scriptayodhya news, ayodhya is again sealed | कभी ''परिंदा भी पर नही मार सकता" ऐसी सील थी अयोध्या, अब 30 साल बाद फिर बना ब्लू जोन | Patrika News

कभी ''परिंदा भी पर नही मार सकता" ऐसी सील थी अयोध्या, अब 30 साल बाद फिर बना ब्लू जोन

locationअयोध्याPublished: Dec 28, 2023 09:06:44 pm

Submitted by:

anoop shukla

नब्बे के दशक में वर्ष 1990 में अयोध्या में कारसेवकों को रोकने के लिए तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने पूरे अयोध्या को छावनी बनवा दिया था। उस समय अयोध्या की किलेबंदी ऐसी थी की परिंदा भी पर नही मार सकता था लेकिन उस दौरान जो घटनाएं हुईं वो सर्वविदित हो गई।

ayodhya news
PM मोदी के अयोध्या आगमन और श्रीराम लला की प्राण प्रतिष्ठा 22 जनवरी को लेकर अयोध्या को अभेद्य किले में तब्दील किया जा रहा है। बता दें की नब्बे के दशक में वर्ष 1990 में अयोध्या में कारसेवकों को रोकने के लिए तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने पूरे अयोध्या को छावनी बनवा दिया था। उस समय अयोध्या की किलेबंदी ऐसी थी की परिंदा भी पर नही मार सकता था लेकिन उस दौरान जो घटनाएं हुईं वो सर्वविदित हो गई।
30 साल बाद अयोध्या में ब्लू जोन एक्टिव

प्रधानमंत्री के अयोध्या दौरे को लेकर सुरक्षा एजेंसियां बेहद अलर्ट हैं। अयोध्या में मंदिरों, होटलों और रेलवे स्टेशन की चैकिंग हो रही है। सभी कार्यक्रम स्थलों को सुरक्षा एजेंसियों ने अपने कब्जे में ले लिया है। अयोध्या में आने-जाने वाले सभी प्रकार के वाहनों की भी सतर्कता से चेकिंग हो रही है।
सुरक्षा एजेंसियों की कई टीमों ने अयोध्या में डेरा डाल रखा है। श्रीराम जन्मभूमि परिसर के चारों ओर समेत अयोध्या के आसपास के जिलों में ब्लू जोन एक्टिव कर दिया गया है।यह जोन गोंडा, बस्ती, सुल्तानपुर, अंबेडकरनगर और बाराबंकी जिलों को मिलाकर बनाया गया है।एक्सपर्ट के मुताबिक, ब्लू जोन में आसपास के जिलों में भी सिक्योरिटी बढ़ा दी जाती है और हर एक्टिविटी पर नजर रखी जाती है।

अयोध्या आने वाले हर शख्स पर नजर

यूपी पुलिस ने 22 जनवरी 2024 को होने वाली राम लला के प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम के चलते अयोध्या में अभेद्य सुरक्षा के इंतजाम किए हैं। यहां पर पैरा मिलेट्री फोर्स के साथ वीवीआईपी ड्यूटी में आने वाली एसपीजी के अतिरिक्त एटीएस के कमांडो, स्नाइपर, हिडेन कैमरा, पीएसी, पुलिस के साथ खुफिया सुरक्षा एजेंसियों को लगाया गया है।
यह अयोध्या आने-जाने वाले हर आम और खास व्यक्ति पर नजर रखेंगी। वहीं यहां रहने वालों के साथ ही उनके रिश्तेदारों से लेकर हर पर्यटक का ब्योरा जुटा रही है। जहां पीएम के दौरे के दौरान हाई-वे पर रूट डायर्वजन किया गया है। वहीं मंदिर ट्रस्ट के आग्रह और भीड़ को देखते हुए 20 जनवरी से 22 जनवरी तक आम लोगों के लिए अयोध्या राम मंदिर के दर्शन बंद रहेंगे।
स्पेशल डीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार खुद अयोध्या की सुरक्षा के इंतजाम की मॉनीटरिंग कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि अयोध्या की सुरक्षा को लेकर ब्लू प्रिंट पर हमारी पुलिस फोर्स काम कर रही है। सुरक्षा के हर पहलू को देखते हुए आवश्यक कदम उठाए गए हैं। जिम्मेदार इसके लिए केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियों के भी संपर्क में हैं।
हर मकान, धर्मशाला , गेस्ट स्टे सब पर नजर

स्पेशल डीजी प्रशांत कुमार ने बताया कि अयोध्या में होने वाली हर गतिविधि पर हमारी नजर है। यहां की सभी होटलों, सराय और होम स्टे करने वालों का वेरीफिकेशन कराया गया है। यही नहीं स्थानीय लोगों के साथ उनके यहां आने वाले अतिथियों के विषय में भी जानकारी जुटाई जा रही है। भीड़ को मंदिर ट्रस्ट से हुई सुरक्षा को लेकर बातचीत के आधार पर 21 जनवरी से 23 जनवरी तक बाहरी लोगों का आना भी रोका गया है।
विदेशियों की सूचना LIU पुख्ता रखे

अयोध्या और उस रूट पर पड़ने वाले सभी छोटे-बड़े स्टे हाउस के कमरों से लेकर उसमें रुकने वालों का ब्यौरा जुटाया जा रहा है। जिसमें महिला व पुरुष के साथ बच्चों की भी गिनती की जा रही है। इसके साथ ही विदेशी लोगों के आने पर नियमानुसार फार्म सी भरने के साथ एलआईयू को सूचित करने के सख्त आदेश दिए गए हैं।
29 दिसंबर की आधी रात से लागू होगा डायवर्जन

अयोध्या एयरपोर्ट का 30 दिसंबर के उद्घाटन और पीएम के दौरे के चलते स्थानीय पुलिस के साथ केंद्रीय सुरक्षा एजेंसी भी सतर्क है। राम मंदिर और अयोध्या एयरपोर्ट की सुरक्षा के लिए एसएसफ तैनात की गई है। वहीं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आगमन को लेकर 29 दिसंबर की रात एक बजे से 30 दिसंबर शाम चार बजे तक अयोध्या की तरफ जाने वाले हाईवे पर अंतर्जनपदीय डायवर्जन लागू किया गया है।

ट्रेंडिंग वीडियो