महिला और बच्चे की शिनाख्त के लिए सोशल मीडिया का सहारा

अठारह दिन पहले डिंडोली में प्लास्टिक के बोरे में मिले थे शव

पहचान बताने वाले को इनाम की घोषणा

By: Sanjeev Kumar Singh

Published: 06 Jun 2018, 09:38 PM IST

सूरत.

डिंडोली थाना क्षेत्र के सणिया गांव में हत्या के बाद बोरे में बंद कर डाले गए महिला और बालक के शवों की 18 दिन बाद भी शिनाख्त नहीं हो पाई है। पुलिस उनकी शिनाख्त के लिए सोशल मीडिया का सहारा ले रही है। साथ ही पुलिस ने दोनों की पहचान बताने वाले को इनाम देने की घोषणा की है।
डिंडोली थाना प्रभारी वी.एम. मकवाणा ने बताया कि स्थानीय स्तर पर प्रयास के बाद महिला और बालक से जुड़ी जानकारी सूरत शहर तथा जिले के विभिन्न थानों के साथ स्टेट कंट्र्र्रोल को भी भेजी गई थी, लेकिन कहीं से उनके बारे में पुख्ता जानकारी नहीं मिली। शिनाख्त के लिए विशेष पैम्पलेेट तैयार करवाए गए हैं। इनमें महिला और बालक के शवों पर मिली विभिन्न वस्तुओं के फोटोग्राफ्स दिए गए हैं। पांच भाषाओं हिन्दी, गुजराती, मराठी, अंग्रेजी और उडिय़ा में उनसे जुड़ी जानकारी भी प्रकाशित की गई है। महिला की उम्र २५-३० साल, जबकि बालक की ४-६ साल होने की जानकारी दी गई है। महिला के हाथ पर ओम गुदा हुआ है। पैम्पलेट में पुलिस ने इन दोनों की पहचान बताने वाले को उचित इनाम देने की घोषणा की है। इन पैम्पलेट को सोशल मीडिया पर वायरल किया गया है। इन्हें विभिन्न राज्यों की पुलिस को भी भेजा गया है। उल्लेखनीय है कि सणिया गांव के निकट किशोरसिंह गोहिल के खेत के पास छोटी नहर से १९ मई को पुलिस ने एक महिला और बच्चे के प्लास्टिक के बोरे में बंधे हुए शव बरामद किए थे। शव दस दिन पुराने थे तथा बुरी तरह सड़ चुके थे। दोनों के माता-पुत्र होने तथा कहीं और उनकी हत्या कर शव वहां डाले जाने की आशंका को लेकर पुलिस ने मामला दर्ज कर शव पोस्टमार्टम के लिए स्मीमेर अस्पताल भिजवाए थे।

अवैध वसूली करने निकले नकली पुुलिसकर्मी धरे गए
सूरत. उन पाटिया क्षेत्र के एक कबाड़ कारोबारी के यहां अवैध वसूली के लिए नकली पुलिसकर्मी बनकर गए दो जनों समेत चार को सचिन जीआइडीसी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।
पुलिस के मुताबिक उधना न्यू हरिधाम सोसायटी निवासी बलकरण उर्फ जब्बर राजपूत, पांडेसरा अपेक्षानगर निवासी धीरेनसिंह राजपूत, पांडेसरा हरिधाम सोसायटी निवासी प्रहलाद मिश्रा, पांडेसरा माधव पार्क निवासी भादा ने उन पाटिया गुलशननगर निवासी आबिद शेख से अवैध वसूली का प्रयास किया। सोमवार दोपहर पौने तीन बजे चारों एक ऑटो रिक्शे में सवार होकर आबिद की उन पाटिया रजानगर की दुकान पहुंचे। जब्बर और धीरेनसिंह ने अपनी पहचान पुलिसकर्मियों के रूप में देकर आबिद पर चोरी का सामान खरीदने का आरोप लगाया। डंडा दिखा कर अपशब्द कहते हुए वह उसे जान से मारने की धमकी देने लगे। आबिद ने उनसे परिचय पत्र दिखाने के लिए कहा, लेकिन उन्होंने परिचय पत्र नहीं दिखाए। इस पर विवाद हुआ। उन्होंने आबिद के साथ धक्का-मुक्की शुरू कर दी। खबर मिलने पर सचिन जीआइडीसी थाना क्षेत्र की पीसीआर मौके पर पहुंच गई। पुलिस ने आबिद की प्राथमिकी के आधार पर मामला दर्ज कर चारों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने बताया कि चारों से पूछताछ में उनका कोई आपराधिक रिकॉर्ड सामने नहीं आया है। जब्बर और धीरेन निजी सुरक्षा एजेंसी में काम करते है। पंचम कबाड़ एकत्र करता है तथा प्रहलाद ऑटो रिक्शा चालक है।

Sanjeev Kumar Singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned