बाइडेन द्वारा नामित अटॉर्नी जनरल वनिता गुप्ता ने नस्लीय भेदभाव को याद किया

- वनिता और उनके परिवार के साथ हुआ नस्लीय भेदभाव ।
- बाइडेन ने वनिता को एसोसिएट अटॉर्नी जनरल नियुक्त किया है।
- ड्रग के आरोपों में गलत तरीके से दोषी ठहराए गए 38 लोगों की रिहाई के बाद चर्चा में आईं थी वनिता ।

By: विकास गुप्ता

Updated: 08 Jan 2021, 01:54 PM IST

न्यूयॉर्क। अमेरिका के नव निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन joe Biden द्वारा नामित एसोसिएट अटॉर्नी जनरल associate attorney general वनिता गुप्ता Vanita Gupta ने चार साल की उम्र में अपने साथ हुए नस्लीय कट्टरपंथ के अनुभव को याद किया है, इस भेदभाव के कारण ही गुप्ता ने नागरिक अधिकारों और न्याय सुधार के लिए अपनी प्रतिबद्धता का वादा किया। गुप्ता का परिचय कराते हुए बाइडेन ने कहा कि वह हर कदम पर, हर केस में बेहतर निषप्क्षता और समानता के लिए लड़ीं और हमारी न्याय प्रणालियों की गलतियों को ठीक करने के लिए लड़ीं। गुरुवार को बाइडेन द्वारा अमेरिका में सबसे सम्मानित नागरिक अधिकारों की वकील में से एक के रूप में पेश किए जाने के बाद, वनिता गुप्ता ने 'भारत से गर्वित अप्रवासी' के रूप में अपने माता-पिता के बारे में बात की और परिवार को किन पूर्वाग्रहों का सामना करना पड़ा, इस बारे में अपने अनुभव साझा किए।

जो बाइडेन की जीत की पुष्टि के लिए अमेरिकी सांसदों ने बुलाई बैठक

US ELECTION : डॉनल्ड ट्रंप का अपनों ने भी छोड़ा साथ, कहा-पागलपन न करें

वनिता के साथ हुआ नस्लीय भेदभाव -
वनिता ने कहा कि एक दिन, मैं अपनी बहन, मां और दादी के साथ मैकडॉनल्ड्स के रेस्तरां में बैठ कर खाना खा रहे थे। तभी पास वाली मेज पर बैठे कुछ लोगों ने हम पर नस्लीय फब्तियां कसना शुरू कर दिया और भोजन फेंकने लगे, जिसके कारण हम रेस्तरां से निकल गए।" गुप्ता ने कहा कि उस भावना ने मेरा साथ कभी नहीं छोड़ा कि आप जो हैं, उसके कारण असुरक्षित होने का क्या मतलब है।" वनिता उस समय चर्चा में आईं जब एक नई वकील के रूप में उन्होंने 38 लोगों की रिहाई कराने में कामयाबी हासिल की, उनमें से अधिकांश अफ्रीकी-अमेरिकी थे, जिन्हें टेक्सस शहर में ड्रग के आरोपों में गलत तरीके से दोषी ठहराया गया था और गुप्ता ने उन्हें मुआवजे के तौर पर 60 लाख डॉलर भी दिलाया था।

ट्रंप ने स्वीकारी हार, कहा- परिणामों से खुश नहीं हैं लेकिन 20 जनवरी को छोड़ देंगे पद

भेदभाव के बाद भी अमेरिका से प्यार करना सीखना -
गुप्ता ने कहा कि उन्होंने नस्लीय कट्टरता का अनुभव करने के साथ ही अमेरिका के वादे का सबक भी सीखा है। उन्होंने कहा, "मैंने अपने साथ एक और भावना रखी, हालांकि, मेरे माता-पिता द्वारा और मेरे पति (चिन्ह क्यू. ली) द्वारा भी इसे गहराई से अनुभव किया गया, जिनके (ली के) परिवार ने वियतनाम में हिंसा और युद्ध के कारण पलायन किया था।" उन्होंने कहा कि अमेरिका के वादे पर किसी चीज की अपेक्षा ज्यादा भरोसा जताया और इस देश से प्यार करना सीखा, इसे बेहतर बनाने के लिए आवश्यक कार्य करने का दायित्व भी साथ लाता है।"

विकास गुप्ता
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned