script राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा का न्योता ठुकरा कर संघ के फेंके जाल में फंस गई है कांग्रेस | Congress rejected the invitation for Ram Mandir Pran Patishtha | Patrika News

राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा का न्योता ठुकरा कर संघ के फेंके जाल में फंस गई है कांग्रेस

locationअयोध्याPublished: Jan 15, 2024 01:42:47 pm

Submitted by:

Upendra Singh

देश ही नहीं पूरे विश्व में अयोध्या राम मंदिर का मुद्दा दशकों तक छाया रहा है। अब जब मंदिर निर्माण हो रहा है और प्राण प्रतिष्ठा की घड़ी नजदीक आ गई है तब राजनीतिक दलों का असमंजस खुल कर सामने आ रहा है।

sonia_gandhi.jpg
देश में सर्वाधिक समय तक राज करने वाली कांग्रेस पार्टी रामलला के प्राण प्रतिष्ठा समारोह के निमंत्रण को सम्मान पूर्वक स्वीकार नहीं करके एक बार फिर दलदल में फंस गई है। कहा जा रहा है कि निमंत्रण को स्वीकार करने या और स्वीकार नहीं करने को लेकर पार्टी के भीतर असमंजस बना हुआ था। कांग्रेस पार्टी में एक धड़ा ऐसा है जो निमंत्रण स्वीकार करना चाहता था जबकि, दूसरा धड़ा हार्डकोर सेकुलरिज्म को लेकर निमंत्रण को स्वीकार नहीं करने देने के लिए कांग्रेस पार्टी पर दबाव बनाता रहा। आखिरकार कामयाब रहा, इसमें मुख्य रूप से केसी बेदूगोपाल, जय राम रमेश, रमेश चेन्निथला शामिल थे।
कांग्रेस ने अयोध्या पर राजनीतिक दांव खेला
आखिरकार थोड़ा बेमन से ही कांग्रेस ने अयोध्या पर राजनीतिक दांव खेला। 22 जनवरी को अयोध्या में राम मंदिर के अभिषेक समारोह में शामिल होने के लिए श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट द्वारा अपने नेताओं सोनिया गांधी, मल्लिकार्जुन खड़गे, अधीर रंजन चौधरी को दिए निमंत्रण को अस्वीकार कर दिया। 10 जनवरी को पार्टी ने घोषणा कर दिया कि वह इस कार्यक्रम से दूर रहेगी।
राम जन्मभूमि विवाद की बात आते ही कांग्रेस अपने इतिहास के बोझ तले दब जाती है
जब राम जन्मभूमि विवाद की बात आती है तो कांग्रेस पार्टी अपने इतिहास के बोझ तले दब जाती है। अयोध्या में विवादित राम जन्मभूमि के ताले 1986 में खोले गए थे। जब राजीव गांधी प्रधानमंत्री थे। विवादित स्थल पर विश्व हिंदू परिषद को शिलान्यास करने की अनुमति भी राजीव गांधी सरकार ने दी थी। साल 1991 में कांग्रेस पार्टी ने अपने घोषणा पत्र में लिखा कि बाबरी मस्जिद को हटाए बिना कांग्रेस पार्टी राम मंदिर निर्माण करना चाहती है, जबकि अगले साल ही बाबरी ढांचे का कर सेवकों ने विध्वंस कर दिया। साल 2019 में इस विवाद को लेकर जब सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया तो कांग्रेस पार्टी ने फैसले का स्वागत किया, लेकिन वहीं कांग्रेस पार्टी राम मंदिर निर्माण और प्राण प्रतिष्ठा से खुद को दूर रखने लगी है।
भाजपा और संघ के फेके जाल में फंस गई कांग्रेस
कांग्रेस के नेता कह रहे हैं कि राम मंदिर का उद्घाटन संघ और भाजपा का कार्यक्रम है, जो स्पष्ट रूप से लोकसभा चुनाव की तैयारी को ध्यान में रखते हुए किया गया है। दूसरी तरफ राजनीति के पंडितों का कहना है कि रामलला की प्राण प्रतिष्ठा में ना आकर कांग्रेस पार्टी भाजपा और संघ के फेके जाल में फंस गई है। अब इस बात की संभावना प्रबल हो चुकी है कि कांग्रेस को हिंदू विरोधी चुनाव में करार दिया जाएगा। एक अवसर पर पहले भी सोनिया गांधी ने यह स्वीकार किया था कि भाजपा लोगों को यह समझाने में कामयाब रही है कि कांग्रेस पार्टी मुस्लिम पार्टी है। राजनीतिक विश्लेषक अनुराग पांडे कहते हैं कि राम मंदिर निर्माण पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करने वाली कांग्रेस पार्टी अचानक प्राण प्रतिष्ठा समारोह से दूर रहने का फैसला संघ और भाजपा को मुंह मांगी मुराद जैसा है। भाजपा अब आक्रामक रूप से कांग्रेस को राम विरोधी हिंदू विरोधी साबित करेगी और इसका देशभर में प्रचार करके आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को रक्षात्मक होने को मजबूर कर देगी।

ट्रेंडिंग वीडियो