scriptसांसदों को आते-जाते देखने वाला कांस्टेबल बना सांसद, पढ़ें दिल्ली पुलिस के कांस्टेबल की कहानी | Delhi Police Constable Ummedaram Beniwal Biography On Rajasthan Loksabha Election Candidate From Hot Seat Barmer Became MP | Patrika News
बाड़मेर

सांसदों को आते-जाते देखने वाला कांस्टेबल बना सांसद, पढ़ें दिल्ली पुलिस के कांस्टेबल की कहानी

Ummedaram Beniwal : कांग्रेस के दसवें सांसद उमेदाराम बने है और यह दस साल बाद कांग्रेस की वापसी हैै। अब तक हुए 18 लोकसभा चुनावों में कांग्रेस का यहां दबदबा रहा है।

बाड़मेरJun 06, 2024 / 10:59 am

Akshita Deora

Rajasthan Politics: जीवन में बदलाव का अपना दौर है। सफर शुरू कहां से होता है और पहुंचता कहां हैै। बाड़मेर के सांसद बने उमेदाराम बेनीवाल की कहानी भी कुछ ऐसी ही है। दिल्ली पुलिस के संसद मार्ग दिल्ली पुलिस के कांस्टेबल से जीवन की शुरूआत करने वाले उमेदाराम अब इसी दिल्ली में देश की सबसे बड़ी पंचायत की कुर्सी पर रहेंगे।
बाड़मेर के पूनियों का तला गांव के निवासी उमेदाराम बेनीवाल साधारण परिवार से है। खेती और मजदूरी के साथ जीवन की शुरूआत कर वे सरकारी नौकरी मेें वर्ष 1995 में दिल्ली पुलिस में कांस्टेबल लगे और करीब 10 साल तक सेवाएं दी। खास बात यह रही कि 2005 में जब पुलिस कांस्टेबल की सेवा छोड़कर आए तब दिल्ली संसद मार्ग के थाने में थे। जहां सांसदों का आना-जाना इस मार्ग से लगा रहता था। यहां ड्युटी करने वाले उमेदाराम का मन दिल्ली की इस नौैकरी में नहीं लगा तो व्यापार का मानस बना लिया। यहां आकर हैण्डीक्राट का काम प्रारंभ किया। व्यापार चल पड़ा औैर दो पैसे कमा लिए।

सरपंचाई

गांव पूनियों का तला में ग्राम पंचायत के चुनाव में पत्नी पुष्पा सरपंच बनी। यहां से उमेदाराम की भी राजनीति शरू हुई। 2010 से 2015 तक सरपंच रहे।

यह भी पढ़ें

पति राजस्थान में MLA और अब सबसे बड़ी जीत के साथ पत्नी बनी MP, दोनों ने पहली बार लड़ा चुनाव

रालोपा से विधायक का चुनाव लड़ा

2018 और 2023 में राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी से बायतु विधानसभा से विधायक का चुनाव लड़ा और मामूली अंतर से दोनों बार हार गए।

अब सांसद और उसी थाने के आगे से जाएंगे

संयोग देखिए कि 2024 में रालोपा छोड़कर कांग्रेस में आए। सांसद का टिकट मिला और चुन लिए गए है। उमेदाराम दिल्ली वापिस जाएंगे तो अपने उसी थाने के आगे से संसद पहुंचेंगे। जहां वे 2010 में सांसदों को आते-जाते देखते थे। उमेदाराम कहते हैै कि दिल्ली छोड़कर आया था। दिल्ली ने फिर बुला लिया। यह संयोग है।

10 साल बाद कांग्रेस की वापसी, 10वें कांग्रेसी सांसद उमेदाराम

कांग्रेस के दसवें सांसद उमेदाराम बने है और यह दस साल बाद कांग्रेस की वापसी हैै। अब तक हुए 18 लोकसभा चुनावों में कांग्रेस का यहां दबदबा रहा है।
यह भी पढ़ें

BJP के नाम रही राजस्थान की सबसे बड़ी और छोटी जीत, जानिए दोनों सीटों पर कौन कितने वाटों से जीता-हारा

बाड़मेर जैसलमेर की सीट पर 18 बार हुए चुनावों में दस बार कांग्रेस आई है। कांग्रेस पहली बार 1967 में जीती,इससे पहले निर्दलीय व रामराज्य परिषद ने तीन बार के चुनाव जीते थे। फिर कांग्रेस से दो बार 1977 में जनता पार्टी के तनसिंह और 1989 में जनता पार्टी के कल्याणसिंह कालवी ने चुुनाव जीता। 1991 से 1999 के चार चुनाव लगातार कांग्रेस जीती। 2004 में भाजपा के मानवेन्द्रसिंह ने कांग्रेस को रोका औैर भाजपा जीती। 2009 में वापिस कांग्रेस के हरीश चौधरी आ गए। इसके बाद 2014 औैर 2019 के चुनावों में इस सीट पर भाजपा की जीत दर्ज हुई। दस साल तक लगातार भाजपा की जीत बाद 2024 में कांग्रेस के उमेदाराम जीते है।

कांग्रेस

  • 1967- अमृत नाहटा
  • 1971- अमृत नाहटा
  • 1980- वृद्धिचंद जैन
  • 1984- वृद्धिचंद जैन
  • 1991- रामनिवास मिर्धा
  • 1996- कर्नल सोनाराम
  • 1998- कर्नल सोनाराम
  • 1999- कर्नल सोनाराम
  • 2009- हरीश चौधरी
  • 2024- उमेदाराम

Hindi News/ Barmer / सांसदों को आते-जाते देखने वाला कांस्टेबल बना सांसद, पढ़ें दिल्ली पुलिस के कांस्टेबल की कहानी

ट्रेंडिंग वीडियो