script मुलायम सिंह यादव ने कारसेवकों पर चलवाई थी गोली, अब बहू डिंपल यादव राम मंदिर जाने को तैयार | Mulayam Yadav order Fireing on kar sevaks, Dimple will go ram mandir | Patrika News

मुलायम सिंह यादव ने कारसेवकों पर चलवाई थी गोली, अब बहू डिंपल यादव राम मंदिर जाने को तैयार

locationअयोध्याPublished: Dec 26, 2023 01:30:50 pm

Submitted by:

Upendra Singh

सपा सांसद डिंपल यादव ने कहा कि राम मंदिर उद्धाटन में निमंत्रण नहीं मिलता है तो भी हम जाएंगे। डिंपल यादव ने कहा कि भगवान राम की बात करना ही पर्याप्त नहीं है उनके आदर्श को भी अपने जीवन में उतारना चाहिए।

dimple_.jpg
सपा सांसद डिंपल यादव सोमवार को मैनपुरी सपा महिला सभा की‌ जिलाध्यक्ष ज्योति मैसी के आवास पर  पहुंची थीं। पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए डिंपल यादव ने कहा कि हमें राम मंदिर के उद्धाटन कार्यक्रम निमंत्रण नहीं मिलेगा तो भी राम मंदिर जाएंगे। भले ही निर्धारित तिथि के बाद जाएं। उन्होंने कहा कि आराध्य को राजनीति में नहीं बांधना चाह‌िए। पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को नहीं बुलाने की मांग भाजपा की सोच को उजागर करती है। भगवान राम की बात करना ही पर्याप्त नहीं है, उनके आदर्श को भी अपने जीवन में उतारना चाह‌िए। 

डिंपल यादव मुलायम सिंह यादव की बहू हैं। वही मुलायम सिंह यादव जिनके मुख्यमंत्री रहते हुए कारसेवकों पर गोलियां चलाई गई। कारसेवकों ने अपनी जान गवाईं। अब आइए आपको उस घटना के बारे में बताते हैं। 
पुलिस ने कर दी थी बैरिकेडिंग
आज से 33 साल पहले यानी 30 अक्टूबर 1990। कारसेवकों के साथ साधु-संतों की भीड़ हनुमागढ़ी की आरे बढ़ रही थी। अयोध्या में कर्फ्यू लगा दिया गया था। इसके बाद भी अयोध्या में इतनी अधिक भीड़ हो गई थी कि उन्हें काबू करना मुश्किल हो रहा था। पुलिस बाबरी मस्जिद के आसपास करीब 1.5 किलोमीटर के इलाके में बैरिकेडिंग कर रखी थी। ‌किसी को घुसने नहीं दिया जा रहा था। 
लखनऊ से गोली चलाने का मिला आदेश
सुबह करीब 10 बजे तक हनुमान गढ़ी के आसपास काफी भीड़ बढ़ चुकी थी। किसी को भी घुसने नहीं दिया जा रहा था। पुलिस कारसेवकों को पीछे हटने का आग्रह कर रहा था। काार सेवक बैरीकेडिंग के पास पहुंच गए। पुलिस की वैन के जरिए बैरीकेडिंग को तोड़ दिया। आगे बढ़ने लगे। तभी पुलिस को लखनऊ से गोली चलाने का आदेश मिलता है। 
पुलिस ने चला दीं गोलियां
पुलिस ने गोलियां दाग दीं। कई कारसेवकों की मौत भी हो गई थी। सरयू नदी पर बने पुल के जरिए भाग रहे लोगों में भगदड़ मच गई। उसमें भी कई कारसेवकों की मौत हुई थी। मरने वालों की संख्या का आज तक अंदाजा नहीं लगाया जा सका। 2 नवंबर 1990 को फिर पुलिस ने गोली चलाई और कोठारी बंधुओं की मौत हुई। कई लोग घायल भी हुए और कारसेवा रद्द कर दी गई। 
मुलायम सिंह यादव ने गोलीकांड पर बोले थे
साल 2016 में अपने एक भाषण में मुलायम सिंह यादव ने कारसेवक गोलीकांड पर बोले थे ‌कि अगर मस्जिद को गिर जाने देता तो हिंदुस्तान का मुसलमान महसूस करता कि हमारे धार्मिक स्‍थल भी नहीं रहेंगे। तो इस देश की एकता के लिए वो खतरा होता। मुलायम सिंह यादव ने कहा था कि अगर 16 जानें तो कम थी अगर 30 जानें भी जाती देश की एकता के लिए तो भी मैं अपना फैसला वापस  नहीं लेता। अब उनकी बहू ‌डिंपल यादव राम मंदिर के उद्धाटन में जाने के लिए तैयार हैं। 

ट्रेंडिंग वीडियो