हमीदिया से चोरी 863 रेमडेसिविर मामले में चौंकाने वाला खुलासा, दिल्ली में भर्ती मरीज को लगे 6 इंजेक्शन

रेमडेसिविर चोरी मामले में चौंकाने वाला खुलासा, चोरी हुए इंजेक्शनों में से 6 दिल्ली में भर्ती मरीज को लगे।

By: Faiz

Published: 19 Apr 2021, 08:21 AM IST

भोपाल/ मध्य प्रदेश के सबसे बड़े सरकारी हमीदिया अस्पताल के सेंट्रल ड्रग स्टोर से 863 रेमडेसिविर इंजेक्शनों के चोरी होने के मामले ने जांच में नया मोड़ ले लिया है। रविवार देर शाम तक चली क्राइम ब्रांच की पूछताछ में स्टोर फार्मासिस्ट ने कई अहम जानकारियां दीं। फार्मेसिसिट के मुताबिक, जिस सीरियल नंबर के जीवन रक्षक इंजेक्शन चोरी हुए थे, उनमें से 6 दिल्ली के एक अस्पताल में भर्ती कोरोना से संक्रमित मरीज को लगे हैं। इस आधार पर पुलिस द्वारा दिल्ली में संक्रमित को लगे इंजेक्शनों का चोरी गए इंजेक्शनों की सीरीज से मिलान किया गया, तो पता लगा कि, वो एक ही हैं।

 

पढ़ें ये खास खबर- CM शिवराज ने महाराष्ट्र सरकार पर लगाया गंभीर आरोप, शिवसेना सांसद बोले- 'हम नहीं करते ऐसे पाप'


35 से अधिक लोगों से हो चुकी है पूछताछ

इसके अलावा, पुलिस को ये भी संदेह है कि, अस्पताल के कर्मचारी रेमडेसिविर इंजेक्शन की धांधली कर उसकी कालाबाजारी से भी जुड़े हो सकते हैं। इधर, हमीदिया के डी ब्लाॅक में बने कोविड सेंटर के रिकाॅर्ड का मिलान सेंट्रल स्टोर के स्टाॅक से नहीं हो रहा है। फिलहाल, मामले की गंभीरता को देखते हुए केस को क्राइम ब्रांच के हवाले कर दिया गया था। इसके बाद से ही पिछले 48 घंटों के दौरान टीम शक के दायरे में आने वाले 35 से ज्यादा लोगों से पूछताछ कर चुकी है।


पूछताछ में ऐसे जुड़ीं कड़ियों से कड़ियां

 

पढ़ें ये खास खबर- कमलनाथ बोले- 'शिवराज जी... आप कब तक झूठ बोलते रहेंगे' शहडोल मेडिकल कॉलेज में हुई मौतों पर उठाए सवाल

-फार्मासिस्ट बोला- मेने 6 इंजेक्शन डी ब्लॉक से इश्यू कराए थे

पुलिस को सूत्रों के हवाले से पता लगा कि, सेंट्रल स्टोर के फार्मासिस्ट की पत्नी का भाई कोरोना संक्रमित है, जो दिल्ली के एक अस्पताल में भर्ती है। पिछले दिनों उसकी हालत गंभीर होने पर उसे रेमडेसिविर इंजेक्शन की जरूरत पड़ी थी, जो उसे मिल नहीं रहे थे। लेकिन, अभी उसका स्वास्थ रिकवरी पर है। इसे लेकर जब जांच टीम ने फार्मासिस्ट से पूछताछ की, तो उसने स्वीकार किया कि, उसकी पत्नी का भाई संक्रमण से गंभीर अवस्था में था, जिसे इंजेक्शन की जरूरत थी। ऐसे में उसकी ओर से अस्पताल के डी-ब्लाॅक के कोविड सेंटर से 6 रेमडेसिविर के इश्यू कराए थे।


-डी-ब्लाक कोविड सेंटर ने किया इंजेक्शन इश्यू करने से इंकार

यह इंजेक्शन वह 16 अप्रैल को संपर्क क्रांति एक्सप्रेस से वो खुद दिल्ली लेकर पहुंचा था और वहां से अगली ही ट्रेन पकड़कर वापस भी लौट आया था। हालांकि, पुलिस द्वारा जब दिल्ली के अस्पताल से संक्रमित को लगे 6 इंजेक्शनों की सीरीज नंबर मंगवाकर मिलान किया, तो वो और स्टोर से चोरी हुए इंजेक्शन की सीरीज एक निकले। इधर, डी-ब्लाक कोविड सेंटर के नर्सिंग स्टाफ ने पूछताछ में साफ इंकार किया कि, उनकी ओर से फार्मासिस्ट को इस तरह के इंजेक्शन इश्यू किये ही नहीं गए।


-डी-ब्लाक कोविड सेंटर के रिकॉर्ड में सामने आई बड़ी धांधली

पुलिसियां जांच में एक और बड़ी धांधली ये सामने आ रही है कि, सेंट्रल ड्रग स्टोर से 10 से 16 अप्रैल के बीच डी-ब्लाक के कोविड सेंटर की डिमांड पर 548 इंजेक्शन भेजे गए थे। जबकि, कोविड सेंटर के इंचार्ज का कहना है कि, उन्हें इस दौरान स्टोर से मात्र 458 इंजेक्शन ही मिले हैं। पुलिस ने जब रिकाॅर्ड जब्त किया और नर्सिंग स्टाफ से पूछताछ की, तो खुलासा हुआ कि, रिकाॅर्ड में स्टोर से उन्हें 850 इंजेक्शन भेजे जा चुके हैं। जांच टीम को स्टोर से इंजेक्शन लेकर कोविड वार्डों में सप्लाई करने वाले कर्मचारियों पर संदेह है, पुलिस अब उनसे पूछताछ में जुटी है। पुलिस का ये भी मानना है कि, कोई बड़ा ही घोटाला उजागर हो।

 

पढ़ें ये खास खबर- कोरोना मरीजों के इलाज के अभाव का मुद्दा : गांधी प्रतिमा के सामने अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे कांग्रेस विधायक


स्टोर से जुड़े इलाकों में आज लगेंगे और 5 CCTV कैमरे

अस्पताल प्रबंधन के मुताबिक, वैसे तो हमीदिया के हर विभाग, साथ ही साथ ड्रग स्टोर में भी सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं, लेकिन इंजेक्शनों की चोरी के बाद अब सेंट्रल ड्रग स्टोर में 5 सीसीटीवी कैमरे और लगाए जा रहे हैं। प्रबंधन के मुताबिक, हालाकि, इन कैमरों के लगाने के मामले पर करीब दो महीने पहले चर्चा हो चुकी है। लेकिन, जिम्मेदारों ने इसे गंभीरता से नहीं लिया, जिसका खामियाजा इन इंजेक्शनों की चोरी से चुकाना पड़ा। चोरी के बाद आनन फानन में रविवार को अस्पताल प्रबंधन की ओर से सभी जरूरी कार्रवाई पूरी कर ली गई है। सोमवार की दोपहर तक 2 कैमरे ड्रग स्टोर के भीतर और 3 बाहर लगा दिए जाएंगे।

 

रेमडिसिविर इंजेक्शन की चोरी और कालाबाजारी - video

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned