छत्तीसगढ़ में बढ़ा अवैध उत्खनन, पडोसी राज्य ओडिशा, तेलंगाना व आंध्रा में पहुंच रही है रेत

छत्तीसगढ़ में बढ़ा अवैध उत्खनन, पडोसी राज्य ओडिशा, तेलंगाना व आंध्रा में पहुंच रही है रेत

Deepak Sahu | Publish: Mar, 17 2019 02:31:19 PM (IST) | Updated: Mar, 17 2019 02:31:20 PM (IST) Sukma, Sukma, Chhattisgarh, India

ऐसे में जिले के जंगलों में अन्य अवैध गतिविधियों के साथ अवैध खनन को भी बखूबी अंजाम दिया जा रहा है।

सुकमा. छत्तीसगढ़ के कोंटाए सुकमा, दोरनापाल क्षेत्रों में दिन दहाड़े खुलेआम रेत व मुरूम गिटटी का अवैध उत्खनन कर अंर्तराज्यीय रेत की तस्करी की जा रही है। इसकी जानकारी स्थानीय प्रशासन सहित संबंधित विभाग को होने के बाद भी जिम्मेदार लाचार बने बैठे हैं। ऐसे में जिले के जंगलों में अन्य अवैध गतिविधियों के साथ अवैध खनन को भी बखूबी अंजाम दिया जा रहा है। जिले में वन क्षेत्र अंतर्गत जमीनों, पहाडिय़ों का नूर बिगाड़ा जा रहा है। वही नदियों से रेत निकाल कर रेत माफियों द्वारा रेत की पड़ोसियों राज्यों में भारी मात्रा में तस्करी की जा रही हैं। इस पूरे कारगुजारी की जानकारी संबंधित विभाग को होने के बाद भी वह मौन है और कार्रवाई शून्य है।

बुड़दी पंचायत, दोरनापाल, कोंटा के नदी इलाकों में शबरी नदी के तट पर इन दिनों अवैध उत्खनन के लिए जेसीबी चल रही है। नगर से करीब 20 किमी दूर स्थित शबरी नदी के किनारे में दिन-रात ठेकेदारों के जेसीबी चल रही है। हर दिन रेत का अवैध रूप से उत्खनन किया जा रहा है। बिना पर्यावरण विभाग व खनिज विभाग के अनुमति के बिना क्षेत्र में रेत सहित मुरूम, गिट्टी का अवैध उत्खनन धड़ल्ले से किया जा रहा है। जिसकी खबर विभाग को होने के बाद भी संबंधित विभाग रेत उत्खनन करने वालों को संरक्षण दे रहा है।

नहीं हो रहा मुख्य सचिव के आदेश का पालन : जिले में प्रदेश के मुख्य सचिव सहित पर्यावरण व न्यायालय के आदेश के बाद भी उत्खनन जोरो पर। रेत उत्खनन के लिए नदियों से रेत निकालने के लिए पर्यावरण से अनुमति होना आवश्यक है।लेकिन अवैध उत्खनन पर प्रतिबंध लगने के एक माह होने के बावजूद भी जिले में अवैध रेत उत्खनन धड़ल्ले से हो रहा है।जिले में नदियों से पर्यावरण विभाग से अनुमति के बिना रेत निकाली जा रही हैं और पड़ोसी राज्यो में सप्लाई हो रही हैं ।

अवैध ठिकानों की विभाग को खबर
जिले भर में जहां-जहां अवैध उत्खनन हो रहा है उसकी पूरी खबर खनिज विभाग को होने के बाद भी कार्रवाई अब तक शुन्य रही। विभाग के संरक्षण में लगातार इन ठिकानों बुड़दी शबरी नदी, दोरनापाल में शबरी नदी व कोन्टा में नदीं से भारी मात्रा में रेत निकालकर टिप्परों से परिवहन किया जा रहा हैं । इससे नदियों का स्वरूप बिगड़ रहा है। जिले के जंगलों व पहाडों से मिट्टी, मुरूम, गिटटी वन भूमि व राजस्व भूमि से निकाल कर ट्रेक्टरों से शहर सहित आस-पास के कार्यों में खपत किया जा रहा है।

आदेश की अवहेलना
जिले में लगातार हो रहे रेत का उत्खनन थमने का नाम नहीं ले रहा है।अवैध उत्खनन मामले में प्रदेश के मुख्य सचिव का इस संबंध में जिला प्रशासन को व पुलिस प्रशासन को सक्त निर्देश है कि किसी भी हाल में रेत व गिट्टी का अवैध उत्खनन नहीं होना चाहिए। उसके बाद जिले में चल रहा उत्खनन मुख्य सचिव के आदेश को ठेंगा दिखा रहा है।

जिला कलेक्टर चन्दनकुमार ने कहा कि पड़ोसी राज्यो में सुकमा से नियम विरोध रेती का परिवहन हो रहा हैं तो खनिज विभाग के नियम के तहत कार्रवाई होगी। प्रशासन रेती के अवैध कारोबार को लेकर सख्त हैं।अवैध रेत को लेकर कार्रवाई होगी।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned