झारखंड मॉब लिंचिंग: नकवी बोले- गला दबाकर नहीं, गले लगाकर बोला जा सकता है 'जय श्रीराम'

झारखंड मॉब लिंचिंग: नकवी बोले- गला दबाकर नहीं, गले लगाकर बोला जा सकता है 'जय श्रीराम'

Shiwani Singh | Updated: 25 Jun 2019, 09:07:06 PM (IST) क्राइम

  • Jharkhand में Muslim युवक की पीट-पीट कर हत्या
  • मुस्लिम युवक से लगवाए गए 'जय श्री राम' के नारे
  • Mob lynching का Video वायरल होने के बाद सामने आई घटना

नई दिल्ली। झारखंड के सरायकेला में 22 वर्षीय मुस्लिम युवक की कथित रूप से पीट-पीट कर ( Mob lynching ) हत्या करने के मामले में केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास ( Mukhtar Abbas Naqvi ) नकवी ने निंदा की है। नकवी ने कहा कि लोगों का गला दबाकर नहीं, बल्कि गले लगाकर 'जय श्री राम' कहा जाता है। हज कोर्डिनेटर, हज असिस्टेंट के दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान नकवी ने कहा कि झारखंड की घटना में जो भी लोग शामिल हैं, उन्हें बख्शा नहीं जाएगा। उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें- झारखंड मॉब लिंचिंग पर भड़के असदुद्दीन ओवैसी , भाजपा सरकार को ठहराया जिम्मेदार

इस तरह की घटना दुर्भाग्यपूर्ण

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि इस तरह की घटना दुर्भाग्यपूर्ण है। इन घटनाओं को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। विकास के एजेंडे पर कोई विध्वंसक एजेंडा हावी नहीं होना चाहिए। नकवी ने आगे कहा कि जो लोग ऐसी चीजें करते हैं उनका मकसद सरकार ( Modi government ) के सकारात्मक काम को प्रभावित करना है।'

ओवैसी का भड़का गुस्सा

owaisi

वहीं, झारखंड में मॉब लिंचिंग ( Jharkhand Mob lynching ) को लेकर एआईएमआईएम ( AIMIM ) नेता असदुद्दीन ओवैसी ( Asaduddin Owaisi ) ने राज्य सरकार पर सवाल खड़े किए हैं। ओवैसी ने कहा कि मॉब लिंचिंग ( Mob lynching ) जैसी घटनाएं खत्‍म करने के लिए सरकार को अपनी संवैधानिक जिम्‍मेदारी निभानी होगी। उन्होंने कहा कि भाजपा और आरएसएस मुस्लिमों के खिलाफ पूरे देश में जहर घोलने का काम कर रही है, जिसका असर दिखने लगा है।

संसद में भी उठा झारखंड मॉब लिंचिंग का मुद्दा

झारखंड में मुस्लिम युवक के साथ हुई मॉब लिंचिंग की गूंज बीती सोमवार को संसद के दोनों सदनों में भी सुनाई दी। इस वारदात ने रघुवर दास सरकार ( Raghubar Das ) पर भी सवाल खड़े कर दिए हैं। इस मामले में शामिल 5 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

jharkhand mob lynching

बता दें कि झारखंड में एक 22 वर्षीय मुस्लिम युवक तरबेज अंसाली को साइकिल चोरी के आरोप में भीड़ ने खंभे से बांधकर पिटाई की थी। इस दौरान भीड़ ने युवक से 'जय श्री राम' और 'जय हनुमान' के नारे में लगवाए थे। इसके बाद युवक की मौत हो गई थी। जांच में सामने आया कि इस मामले में पुलिस ने लापरवाही दिखाई और बगैर इलाज के उसे जेल भेज दिया था।

इस तरह सामने आई घटना

मॉब लिंचिंग का वीडियो वायरल ( Viral Vidoe ) होने के बाद यह घटना सामने आई। वीडियों में देखा जा सकता है कि भीड़ पेड़ से बंधे तरबेज अंसाली को पीटते हुए नजर आ रही है। वहीं, पिटाई के बाद भीड़ ने उसे पुलिस को सौंप दिया था। हालत बिगड़ने के बाद उसे एक अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा और रविवार को अस्पताल में उसकी मौत हो गई।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned