scriptStrictness on boating in Ganga on New Year in Varanasi | वाराणसी में न्यू ईयर पर गंगा में नौका विहार पर सख्ती, जारी हुए दो दिन के लिए नियम | Patrika News

वाराणसी में न्यू ईयर पर गंगा में नौका विहार पर सख्ती, जारी हुए दो दिन के लिए नियम

locationवाराणसीPublished: Dec 28, 2023 07:11:58 pm

Submitted by:

SAIYED FAIZ

नये साल पर काशी में जश्न मनाने के लिए अभी से सैलानी आने लगे हैं। गंगा घाट और घाट उसपर रेती पर हजारों सैलानी हर समय मौजूद रह रहे हैं। नये साल पर किसी भी अप्रिय घटना से निपटने के लिए गुरुवार को जल पुलिस कार्यालय में माझी समुदाय के साथ पुलिस की एक अहम बैठक हुई जिसमें 31 दिसंबर और 1 जनवरी के लिए नये नियम बनाए गए हैं।

Varanasi Ganga Booting New Year 2024
वाराणसी में न्यू ईयर पर गंगा में नौका विहार पर सख्ती, जारी हुए दो दिन के लिए नियम
वाराणसी। धर्म की नगरी काशी में नये साल का जश्न मनाने के लिए पूरे देश और विदेश से सैलानी आना शुरू हो गए हैं। ऐसे में काशी के घाटों और गंगा में नौकायान के लिए भीड़ देखी जा रही है। वहीं गंगा पार रेती पर ऊंट और घोड़े की सवारी करने की भी होड़ लगी है। नववर्ष की पूर्व संध्या और नव वर्ष पर यह संख्या बढ़ने की संभावना है। ऐसे में किसी भी प्रकार की अनहोनी से बचने के लिए दशाश्वमेध घाट पर स्थित जल पुलिस कार्यालय में मांझी समुदाय की अहम बैठक की गई। इस बैठक में सर्वसमति से कई फैसले लिए गए जिसमें 31 दिसंबर और 1 जनवरी को नौका संचालन के समय को लेकर भी सहमति बनी है। इसके अलावा किसी भी हाल में किसी भी नौका का नाविक नशे में न हो इसके लिए भी सख्त नियम बनाए गए हैं।
दो दिन शाम ढलते ही रेती से वापस हो जाएंगी सभी नौकाएं

इस संबंध में माझी समुदाय के अध्यक्ष प्रमोद माझी ने बताया कि गुरुवार को जल पुलिस थाने में एक अहम बैठक नये साल पर की गई है। इसमें माझी समुदाय को जल पुलिस की तरफ से इंस्ट्रक्शन दिया गया है कि 31 दिसंबर और 1 जनवरी को शाम 5 बजे तक गंगा पार रेती से सभी नौकाएं वापिस घाटों को लौट जाएं कोई भी नाव 5 बजे के बाद गंगा पार रेती पर न रुकेगी और न उस तरफ जाएगी।
varanasi_ganga.jpg7 बजे के बाद बंद हो जाएगा नौका विहार

प्रमोद माझी ने बताया कि इसके अलावा इन दो दिनों में शाम 7 बजे के बाद गंगा में नौकायन पर रोक की सहमति बनी है। रात 7 बजे के बाद कोई नौका गंगा में नहीं चलेगी। इसके अलावा नाव/ बाजड़े/ क्रूज पर किसी प्रकार की पार्टी की अनुमति नहीं होगी। साथ ही नौकायन और गंगा आरती के पश्चात नाविक अपनी नाव की गति धीमी रखेंगे। नौका संचालन के दौरान कोई चालक / टूरिस्ट नाव पर मदिरा पान करके नहीं बैठेगा। प्रत्येक दशा में शत प्रतिशत लाइफ जैकेट का उपयोग करेंगे। इसके साथ ही की आपात स्तिथि में 7839856996/ 112 पर सूचना देंगे।

ट्रेंडिंग वीडियो