scriptlok sabha election date 2024 code of conduct in madhya pradesh election commission | lok sabha election date 2024: मार्च में लगेगी आचार संहिता, जानिए कितने चरण में होंगे लोकसभा चुनाव | Patrika News

lok sabha election date 2024: मार्च में लगेगी आचार संहिता, जानिए कितने चरण में होंगे लोकसभा चुनाव

locationभोपालPublished: Feb 21, 2024 01:55:56 pm

Submitted by:

Manish Gite

lok sabha election date 2024- लोकसभा चुनाव 2024 की तारीखों की घोषणा मार्च माह में हो जाएगी...। चुनाव आयोग की तैयारी अंतिम दौर में चल रही है...।

election-2024_1.png
lok sabha election date 2024

lok sabha election date 2024- लोकसभा चुनाव 2024 के दिन करीब आ रहे हैं। चुनाव कौन से माह में होंगे और संभावित तारीखें क्या होंगी, इसे हर व्यक्ति कयास लगा रहा है। हाल ही में चुनाव आयोग के एक पत्र से संकेत मिले हैं कि 16 अप्रैल के बाद कभी भी वोटिंग की तारीखें तय की जा सकती हैं। इस बार चुनाव अप्रैल-मई-जून में आयोजित किए जा सकते हैं। चुनाव इस बार भी 7 चरणों में हो सकते हैं।

चुनाव आयोग समय पर चुनाव कराने की तैयारी में है। स्कूल की परीक्षाएं होने के बाद ही चुनाव की तारीखें तय की जाएंगी। इसलिए चुनाव मई से लेकर जून तक आयोजित किए जा सकते हैं। चुनाव आयोग के एक पत्र से यह संकेत भी मिलते हैं कि चुनाव की तारीखें 16 अप्रैल के बाद की हो सकती है। हालांकि अप्रैल माह में स्कूलों की परीक्षाएं हैं, ऐसे में परीक्षा के बाद ही चुनाव की तारीखें रखी जाएंगीं, क्योंकि देशभर में होने वाले आम चुनाव में बड़े पैमाने पर कर्मचारियों की जरूरत पड़ती है और इस कार्य में सबसे अधिक शिक्षकों की भी ड्यूटी लगाई जाती है।

पिछले दो चुनावों की तारीखों पर गौर करें तो 2014 और 2019 में लोकसभा के चुनाव मई में पूरे हो गए थे और केंद्र की सरकार ने कामकाज संभाल लिया था। इस बार भी चुनाव आयोग की तैयारी है कि मई अंत तक चुनाव करा लिए जाएं। इस बार यह भी कहा जा रहा है कि चुनाव की तारीखें मई और जून तक जा सकती है, क्योंकि अप्रैल में कई राज्यों में परीक्षाओं का आयोजन हो रहा है।

कब लगेगी आचार संहिता

पहले कहा जा रहा था कि चुनाव आयोग भी इस बार फरवरी में तारीखों का ऐलान करके सभी को चौंका देगा, लेकिन वर्तमान परिस्थितियों के मुताबिक चुनाव की तारीखों का ऐलान मार्च अंत तक किया जा सकता है। 2019 में 10 मार्च को आचार संहिता लग गई थी। तब देश में 11 अप्रैल से 19 मई तक सात चरणों में चुनाव आयोजित किए गए थे। अब इस बार 25 मार्च को होली है। वहीं अप्रैल तक परीक्षाओं का आयोजन होगा। इस बार भी मार्च अंत तक चुनाव की तारीखों का ऐलान किया जा सकता है। आचार संहिता लगने के कम से कम 30 दिनों बाद चुनाव कराए जाएंगे।

मध्यप्रदेश में 29 सीटें

मध्यप्रदेश में लोकसभा की 29 सीटें हैं, जिन पर चुनाव होने वाले हैं। वर्तमान में 28 सीटों पर भाजपा का कब्जा है, जबकि एक सीट पर कांग्रेस के नकुलनाथ सांसद हैं। भाजपा इस बार पूरी 29 सीटें जीतने की कोशिश कर रही है, वहीं कांग्रेस भी अपने पक्ष में माहौल बना रही है। इसी सिलसिले में कांग्रेस नेता राहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा भी कई राज्यों के साथ ही मध्यप्रदेश से भी गुजरेगी। लोकसभा के चुनाव में 543 सांसद चुनकर आएंगे। पिछली बार 2019 में हुए आम चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने 303 सीटें जीती थीं और अपने पूर्ण बहुमत को बरकरार रखा था। भाजपा के नेतृत्व वाले गठबंधन ने 353 सीटें जीती थीं।

लगातार बढ़ रहे हैं मतदाता

मध्यप्रदेश में लगातार मतदाता बढ़ रहे हैं। हाल ही में निर्वाचन आयोग की तरफ से चलाए गए अभियान में लगातार नए मतदाता बढ़ रहे हैं जो 18 साल की आयु पूरी कर चुके हैं। हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान मध्यप्रदेश में कुल मतदाताओं की संख्या 5 करोड़ 59 लाख 98 हजार 370 थी। इनमें 28790967 पुरुष मतदाता और 27206136 महिला मतदाता थे। थर्ड जेंडर की संख्या 1267 थे। इसके साथ ही राज्य में 75 हजार 326 सेवा मतदाता थे। राज्य में कुल 5 लाख 03 हजार 564 दिव्यांग मतदाता भी हैं। चुनाव आयोग ने 8 फरवरी तक मतदाता सूची का काम पूरा करने का टारगेट रखा है। सभी राज्यों में इसे पूरा करना है। 18 साल पूरे कर चुके नए मतदाताओं के नाम जोड़ने का अभियान तेजी से चल रहा है। तब तक मतदाताओं की संख्या में और इजाफा होगा।

ट्रेंडिंग वीडियो