27 हजार रुपए कृषि ऋण पटाने का मिला नोटिस तो परेशान हो गया किसान, बोला- मैंने सोचा माफ हो गया होगा

Debt Forgiveness: 50 हजार रुपए कृषि के लिए किसान (Farmer) ने लिया था ऋण, बैंक मैनेजर (Bank Manager) ने कहा कि राज्य सरकार (State Government) ने वापस मंगा ली थी राशि इसलिए नहीं हुआ माफ

By: rampravesh vishwakarma

Published: 10 Apr 2021, 10:39 AM IST

निम्हा. लखनपुर विकासखंड के ग्राम लटोरी निवासी अशोक दास ने 2018 में अपनी खेती कार्य के लिए 50 हजार का कृषि ऋण (Agriculture loan) छत्तीसगढ़ ग्रामीण बैंक पुहपुटरा से लिया था। इसी दौरान जब प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी तो उसके कुछ महीनों बाद कर्ज माफी (Loan forgiveness) की घोषणा की गई, तब किसान अशोक दास को लगा कि कर्ज माफ हो गया है।

लेकिन जब बैंक से ऋण चुकाने हेतु नोटिस प्राप्त हुआ तो वह अचंभित व परेशान हो गया। इसके बाद उसने ग्रामीण बैंक पुहपुटरा जाकर अपने ऋण के विषय में जानकारी मांगी तो बैंक मैनेजर (Bank Manager) द्वारा बताया गया कि उसका ऋण माफ नहीं हुआ है।

Read More: फर्जी KCC बनवाकर किसानों के खाते से निकाल लिए 1 करोड़ 25 लाख


सरगुजा जिले के लखनपुर विकासखंड अंतर्गत ग्राम निम्हा निवासी किसान अशोक दास के अनुसार बैंक मैनेजर के द्वारा बताया गया है कि आपका 50 हजार रुपए में सिर्फ 23 हजार रुपए ही माफ हुआ है और आपको 27 हजार रुपए जमा करना ही पड़ेगा।

इस तरह बैंक मैनेजर के अनुसार किसान अपने आप को ठगा महसूस कर रहा है। पीडि़त किसान ने जिला प्रशासन से न्याय देने की गुहार लगाई है। वहीं बैंक मैनेजर ने बताया कि उक्त व्यक्ति द्वारा 43 हजार का मूल ऋण लिया गया था, इसमें से ऋण माफी 41 हजार ही हुआ था।

Read More: कोरोना काल में लाइन लगाकर खड़े किसानों को किसी निजी नहीं बल्कि सहकारी समिति ने ही लूटा, प्रति बोरी 225 रुपए लिए एक्स्ट्रा

लेकिन राज्य सरकार (CG Government) द्वारा कुछ राशि वापस ले लिया गया इसलिए उसे 27 हजार का ऋण जमा करना पड़ेगा। बैंक मैनेजर ने बताया कि क्षेत्र के अन्य किसानों के साथ यही स्थिति देखने को मिल रही है।


किसानों को मिलना चाहिए ऋण माफी का लाभ
इस संबंध में छत्तीसगढ़ किसान कल्याण संघ के जिला उपाध्यक्ष प्रफुल्ल कुमार यादव ने कहा कि किसानों को ऋण माफी (Debt Forgiveness) का पूरा लाभ मिलना चाहिए। वहीं किसान ने कहा कि उसे लगा था कि उसका ऋण पूरा माफ हो गया है।

Show More
rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned