Bookie से संपर्क की जानकारी छिपाने पर लगा है क्रिकेटर पर प्रतिबंध, बोले- हल्के में लिया

हरफनमौला ने कहा कि वह अनुभवी हैं और काफी अंतरराष्ट्रीय मैच खेल चुके हैं। इसके अलावा ICC code of conduct की कई क्लासेज ले चुके हैं।

By: Mazkoor

Updated: 24 Jun 2020, 08:10 PM IST

नई दिल्ली : बांग्लादेश क्रिकेट टीम (Bangladesh Cricket Team) के स्टार हरफनमौला शाकिब अल हसन (Shakib Al Hasan) को पिछले साल अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट काउंसिल (ICC) ने भ्रष्टाचार और सट्‌टेबाजों (Match Fixer) से संपर्क की जानकारी छिपाने का दोषी पाए जाने पर दो साल का प्रतिबंध लगाया गया था। इसमें से एक साल का प्रतिबंध काटने के बाद वह क्रिकेट मैदान पर वापसी कर सकते हैं और दूसरे साल का प्रतिबंध निलंबित रहेगा। अगर इस दौरान उन्होंने और कोई गलती की, तब वह प्रभावी होगा। अपने प्रतिबंध पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि सट्टेबाजों (Bookies) की ओर से उनसे संपर्क किए जाने के बावजूद इसकी जानकारी छिपा कर उन्होंने बेहद लापरवाही भरी गलती की थी। शाकिब इस साल 29 अक्टूबर के बाद क्रिकेट में फिर से लौट सकते हैं।

MS Dhoni को जन्मदिन पर मिलेगा बेहद खास तोहफा, Bravo ने कर रखी है तैयारी, देखें Video

बोले संपर्कों को हल्के में लिया, लग सकता था 10 साल का प्रतिबंध

शाकिब ने कहा कि उन्होंने इन संपर्कों को बहुत हल्के में लिया था। जब वह आईसीसी के भ्रष्टाचार रोधी अधिकारी (Anti Corruption Officer) से मिले, तब उन्होंने सबकुछ बता दिया, जो उन्हें पता था। इसके अलावा उन्होंने इसके सभी साक्ष्य भी दिए। शाकिब ने बताया कि जब वह अधिकारी से मिले तो उन्हें सब पहले से ही पता था। शाकिब ने कहा कि ईमानदारी से कहें तो यही इकलौता कारण है कि उन्हें सिर्फ एक साल के लिए प्रतिबंधित किया गया। नहीं तो 5-10 साल का प्रतिबंध भी लग सकता था।

बोले, अधिकारियों को जानकारी नहीं देना गलत फैसला

स्टार हरफनमौला क्रिकेटर शाकिब ने कहा कि उन्होंने बेवकूफी भरी गलती की। उन्होंने कहा कि वह अनुभवी हैं और काफी अंतरराष्ट्रीय मैच खेल चुके हैं। इसके अलावा आईसीसी की भ्रष्टाचार रोधी आचार संहिता (ICC code of conduct) की कई क्लासेज ले चुके हैं। इन सबको देखते हुए कहा जाए तो सट्टेबाजों की ओर से उनसे संपर्क की जानकारी अधिकारियों को न देने का फैसला सही नहीं था।

सात और खिलाड़ियों के Corona संक्रमित पाए जाने के बाद PCB की जनता से अपील, सरकारी निर्देशों को मानें

किसी को भी ऐसे संदेश हल्के में नहीं लेने चाहिए

शाकिब अल हसन ने कहा कि उन्हें इस बात का अफसोस है। इसके साथ ही उन्होंने सबक लेने वाले अंदाज में कहा कि किसी को भी इस तरह के संदेशों या फोन को हल्के में नहीं लेना चाहिए या फिर उसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। उन्होंने कहा कि सुरक्षित रहने के लिए हमें इसकी जानकारी आईसीसी की भ्रष्टाचार रोधी इकाई (ICC Anti corruption unit) के अधिकारी को देनी चाहिए। शाकिब ने कहा कि उन्होंने यह सबक सीखा है और उन्हें लगता है कि यह जिंदगी का बड़ा सबक है।

Show More
Mazkoor Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned