बर्थडे स्पेशल: सौरव गांगुली रहे वो खिलाड़ी, जिसने भारतीय क्रिकेट को दिया धोनी जैसा महान कप्तान

सौरव गांगुली ( Sourav Ganguly ) आज 47 साल के हो गए हैं। सौरव गांगुली की वजह से ही महेंद्र सिंह धोनी ( MS Dhoni ) भारतीय टीम में रेग्युलर खिलाड़ी बन पाए।

By: Kapil Tiwari

Updated: 08 Jul 2019, 09:15 AM IST

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट में जब-जब सबसे सफल कप्तानों की बात आती है तो सबसे पहले दो नाम जुबान पर आते हैं। महेंद्र सिंह धोनी और सौरव गांगुली। दादा के नाम से फेमस सौरव गांगुली का आज जन्मदिन है। वो 47 साल के हो गए हैं। सौरव गांगुली की उपलब्धियों की अगर चर्चा करने बैठें तो जाहिर सी बात है कि वक्त की कमी हो जाएगी, लेकिन दादा की उपलब्धियां नहीं गिन पाएंगे। सौरव गांगुली ने भारतीय क्रिकेट टीम को उस स्तर पर पहुंचाया, जहां टीम ने विदेशों में जीत दर्ज करना सीखा। भारतीय क्रिकेट को दादा की सबसे बड़ी देन तो महेंद्र सिंह धोनी हैं, जी हां सौरव गांगुली की बदौलत ही एमएस धोनी आज भारतीय क्रिकेट ही नहीं बल्कि वर्ल्ड क्रिकेट का चमकता हुआ सितारा हैं।

महेंद्र सिंह धोनी को मिला सौरव गांगुली का समर्थन

Ganguly and Dhoni

आखिर कैसे गांगुली के बिना धोनी नहीं पहुंचते यहां तक ?

अपने करियर के दौरान सौरव गांगुली ने कई ऐसे खिलाड़ियों के हुनर को पहचाना और उन्हें आगे बढ़ाया। ऐसे ही नामों में से एक हैं महेंद्र सिंह धोनी। दरअसल, ये बात 2004 की है, जब गांगुली ने धोनी की नेतृत्व क्षमता को पहचाना था। बांग्लादेश के खिलाफ वनडे सीरीज में धोनी ने इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू किया था और धोनी के लाने वाले सौरव गांगुली ही थे। एमएस धोनी की वो सीरीज कुछ खास नहीं गई थी। तीनों ही मैचों में धोनी कोई बड़ा स्कोर नहीं बना पाए थे, लेकिन इसके बाद भी सौरव गांगुली ने धोनी को पाकिस्तान के खिलाफ सीरीज में मौका दिया। यहां भी धोनी पहले मैच में फेल रहे थे, लेकिन गांगुली ने दूसरे वनडे मैच में धोनी को प्लेइंग इलेवन में रखा। लगातार चार मैचों में फ्लॉप होने के बाद भी किसी नए खिलाड़ी को टीम में जगह देना ये साबित कर चुका था कि गांगुली को धोनी पर भरोसा था।

वर्ल्ड कप 2019: टीम इंडिया में चौथे नंबर की है उलझन, गांगुली और पॉन्टिंग ने इस खिलाड़ी को बताया बेस्ट

MS Dhoni

गांगुली का धोनी पर भरोसा हिंदुस्तान को दे गया महान खिलाड़ी

पाकिस्तान के खिलाफ दूसरे मैच में दादा ने धोनी के बैटिंग ऑर्डर में बदलाव करते हुए उन्हें 5वें से तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी के लिएे भेजा। इस मौके को धोनी ने भुना लिया और पाकिस्तान के खिलाफ 148 रन की तूफानी पारी खेली। इस इनिंग के साथ धोनी पहले ऐसे भारतीय रेगुलर विकेटकीपर बन गए, जिसने वनडे में सेंचुरी लगाई थी। गांगुली ने अपनी बायोग्राफी में भी इस बात का जिक्र किया है। गांगुली ने कहा है, 'मैं कई वर्षों से ऐसे खिलाड़ियों पर नजर बनाए हुए था, जिनमें अकले दम पर मैच पलटने की क्षमता हो। साल 2004 में मेरा ध्यान धोनी पर गया। वो इसी तरह के खिलाड़ी हैं। मैं पहले दिन से ही धोनी से प्रभावित था।'

वर्ल्ड कप टीम में क्यों हुआ विजय शंकर का सेलेक्शन? सौरव गांगुली ने दिया इसका जवाब

इन खिलाड़ियों को भी गांगुली ने बढ़ाया आगे

आपको बता दें कि भारतीय टीम के पास आज धोनी हैं तो इसकी वजह गांगुली हैं। उन्होंने कई ऐसे खिलाड़ियों को मौका दिया, जो आगे चलकर विपक्षी टीमों को खौफ में डाल देते थे। हरभजन सिंह, युवराज सिंह, जहीर खान, मोहम्मद कैफ और महेंद्र सिंह धोनी, ये वो खिलाड़ी हैं जो दादा के भरोसे पर खरे उतरे। हम कह सकते हैं कि सौरव गांगुली वो कप्तान थे, जिन्होंने भारत को सबसे बेहतरीन कप्तान दिया।

Show More
Kapil Tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned