युवती बोली- डीएम सर... 27 को शादी है, गांव में सड़क न बनी तो कैसे आएगी बारात

Highlights

- अलीगढ़ जिले की इगलास तहसील के हस्तपुर गांव का मामला

- आशीर्वाद दे चुके डीएम ने आनन-फानन में दिए निर्देश, पूरा अमला जुटा सड़क बनाने में

By: lokesh verma

Published: 23 Jan 2021, 01:53 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
अलीगढ़.
जिलाधिकारी हर रोज की तरह जन शिकायतें सुन रहे थे। एक लड़की ने उन्हें अपनी शादी का कार्ड थमाया। पहले तो डीएम सकुचाए फिर अपने स्टाफ को नेग देने का इशारा किया। लड़की ने उन्हें रोकते हुए कहा, सर! मुझे कुछ अलग उपहार दीजिए। बोली- 27 फरवरी को मेरी बारात आएगी, लेकिन घर तक बारात के पहुंचने के लिए रास्ता ही नहीं है। सड़क ठीक करवा दें तो समझूंगीं उपहार मुझे मिल गया। डीएम ने कुछ सोचा फिर बोल दिया मिलेगा उपहार। ...और लड़की के घर तक सड़क ठीक करने का आदेश मातहतों को दे दिया।

यह भी पढ़ें- इंसाफ के लिए दर-दर भटक रही गैंगरेप पीड़िता, अब आत्महाद का किया ऐलान

बता दें कि जिलाधिकारी चंद्र भूषण सिंह से गांव की बदहाल सड़क को ठीक करने वाली युवती का नाम करिश्मा है। वह कहती है यह तो करिश्मा हो गया। जबकि डीएम का कहना है कि यह मिशन शक्ति अभियान का परिणाम है कि बेटियां अपनी जरूरते लेकर आ रही हैं। दरअसल, अलीगढ़ जिले की इगलास तहसील के हस्तपुर गांव की रहने वाली युवती की 27 फरवरी को शादी है। शादी तय होने के बाद अब करिश्मा की बारात आने को लेकर समस्या आ रही है, क्योंकि उसके गांव की सड़क इतनी जर्जर है कि बारात को आने में परेशानी हो सकती है। अपनी इसी समस्या को लेकर करिश्मा डीएम कार्यालय पहुंची और शिकायत देते हुए शादी से पहले सड़क बनवाने की मांग की। करिश्मा ने बताया कि सड़क में गड्‌ढे ही गड्‌ढे हैं, जिनमें काफी कीचड़ भरा हुआ है। सड़क पर पैदल चलना भी काफी मुश्किल है। इस कारण बारात निकलने में काफी समस्या होगी।

जिलाधिकारी चंद्र भूषण सिंह ने बताया कि युवती करिश्मा हमारे पास आई थी। उसने प्रार्थना पत्र देकर कहा था कि उसकी शादी 27 फरवरी को है और गांव की सड़क जर्जर स्थिति में है। इस वजह उसकी बारात को घर तक आने में काफी परेशानी होगी। युवती की शिकायत पर डीआरडीओ से कहा गया है कि वह संबंधित अधिकारी के साथ गांव जाएं और तत्काल मनरेगा या किसी अन्य योजना के तहत सड़क बनवाने का कार्य शुरू करें। युवती की शादी से पहले पूरी सड़क बना दी जाए।

डीएम ने कहा कि मिशन शक्ति अभियान के परिणाम अब सामने आने शुरू हो गए हैं। लड़की का खुद गांव की सड़क बनवाने की मांग करना इसी का परिणाम है। यह महिलाओं की जागरूकता को दर्शाता है। सीएम योगी के मिशन शक्ति अभियान का यह सबसे अच्छा और सटीक उदाहरण है।

यह भी पढ़ें- अखिलेश यादव को ऐलान, बोले- जौहर यूनिवर्सिटी को बचाने के लिए प्रदेशभर में आंदोलन करेगी सपा

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned