SURAT EDUCATION : भारत को सिंगल यूज प्लास्टिक मुक्त करने का प्रयास सूरत से

SURAT EDUCATION : भारत को सिंगल यूज प्लास्टिक मुक्त करने का प्रयास सूरत से
SURAT EDUCATION : भारत को सिंगल यूज प्लास्टिक मुक्त करने का प्रयास सूरत से

Divyesh Kumar Sondarva | Updated: 23 Sep 2019, 08:39:26 PM (IST) Surat, Surat, Gujarat, India

- स्कूलों में बच्चों के बीच चलेगा अभियान

- प्लास्टिक से होने वाले नुकसान के बारे में स्कूलों को विद्यार्थियों को जागरूक करने का आदेश

सूरत.

भारत सरकार की ओर से देश को सिंगल यूज प्लास्टिक से मुक्त करने का अभियान जल्द ही शुरू किया जा रहा है। इस अभियान को सफल बनाने के लिए विद्यार्थियों का सहारा लिया जा रहा है। प्लास्टिक से होने वाले नुकसान के बारे में स्कूलों को विद्यार्थियों को जागरूक करने का आदेश दिया गया है। इससे जनता सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग करना बंद करें।

SURAT EDUCATION : विद्यार्थियों की सुरक्षा को लेकर गंभीरता नहीं..!


भारत सरकार ने वर्ष 2022 तक सिंगल यूज प्लास्टिक से देश को मुक्त करने का अभियान शुरू किया है। प्लास्टिक से वन, वायु, जल और पर्यावरण को काफी नुकसान पहुंच रहा है। इसका असर इंसानों और प्राणियों पर भी हो रहा है। प्लास्टिक का उपयोग ऐसे ही बढ़ता रहा तो यह पर्यावरण के साथ मनुष्यों और प्राणियों के लिए हानिकारक साबित होगा। इसलिए सिंगल यूज प्लास्टिक के उपयोग को बंद करना शुरू किया गया है।

SURAT VNSGU : किसी भी महाविद्यालय में नहीं है आरटीआइ अधिकारी !

इस अभियान को सफल बनाने के लिए विद्यार्थियों की सहायता लेना तय किया गया है। विद्यार्थियों के माध्यम से अभिभावकों को जागरूक करने का प्रयास किया जाएगा। स्कूलों को राज्य शिक्षा विभाग और वन एवं पर्यावरण विभाग ने आदेश दिया है। विद्यार्थियों को सिंगल यूज प्लास्टिक से होने वाले नुकसान से अवगत करवाना तथा इसका उपयोग करना बंद करना होगा।

SURAT VNSGU : सरकारी आदेश का वीएनएसजीयू में हो रहा उल्लंघन..!

प्लास्टिक बैग, खाने के उपयोग में आती प्लास्टिक की थाली, चम्मच, ग्लास और कप, प्लास्टिक के फूल-गुलदस्ता, प्लास्टिक की बोतल, प्लास्टिक के झंडे, प्लास्टिक के बैनर्स, प्लास्टिक के फोडल्र्स का उपयोग बंद करने का निर्देश दिया है। साथ ही इसके प्रति विद्यार्थियों को जागरूक करने का आदेश दिया गया है, जिससे 2022 तक इस अभियान को सफल बनाया जा सके और पर्यावरण को पहुंच रहे नुकसान को रोका जा सके।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned