बढ़ते संक्रमण के बीच यहां रातों रात तैयार हुआ 100 बेड का वार्ड, हर बेड पर लगा ऑक्सीजन, 24 घंटे डॉक्टर तैनात

उज्जैन के आरडी गार्डी अस्पताल में रातोरात 100 बेड का कोरोना केयर सेंटर ICU वार्ड तैयार किया गया है। यहां हर बेड पर लगी ऑक्सीजन मशीन। 24 घंटे इलाज कर रहे डॉक्टर।

By: Faiz

Published: 19 Apr 2021, 11:37 AM IST

भोपाल/ मध्य प्रदेश के उज्जैन में कोरोना की दूसरी लहर के चलते तेजी से बढ़ रहे संक्रमण के मामलों को देखते हुए आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज अस्पताल में 100 बेड वॉर्ड रातों रात तैयार कियागया है। इस वार्ड की विशेषता ये है कि, यहां भर्ती होने वाले हर मरीज को ऑक्सीजन मिल सकेगा। वार्ड में 24 घंटे डॉक्टर व पैरामेडिकल स्टॉफ मरीजों को चिकित्सकीय सेवाएं दी जाएंगी। यहां हर पलंग के साथ एक ऑक्सीजन कंसंट्रेटर मशीन लगाई हैं। बढ़ते संक्रमण की इस लहर के दौरान इस वार्ड में 100 मरीजों को एक साथ भर्ती किया जा सकेगा। इसके अलावा अस्पताल परिसर में ऑक्सीजन टेंक भी लगाया गया है, जिससे सेंट्रल व्यवस्था के तहत मरीजों को बेड तक ऑक्सीजन पहुंचाई जाएगी।

 

पढ़ें ये खास खबर- हमीदिया से चोरी 863 रेमडेसिविर मामले में चौंकाने वाला खुलासा, दिल्ली में भर्ती मरीज को लगे 6 इंजेक्शन


हर बेड पर लगाई गई ऑक्सीजन कंसंट्रेटर मशीन

मेडिकल कॉलेज अस्पताल के कोविड नोडल अधिकारी डॉ. सुधाकर वैद्य के मुताबिक, कोरोना की दूसरी लहर में संक्रमित होने वाले अधिकांश मरीजों का ऑक्सीजन लेवल कम हो रहा है। मरीजों को ऑक्सीजन की आवश्यकता को ध्यान में रखकर ये उपाय अस्पताल में ही किए गए हैं ताकि मरीजों को समय पर ऑक्सीजन मिल सके। उन्होंने बताया कि, भर्ती होने वाले मरीजों को समय रहते पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन मिल सके, इसलिए ऑक्सीजन कंसंट्रेटर मशीनें लगाई है। हर बेड पर एक मशीन हर समय मरीज को ऑक्सीजन पूर्ति के लिये वातावरण से पर्याप्त ऑक्सीजन तैयार करती रहेगी।

 

पढ़ें ये खास खबर- दमोह उपचुनाव के रुझान : प्रचार में जुटे पूर्व सीएम और दो विधायकों समेत अब तक 91 नेता कोरोना संक्रमित


राउंड द क्लॉक डयूटी पर तैनात डॉक्टर और स्टॉफ

इसके अलावा, इलाज की व्यवस्था को दुरुस्त बनाए रखने के लिये राउंड द क्लॉक डॉक्टर और स्टॉफ की डयूटी लगाई जा रही है। जिन मरीजों को ऑक्सीजन की आवश्यकता नहीं होगी, उन्हें दूसरे वार्ड में भर्ती रखा जाएगा। आपको बता दें कि, मौजूदा समय में शहर के आरडी गार्डी अस्पताल में 200 से ज्यादा संक्रमित मरीज भर्ती हैं। जिनमें से गंभीर मरीजों को आईसीयू में भर्ती रखकर इलाज दिया जा रहा है।

रेमडिसिविर इंजेक्शन की चोरी और कालाबाजारी - video

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned