प्रेग्नेंसी में बरतें खास सावधानी

सिर्फ मच्छर के काटने से ही नवजात को मलेरिया नहीं होता बल्कि मां से भी यह रोग मिलता है जिसे कॉन्जिनाइटल मलेरिया कहते हैं।

By: Jitendra Rangey

Published: 16 May 2019, 10:48 AM IST

रोग बच्चे के जन्म के बाद 24 घंटे से एक हफ्ते के बीच हो सकता है
सिर्फ मच्छर के काटने से ही नवजात को मलेरिया नहीं होता बल्कि मां से भी यह रोग मिलता है जिसे कॉन्जिनाइटल मलेरिया कहते हैं। यह रोग उसे जन्म के बाद 24 घंटे से एक हफ्ते के बीच हो सकता है।
लक्षण : गर्भावस्था के दौरान मां का मलेरिया रोग से ग्रस्त होना बच्चे में भी रोग की आशंका बढ़ा देता है। शिशु में जन्म लेते ही बुखार, शुगर का स्तर कम होने, दौरे आने, एनीमिया व किडनी की कार्यप्रणाली बिगडऩे जैसी दिक्कतें होने पर जान जाने का खतरा बढ़ जाता है।
इलाज : शुगर (ग्लूकोज) लेवल कंट्रोल करने के लिए आईवी (इन्ट्रावीनस) फ्लूइड और एंटीमलेरियल दवाएं देते हैं।
ऐसे होती पहचान : सामान्यत: जन्म के बाद सेप्टीसीमिया (बैक्टीरियल इंफेक्शन) के कारण भी बच्चे को हल्का या तेज बुखार आ सकता है जो एंटीबायोटिक दवाओं से उतर जाता है। लेकिन दवा देने के बाद भी बुखार न उतरे और अन्य लक्षण भी सामने आएं तो मलेरिया की जांच से बच्चे में इस रोग का पता चल जाता है।
डॉ. विष्णु अग्रवाल, शिशु रोग विशेषज्ञ

Show More
Jitendra Rangey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned