डांसिंग से बॉडी को रखें फिट एंड फाइन

स्कूली दिनों का अक्षर और अल्फाबेट का ज्ञान अब आपकी सेहत (health) संवारने में भी काम आ सकता है। अंकों और अंग्रेजी शब्दों के आकार में संगीत (music) पर थिरकने की बोक्वा ग्रुप डांस थैरेपी दुनियाभर में पसंद की जा रही है। इसे वजन (weight) और तनाव (stress) घटाने, दिल को तंदुरुस्त रखने और शरीर का लचीलापन बनाए रखने में मददगार बताया जा रहा है।

By: जमील खान

Updated: 17 Apr 2021, 09:00 PM IST

स्कूली दिनों का अक्षर और अल्फाबेट का ज्ञान अब आपकी सेहत (health) संवारने में भी काम आ सकता है। अंकों और अंग्रेजी शब्दों के आकार में संगीत (music) पर थिरकने की बोक्वा ग्रुप डांस थैरेपी दुनियाभर में पसंद की जा रही है। इसे वजन (weight) और तनाव (stress) घटाने, दिल को तंदुरुस्त रखने और शरीर का लचीलापन बनाए रखने में मददगार बताया जा रहा है। अमरीका में लॉस एंजिल्स के फिटनेस ट्रेनर पॉल मावी ने इस शैली को तैयार किया। भारत के बड़े शहरों में भी बोक्वा का चलन बढ़ रहा है।

एक घंटे में 1200 कैलोरी होती है बर्न
बोक्वा कठिन परिश्रम कराने वाली शैली है। ट्रेनर एक घंटे में 1200 कैलोरी जलाने का दावा करते हैं। इसमें अफ्रीकन संगीत पर पैरों के मूवमेंट से एक, दो, तीन, और ए, बी, सी, डी जैसे अंक और अक्षर बनाने होते हैं।

एक घंटे एक्सरसाइज के बाद रेस्ट लें
इस कार्डियो वर्कआउट में एक घंटा पसीना बहाने के बाद शरीर को आराम देने की प्रक्रिया होती है, जो दिल की धड़कन और सांस को सामान्य करती है।

महिलाओं का पसंदीदा
बोक्वा में कमर और शरीर के निचले हिस्से का व्यायाम होता है, इसलिए लड़कियों और चालीस के आसपास की महिलाओं को यह काफी पसंद आ रहा है।

जमील खान
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned