील की किया था ।

जांच रिपोर्ट--सब स्टैंडर्ड की पुष्टि। मिस ब्रांड---11 अगस्त को जिला मुख्यालय पर बीरबल चौक स्थित न्यू गंगा पनीर हाउस पर पनीर का सैंपल लिया गया। यहां खुले में बेचे जा रहे घी के संबंध में पूछताछ की गई तो जानकारी मिली कि घी पास ही स्थित अरोड़वंश मार्किट की प्रेम डेयरी से लाया जाता है और बेचान करते हैं। इस पर प्रेम डेयरी व उसके सामने स्थित एक गोदाम का निरीक्षण किया। जहां ब्रांडेड घी से स्थानीय स्तर पर घी तैयार कर बेचान करते हुए मिला। इस पर यहां रखे घी को जब्त करते हुए सील कर दिया गया। घी का नकली होने के संदेह में सैंपल लिया गया। इन ब्रांडेड घी में केवल डेयरी डायमंड का एगमार्क मिला, अन्य का एगमार्क नहीं मिला।
जांच रिपोर्ट--मिस ब्रांड मिला।

खुला नहीं बेच सकते तेल--16 अगस्त को शहर की पुरानी आबादी के बीएसएनएल टावर मार्ग पर वार्ड नंबर 11 में स्थित जय हनुमान एंटरप्राईजेज (टे्रडिंग कंपनी) पर खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत कार्रवाई की गई। निरीक्षण में यहां तीन बड़े केन सहित छोटे ड्रम व अन्य सामग्री में करीब 50 हजार लीटर तेल मिला। जिसकी बाजार कीमत करीब 40 लाख रुपए आंकी गई है। इसमें पाम ऑयल, राइस व सरसों को तेल मिला। तीनों ही तेल के एक-एक सैंपल लिए गए।

-जांच रिपोर्ट- सैंपल पास हुए लेकिन लैब की रिपोर्ट में कहा गया कि खुले तेल की ब्रिकी नहीं की जा सकता है।

चिकित्सा विभाग की खुली नींद,दो दिन में लिए छह नमूने
श्रीगंगानगर. चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग मिलावट पर अंकुश लगाने के लिए बड़े-बड़े दावे करता है जबकि जमीनी सच्चाई तो यह है कि विभाग ने दशहरा पर्व पर मिलावट पर अकुंश लगाने के लिए एक भी कार्रवाई नहीं की। पत्रिका ने इस मुद्दे को प्रमुखता से उठाया तो अब विभाग की नींद खुली है। गुरुवार व शुक्रवार को फूड इंस्पेक्टर हरिराम वर्मा ने तीन-तीन नमूने लिए हैं। पदमपुर से एक पनीर का बेली पनीर हाउस,एक सैंपल कलाकंद का श्री खेतेश्वर मिष्ठान भंडार से लिया है। एक सैंपल सरसों का तेल चार चिराग ब्रांउ का शिव शंकर किराना स्टोर से लिया गया है। उल्लेखनीय है कि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग जयपुर के निदेशक ने तीन अक्टूबर से भाईदूज तक मिलावट पर अकुंश लगाने के लिए जिले भर में अभियान चलाने के लिए निर्देश जारी किए हैं। अभियान को चले छह दिन बीत गए लेकिन श्रीगंगानगर जिले में दशहरा पर्व पर भी खाद्य पदार्थों की जांच नहीं की गई।

वर्जन

विभाग का फूड इंस्पेक्टर दो दिन से खाद्य पदार्थों की जांच के लिए नमूने लेने की कार्रवाई कर रहे है। पहले जो नमूने अनसेफ की पुष्टि हुई है और कुछ के मिस ब्रांड है इनके खिलाफ प्रकरण बनाकर एडीएम के समक्ष प्रकरण पेश किया जाएगा। वहां पर इनके खिलाफ जुर्माना आदि की कार्रवाई क
ी जाएगी।

-गिरधारी लाल मेहरड़ा, सीएमएचओ, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग, श्रीगंगानगर। जमावा से निर्मित सेंडविच के नमूने फेल

श्रीगंगानगर. स्वास्थ्य विभाग की टीम ने अगस्त में चार बड़ी कार्रवाई करते हुए खाद्य पदार्थों की जांच की थी। अब आई जांच रिपोर्ट में लालगढ़ स्थित गोपाल स्वीट्स पर मावा से निर्मित सेंडविच की मिठाई का नमूना फेल हो गया। जांच रिपोर्ट में सेंडविच की मिठाई खाने योग्य नहीं पाई गई। इसके अलावा तीन अन्य नमूने कई मिस ब्रांड, सब स्टैंडर्ड व सरसों का तेल खुले में नहीं बेचान करने की रिपोर्ट आई है। फूड इंस्पेक्टर हरिराम वर्मा ने कहा कि अब इनके खिलाफ अतिरिक्त जिला कलक्टर प्रशासन के समक्ष प्रकरण बनाकर पेश किया जाएगा।
नमूने लिए, इनकी आई रिपोर्ट

लालगढ़ बस स्टेंड के नजदीक स्थित गोपाल स्वीट्स पर मावा से निर्मित मिठाई को लेकर कुछ सूचनाएं मिली थी। जिस पर आठ अगस्त को टीम ने गोपाल स्वीट्स पर कार्रवाई की। यहां से मावा व मावा निर्मित मिठाई सेंडविच के दो सैंपल लिए। जांच रिपोर्ट में यह सैंपल फेल हुआ है।

सब स्टैंडर्ड
आठ अगस्त को गोल बाजार स्थित नागपाल मैंगो बार पर विभाग की टीम ने दबिश दी थी। यहां बिना बैच, बिना उत्पादन व समाप्ति तिथि की आइसक्रीम बेचान की सूचना मिली। उसके रोहित उद्योग स्थित फैक्ट्री पर छापा मारा गया। जहां आइसक्रीम तैयार की जा रही थी। यहां विभाग ने आइसक्रीम का सैंपल लेते हुए बॉक्स आदि जब्त किए। इसके साथ ही तैयार माल को मौके पर ही विक्रय निषेध करते हुए फैक्ट्री को सील की किया था ।

जांच रिपोर्ट--सब स्टैंडर्ड की पुष्टि। मिस ब्रांड---11 अगस्त को जिला मुख्यालय पर बीरबल चौक स्थित न्यू गंगा पनीर हाउस पर पनीर का सैंपल लिया गया। यहां खुले में बेचे जा रहे घी के संबंध में पूछताछ की गई तो जानकारी मिली कि घी पास ही स्थित अरोड़वंश मार्किट की प्रेम डेयरी से लाया जाता है और बेचान करते हैं। इस पर प्रेम डेयरी व उसके सामने स्थित एक गोदाम का निरीक्षण किया। जहां ब्रांडेड घी से स्थानीय स्तर पर घी तैयार कर बेचान करते हुए मिला। इस पर यहां रखे घी को जब्त करते हुए सील कर दिया गया। घी का नकली होने के संदेह में सैंपल लिया गया। इन ब्रांडेड घी में केवल डेयरी डायमंड का एगमार्क मिला, अन्य का एगमार्क नहीं मिला।
जांच रिपोर्ट--मिस ब्रांड मिला।

खुला नहीं बेच सकते तेल--16 अगस्त को शहर की पुरानी आबादी के बीएसएनएल टावर मार्ग पर वार्ड नंबर 11 में स्थित जय हनुमान एंटरप्राईजेज (टे्रडिंग कंपनी) पर खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत कार्रवाई की गई। निरीक्षण में यहां तीन बड़े केन सहित छोटे ड्रम व अन्य सामग्री में करीब 50 हजार लीटर तेल मिला। जिसकी बाजार कीमत करीब 40 लाख रुपए आंकी गई है। इसमें पाम ऑयल, राइस व सरसों को तेल मिला। तीनों ही तेल के एक-एक सैंपल लिए गए।

-जांच रिपोर्ट- सैंपल पास हुए लेकिन लैब की रिपोर्ट में कहा गया कि खुले तेल की ब्रिकी नहीं की जा सकता है।

चिकित्सा विभाग की खुली नींद,दो दिन में लिए छह नमूने
श्रीगंगानगर. चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग मिलावट पर अंकुश लगाने के लिए बड़े-बड़े दावे करता है जबकि जमीनी सच्चाई तो यह है कि विभाग ने दशहरा पर्व पर मिलावट पर अकुंश लगाने के लिए एक भी कार्रवाई नहीं की। पत्रिका ने इस मुद्दे को प्रमुखता से उठाया तो अब विभाग की नींद खुली है। गुरुवार व शुक्रवार को फूड इंस्पेक्टर हरिराम वर्मा ने तीन-तीन नमूने लिए हैं। पदमपुर से एक पनीर का बेली पनीर हाउस,एक सैंपल कलाकंद का श्री खेतेश्वर मिष्ठान भंडार से लिया है। एक सैंपल सरसों का तेल चार चिराग ब्रांउ का शिव शंकर किराना स्टोर से लिया गया है। उल्लेखनीय है कि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग जयपुर के निदेशक ने तीन अक्टूबर से भाईदूज तक मिलावट पर अकुंश लगाने के लिए जिले भर में अभियान चलाने के लिए निर्देश जारी किए हैं। अभियान को चले छह दिन बीत गए लेकिन श्रीगंगानगर जिले में दशहरा पर्व पर भी खाद्य पदार्थों की जांच नहीं की गई।

विभाग का फूड इंस्पेक्टर दो दिन से खाद्य पदार्थों की जांच के लिए नमूने लेने की कार्रवाई कर रहे है। पहले जो नमूने अनसेफ की पुष्टि हुई है और कुछ के मिस ब्रांड है इनके खिलाफ प्रकरण बनाकर एडीएम के समक्ष प्रकरण पेश किया जाएगा। वहां पर इनके खिलाफ जुर्माना आदि की कार्रवाई की जाएगी।

-गिरधारी लाल मेहरड़ा, सीएमएचओ, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग, श्रीगंगानगर। दीक स्थित गोपाल स्वीट्स पर मावा से निर्मित मिठाई को लेकर कुछ सूचनाएं मिली थी। जिस पर आठ अगस्त को टीम ने गोपाल स्वीट्स पर कार्रवाई की। यहां से मावा व मावा निर्मित मिठाई सेंडविच के दो सैंपल लिए। जांच रिपोर्ट में यह सैंपल फेल हुआ है।

सब स्टैंडर्ड
आठ अगस्त को गोल बाजार स्थित नागपाल मैंगो बार पर विभाग की टीम ने दबिश दी थी। यहां बिना बैच, बिना उत्पादन व समाप्ति तिथि की आइसक्रीम बेचान की सूचना मिली। उसके रोहित उद्योग स्थित
फैक्ट्री पर छापा मारा गया। जहां आइसक्रीम तैयार की जा रही थी। यहां विभाग ने आइसक्रीम का सैंपल लेते हुए बॉक्स आदि जब्त किए। इसके साथ ही तैयार माल को मौके पर ही विक्रय निषेध करते हुए फैक्ट्री को सील की किया था ।

जांच रिपोर्ट--सब स्टैंडर्ड की पुष्टि। मिस ब्रांड---11 अगस्त को जिला मुख्यालय पर बीरबल चौक स्थित न्यू गंगा पनीर हाउस पर पनीर का सैंपल लिया गया। यहां खुले में बेचे जा रहे घी के संबंध में पूछताछ की गई तो जानकारी मिली कि घी पास ही स्थित अरोड़वंश मार्किट की प्रेम डेयरी से लाया जाता है और बेचान करते हैं। इस पर प्रेम डेयरी व उसके सामने स्थित एक गोदाम का निरीक्षण किया। जहां ब्रांडेड घी से स्थानीय स्तर पर घी तैयार कर बेचान करते हुए मिला। इस पर यहां रखे घी को जब्त करते हुए सील कर दिया गया। घी का नकली होने के संदेह में सैंपल लिया गया। इन ब्रांडेड घी में केवल डेयरी डायमंड का एगमार्क मिला, अन्य का एगमार्क नहीं मिला।
जांच रिपोर्ट--मिस ब्रांड मिला।

खुला नहीं बेच सकते तेल--16 अगस्त को शहर की पुरानी आबादी के बीएसएनएल टावर मार्ग पर वार्ड नंबर 11 में स्थित जय हनुमान एंटरप्राईजेज (टे्रडिंग कंपनी) पर खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत कार्रवाई की गई। निरीक्षण में यहां तीन बड़े केन सहित छोटे ड्रम व अन्य सामग्री में करीब 50 हजार लीटर तेल मिला। जिसकी बाजार कीमत करीब 40 लाख रुपए आंकी गई है। इसमें पाम ऑयल, राइस व सरसों को तेल मिला। तीनों ही तेल के एक-एक सैंपल लिए गए।

-जांच रिपोर्ट- सैंपल पास हुए लेकिन लैब की रिपोर्ट में कहा गया कि खुले तेल की ब्रिकी नहीं की जा सकता है।

चिकित्सा विभाग की खुली नींद,दो दिन में लिए छह नमूने
श्रीगंगानगर. चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग मिलावट पर अंकुश लगाने के लिए बड़े-बड़े दावे करता है जबकि जमीनी सच्चाई तो यह है कि विभाग ने दशहरा पर्व पर मिलावट पर अकुंश लगाने के लिए एक भी कार्रवाई नहीं की। पत्रिका ने इस मुद्दे को प्रमुखता से उठाया तो अब विभाग की नींद खुली है। गुरुवार व शुक्रवार को फूड इंस्पेक्टर हरिराम वर्मा ने तीन-तीन नमूने लिए हैं। पदमपुर से एक पनीर का बेली पनीर हाउस,एक सैंपल कलाकंद का श्री खेतेश्वर मिष्ठान भंडार से लिया है। एक सैंपल सरसों का तेल चार चिराग ब्रांउ का शिव शंकर किराना स्टोर से लिया गया है। उल्लेखनीय है कि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग जयपुर के निदेशक ने तीन अक्टूबर से भाईदूज तक मिलावट पर अकुंश लगाने के लिए जिले भर में अभियान चलाने के लिए निर्देश जारी किए हैं। अभियान को चले छह दिन बीत गए लेकिन श्रीगंगानगर जिले में दशहरा पर्व पर भी खाद्य पदार्थों की जांच नहीं की गई।

विभाग का फूड इंस्पेक्टर दो दिन से खाद्य पदार्थों की जांच के लिए नमूने लेने की कार्रवाई कर रहे है। पहले जो नमूने अनसेफ की पुष्टि हुई है और कुछ के मिस ब्रांड है इनके खिलाफ प्रकरण बनाकर एडीएम के समक्ष प्रकरण पेश किया जाएगा। वहां पर इनके खिलाफ जुर्माना आदि की कार्रवाई की जाएगी।

-गिरधारी लाल मेहरड़ा, सीएमएचओ, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग, श्रीगंगानगर।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned