गेंदबाजी आक्रमण पर बोले Bhuvneshwar, एक-दूसरे को बताने की जरूरत नहीं पड़ती, परिणाम पर नहीं प्रक्रिया पर ध्यान

Team India के तेज गेंदबाज Bhuvneshwar Kumar ने कहा कि वह Mahendra Singh Dhoni की तरह प्रक्रिया पर ध्यान देना पसंद करते हैं। परिणाम के बारे में वह नहीं सोचते।

By: Mazkoor

Updated: 26 Jun 2020, 06:05 PM IST

Team India के तेज गेंदबाज Bhuvneshwar Kumar ने कहा कि वह Mahendra Singh Dhoni की तरह प्रक्रिया पर ध्यान देना पसंद करते हैं। परिणाम के बारे में वह नहीं सोचते।

नई दिल्ली : टीम इंडिया (Team India) के तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार (Bhuvneshwar Kumar) ने कहा कि वह पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) की तरह परिणाम पर नहीं, बल्कि प्रक्रिया पर ध्यान देते हैं। इसके साथ ही टीम इंडिया के तेज गेंदबाजी आक्रमण के बारे में कहा कि वह इतना अनुभवी है कि किसी को एक-दूसरे से ज्यादा कुछ बताने की जरूरत नहीं पड़ती। हम आपस में कम शब्दों में बात करते हैं। भुवनेश्वर ने ये बातें पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज दीपदास गुप्ता (Deep Das Gupta) से बात करते हुए कही। भुवी ने कहा कि वह खुद को परिणाम से दूर रखते हैं और छोटी-छोटी चीजों पर ध्यान देते हैं। उन्होंने स्पष्ट करते हुए कहा कि वह इसे प्रक्रिया कहते हैं।

आईपीएल में मिले सकारात्मक परिणाम

भुवनेश्वर कुमार ने कहा कि प्रक्रिया पर ध्यान देने से उन्हें मनमाफिक परिणाम हासिल करने में मदद मिलती है। उन्होंने कहा कि इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) में जब उनके कुछ सीजन अच्छे जा रहे थे, तब उन्होंने अपनी इस प्रक्रिया पर ध्यान दिया। उन्होंने पाया कि नतीजा एकदम से बदल गए और काफी सकारात्मक रहे।

ICC की बैठक में Chairman के चुनाव की तारीख पर होगी बात, Shshank Manohar का कार्यकाल हो गया है पूरा

कुमार बोले, दूसरे छोर पर कौन है, इससे नहीं पड़ता फर्क

भुवनेश्वर कुमार ने कहा कि जब वह टीम इंडिया की तरफ से मैदान में उतरते हैं, तब दूसरे छोर से कौन गेंदबाजी कर रहा है इससे ज्यादा फर्क नहीं पड़ता। भुवी ने कहा कि उन्हें जो करना होता है, वह वही करते हैं। मोहम्मद शमी (Mohammed Shami) और जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) सीनियर खिलाड़ी हैं। उन्हें भी पता है क्या करना है। इसलिए हम कम शब्दों में इस बात पर चर्चा करते हैं कि बल्लेबाज क्या करने की कोशिश कर रहा है। हमें एक-दूसरे को ज्यादा कुछ बताने की जरूरत नहीं पड़ती। हम एकमत से अच्छी गेंदबाजी करने का फैसला करते हैं और दोनों छोर से दबाव बनाए रखते हैं।

लक्ष्य बचाने के दौरान भुवी करते हैं अच्छी गेंदबाजी

एकदिवसीय क्रिकेट के आंकड़े देखें जाएं तो स्पष्ट है कि भुवनेश्वर कुमार का दूसरी पारी में लक्ष्य का बचाव करते वक्त रिकार्ड अच्छा है। इस पर भुवनेश्वर ने कहा कि यह अपने आप है जानबूझकर किया हुआ नहीं। उन्होंने कहा कि दूसरी पारी में आपकी कोशिश रक्षात्मक गेंदबाजी की होती है। उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं कि आप गेंदबाजी नहीं करना चाहते, लेकिन मानसिकता डिफेंसिव होती है। आपकी लेंथ, रनअप वही रहता है, लेकिन उन्हें लगता है कि कहीं न कहीं यह फील्ड पोजिशन की बात है। उन्हें लगता है कि रक्षात्मक खेलना और आक्रमण करना काफी हद तक फील्डिंग की सजावट पर निर्भर करता है। अगर आप आक्रमण करना चाहते तो स्लिप लगाते हैं, नहीं तो स्वीपर कवर रखते हैं। इसलिए मानसकिता का असर होता है।

Bookie से संपर्क की जानकारी छिपाने पर लगा है क्रिकेटर पर प्रतिबंध, बोले- हल्के में लिया

अवचेतन पर होता है असर

भुवनेश्वर ने कहा कि उन्हें लगता है कि इसका असर गेंदबाजों के अवचेतन में होता है, जैसा बल्लेबाज करते हैं। रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए कि कितनी गेंदें बची हैं और कितने विकेट हैं। कहीं न कहीं गेंदबाजी भी इस बात को जानता है कि जब सामने वाली टीम 350 रनों के लक्ष्य का पीछा कर रही है तो बल्लेबाज मौके बनाएगा। इसलिए आप ज्यादा से ज्यादा विविधता लाने की कोशिश करते हैं। पहली गेंद से आपके दिमाग में स्थिति साफ रहती है कि लक्ष्य बचाना है। कई बार होता है कि आप 200 के स्कोर पर ही आउट हो जाते हैं तो ऐसे में एक गेंदबाज होने के नाते आप जानते हो कि विकेट निकालना है। कप्तान और टीम प्रबंधन भी जानता है कि रणनीति यह है। अगर इस प्रक्रिया में कुछ रन चले गए तो ठीक है।

Show More
Mazkoor Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned