scriptRopeway built over filter plant without NOC | Ropeway: नीचे साढ़े 11 लाख लीटर का फिल्टर प्लांट, बिना एनओसी ऊपर बना दिया रोप-वे | Patrika News

Ropeway: नीचे साढ़े 11 लाख लीटर का फिल्टर प्लांट, बिना एनओसी ऊपर बना दिया रोप-वे

locationउदयपुरPublished: Feb 07, 2024 02:12:21 am

Submitted by:

Pankaj vaishnav

फिल्टर प्लांट में इस्तेमाल होती है क्लोरीन गैस, जो बन सकती है हादसे की वजह, जलदाय विभागीय कार्मिकों की आपत्ति को नजर अंदाज कर किया काम

नीचे साढ़े 11 लाख लीटर का फिल्टर प्लांट, बिना एनओसी ऊपर बना दिया रोप-वे
नीचे साढ़े 11 लाख लीटर का फिल्टर प्लांट, बिना एनओसी ऊपर बना दिया रोप-वे
पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए हाल ही में शहर का दूसरा रोप-वे नीमच माता पहाड़ी पर शुरू हुआ। रोप-वे के संचालन में भले ही तमाम सुरक्षा बंदोबस्त का ध्यान रखा गया हो, लेकिन रोप-वे के ठीक नीचे बने जलदाय विभाग के फिल्टर प्लांट को नजरअंदाज कर दिया गया। यहां साढ़े 11 लाख लीटर पानी प्रतिदिन शुद्ध करने वाला फिल्टर है, जिसके ठीक ऊपर से रोप-वे लाइन निकालने से पहले एनओसी नहीं ली गई। पानी शुद्ध करने के लिए प्लांट में क्लोरीन गैस इस्तेमाल होती है, जो कभी बड़े हादसे की वजह बन सकती है।
शहर के दूसरे रोप-वे की प्रक्रिया साल 2022 के अंत में शुरू हुई थी। बीते साल इसका निर्माण चला। शुरुआत में पहाड़ी के ऊपरी छोर पर टावर खड़े किए गए। उस समय तक स्पष्ट नहीं था कि रोप-वे की लाइन फिल्टर प्लांट के ऊपर से गुजरेगी। जब नीचे की तरफ टावर बनाए गए तो जलदाय विभागीय कार्मिकों को पता चला। इस पर फिल्टर प्लांट के कार्मिकों ने तत्कालीन जेइएन को सूचना दी। जेइएन की ओर से एइएन, एक्सइएन और एसइ को इसके बारे में बताया गया। लेकिन, ऊपरी लेवल पर अधिकारियों ने कार्मिकों की आपत्ति को अनदेखा करके रोप-वे का निर्माण होने दिया।
करीब 28 साल पुराना प्लांट

नीमच माता की पहाड़ी पर बना फिल्टर प्लांट करीब 28 साल पुराना है। वर्ष 1996 में इसकी स्थापना हुई थी। यहां से शहर के करीब 30 फीसदी हिस्से में जलापूर्ति के लिए पानी फिल्टर किया जाता है। अभी तक इसकी क्षमता 11.5 एमएलडी (साढ़े 11 लाख लीटर प्रतिदिन) पानी फिल्टर किया जाता है। इसकी क्षमता बढ़ाते हुए 5 एमएलडी की क्षमता का फिल्टर प्लांट भी यहीं बनने की प्रक्रिया में है।
खतरा: क्लोरीन रिसाव घातक

यों तो क्लोरीन गैस का इस्तेमाल पानी शुद्ध करने के लिए किया जाता है, लेकिन बड़ी मात्रा में गैस का रिसाव होना खतरनाक साबित हो सकता है। बीते सालों में जलदाय विभाग के पटेल सर्कल स्थित फिल्टर प्लांट से गैस का रिसाव हो गया था। उस समय क्षेत्र में दहशत का माहौल हो गया। कई लोगों को जी मिचलाने की तकलीफ होने लगी। गैस की वजह से आसपास के पेड़-पौधे झुलस गए थे।
आपत्ति के पत्र ऑफिस से गायब

जलदाय विभागीय कार्मिकों ने फिल्टर प्लांट के ऊपर से रोप-वे की लाइन पर आपत्ति जताई थी। इस पर सहेलियों की बाड़ी स्थिति एइएन कार्यालय से विभागीय उच्चाधिकारियों से पत्राचार भी किया गया। हाल ही में इस विषय पर जन शिकायत होने पर फिर से वे पत्र ढूंढ़े गए, जो उच्चाधिकारियों को भेजे थे, लेकिन बड़ी बात है कि अब एइएन कार्यालय में वे पत्र नहीं मिल रहे हैं, जिनमें आपत्ति लिखी थी।
इनका कहना...

रोप-वे निर्माण कार्य के दौरान जानकारी मिली थी कि लाइन फिल्टर प्लांट के ऊपर से गुजरेगी। इसकी जानकारी तत्कालीन अधीक्षण अभियांत को देकर मार्गदर्शन मांगा गया था, लेकिन ध्यान नहीं दिया गया। ऐसे में जलदाय विभाग की ओर से एनओसी जारी नहीं हुई है।
अखिलेश कुमार शर्मा, एक्एइएन, पीएचइडी

ट्रेंडिंग वीडियो