30 हजार चयनित शिक्षकों की नियुक्ति मामला : पूर्व सीएम कमलनाथ ने सीएम शिवराज को पत्र लिखकर की अपील

मध्य प्रदेश के 30 हजार 594 चयनित शिक्षकों की नियुक्ति को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सीएम शिवराज को दूसरा पत्र लिखकर नियुक्ति करने की अपील की है।

By: Faiz

Updated: 25 Jan 2021, 08:44 PM IST

भोपाल। शिवराज सरकार ने जहां एक तरफ रोजगार मेले के जरिए प्रदेश के बेरोजगारों को बुलाकर नियुक्ति पत्र देने की व्यवस्था कर रखी है रही है, वहीं दूसरी तरफ प्रदेश के 30 हजार से अधिक ऐसे भी बेरोजगार हैं जिनका चयन तो सरकार द्वारा किया जा चुका है, लेकिन अब तक नियुक्ति अटकी हुई है। शिक्षक भर्ती को लेकर जहां मध्य प्रदेश पत्रिका लगातार इस मामले को उठाता रहा है, वहीं सोमवार को मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह को इस संबंध में पत्र लिखते हुए प्रदेश के 30 हजार से अधिक शिक्षक भर्ती के लिये नियुक्त बेरोजगारों की भर्ती प्रक्रिया शुरु करने की अपील की है।

 

पढ़ें ये खास खबर- MP Board 10th-12th बोर्ड पैटर्न में बदलाव : 30 मिनट में हल करने होंगे 30 ऑब्जेक्टिव क्वेश्चन, जानिये पैटर्न


कमलनाथ ने पत्र में सीएम शिवराज से की ये अपील

news

कांग्रेस परदेश अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा ये पत्र 23 जनवरी को लिखा गया है। हालांकि, इसे उनकी ओर से ट्वीट 25 जनवरी सोमवार को किया गया है, जिसके जरिये उन्होंने सीएम शिवराज से अपील की है कि, 'प्रिय श्री शिवराज सिंह चौहान जी, कांग्रेस सरकार के कार्यकाल के दौरान प्रदेश में लगभग तीस हजार शिक्षकों की भर्ती प्रकिया प्रारंभ की गई थी। भर्ती प्रक्रिया के अंतिम चरण में केवल दस्तावेजों के सत्यापन की प्रक्रिया रह गयी थी। प्रदेश में आपकी सरकार बनने के बाद से संपूर्ण प्रकिया लंबित हो गई हैं, एवं चयनित अभ्यर्थी अपनी नियुक्ति हेतु दीर्घकाल से प्रतीक्षारत है। प्रदेश सरकार द्वारा इस विषय पर कोई ठोस निर्णय नहीं लिये जाने के कारण चयनित अभ्यर्थी उद्वेलित है।


इस संबंध में पूर्व में भी मेरे द्वारा अर्द्ध शासकीय पत्र क्रमांक 698 दिनांक 28 नवंबर 2020 से नियुक्ति हेतु आग्रह किया गया था। कोरोना के कारण बंद शिक्षण संस्थाओं में शैक्षणिक कार्य अब प्रारंभ हो रहा है एवं शिक्षकों की बड़ी संख्या में आवश्यकता पूर्व से ही है। प्रदेश में शिक्षा के स्तर को उच्च आयाम प्रदान करने एवं शिक्षा का अधिकार अधिनियम के तहत न्यूनतम छात्र शिक्षक अनुपात को पूर्ण करने के लिये चयनित अभ्यर्थियों की शिक्षक पद पर नियुक्ति किया जाना अत्यन्त आवश्यक है।

मेरा आपसे पुनः आग्रह है कि इस संबंध में शासनस्तर पर शीघ्रातिशीघ्र निर्णय लेने का कष्ट करें ताकि इन अभ्यर्थियों की मांग पूरी हो सके और प्रदेश में शिक्षण कार्य सुचारू रूप से हो सके। शुभकामनाओं सहित आपका (कमल नाथ) पूर्व मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश।

 

पढ़ें ये खास खबर- चिकित्सा शिक्षा मंत्री बोले- प्रदेश को मिले 10.50 लाख कोरोना वैक्सीन डोज, कांग्रेस के प्रदर्शन रैली में शामिल थे गुंडे


तीन कार्यकालों में चली प्रक्रिया, पर नियुक्ति अब तक नहीं

आपको बता दें कि, शिवराज सरकार में भर्ती निकली, इसके बाद कमलनाथ सरकार बनी, जिस दौरान परीक्षा हुई। लेकिन, इस दौरान कमलनाथ सरकार गिर गई, जिसके बाद एक बार फिर बनी शिवराज सरकार में परीक्षा के परिणाम घोषित हुए, बावजूद इसके शिक्षकों को अब तक नियुक्ति नहीं दी जा सकी है।प्रदेश के हजारों स्कूल बीते दो सालों से शिक्षकों के अभाव से जूझ रहे हैं। ये शिक्षक बच्चों के साथ ही अपने भविष्य के लिए भी मुख्यमंत्री से जल्द नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू करने की मांग कर रहे हैं। क्योंकि नियुक्ति प्रक्रिया कब शुरू होगी, इसके लिए अब तक कोई स्पष्ट जानकारी सामने नहीं आई है।

 

पढ़ें ये खास खबर- जिला अस्पताल से इलाज दौरान लापता हुई थी किशोरी, पुलिस ने 1 घंटे में किया दस्तयाब


प्रदेश के 30 हजार 594 शिक्षकों को नियुक्ति का इंतजार

news

प्रदेश में इस समय 30 हजार 594 शिक्षक प्रतियोगी परीक्षा में चयन होने के बाद से दर-दर भटक रहे हैं। कहने को ये लोग सरकारी नौकरी की दहलीज पर खड़े हैं, लेकिन उनके विषय में एक्शन लेने वाला कोई नहीं है। प्रदेश में उच्च माध्यमिक और माध्यमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा पास करने वाले सरकार की उपेक्षा के कारण दो साल से नियुक्ति के इंतजार में हैं। चयनित अभ्यर्थियों ने जनवरी माह में बनी प्रक्रिया पूरी कर नियुक्ति देने की मांग उठाई। लेकिन, तय तारीख के एक बार फिर निकलने के बाद आज कमलनाथ द्वारा सीएम शिवराज को पत्र लिखकर इस विषय को संज्ञान में लेने की अपील की गई है।

 

किन्नरों के दो पक्ष आपस में भिड़े - video

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned