scriptPrisoner escapes from district jail, SSP Etawah reaches spot | इटावा: डेढ़ महीने से कर रहा था जेल से भागने की तैयारी, कर्मियों को भी विश्वास में लिया, मिल गया रास्ता | Patrika News

इटावा: डेढ़ महीने से कर रहा था जेल से भागने की तैयारी, कर्मियों को भी विश्वास में लिया, मिल गया रास्ता

locationइटावाPublished: Dec 24, 2023 09:39:11 pm

Submitted by:

Narendra Awasthi

इटावा जिला कारागार से एक कैदी फरार हो गया। जिसकी भूमिका उसने पिछले डेढ़ महीने से बनानी शुरू कर दी थी। जब जेल कर्मियों को भी अपने विश्वास में लिया। चार जेल कर्मियों के निलंबन का पत्र उच्चाधिकारियों को दिया गया है।

इटावा: डेढ़ महीने से कर रहा था जेल से भागने की तैयारी, कर्मियों को भी विश्वास में लिया, मिल गया रास्ता

उत्तर प्रदेश के इटावा के जिला कारागार से एक कैदी फरार हो गया। कैदी की फरार होने की खबर मिलते ही पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। फरार कैदी जिला कारागार की खेती में काम करता था। जिसने कारागार के कर्मियों को भी अपने विश्वास में ले लिया था। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने जिला कारागार का निरीक्षण किया गया। घटना को लेकर उन्होंने बताया कि फरार कैदी की गिरफ्तारी के लिए तीन टीमों को लगाया गया है। चार जेल कर्मियों के खिलाफ रिपोर्ट भेजी गई है। जिनके खिलाफ निलंबन की कार्रवाई होगी।

यह भी पढ़ें

उन्नाव: बाइक की टक्कर, दिया गया मुआवजा, 6 दिन बाद मिला शिक्षक का कंकाल, बंधे थे हाथ पैर

जेल का निरीक्षण करने पहुंचे एसएसपी इटावा संजय कुमार वर्मा ने बताया कि अजय यादव निवासी अरवा कटरा जिला कारागार में बंद था। बीते डेढ़ महीने से कारागार की बगिया में काम कर रहा था। यहीं पर एक ऐसी दीवाल है। जहां से वह निकल सकता था। जिला कारागार के कर्मी की भी लापरवाही सामने आई है। जिसने कैदी से ही ताला बंद करवाया था‌। जिसका फायदा उठाकर भाग निकला। कैदी की गिरफ्तारी के लिए तीन टीमें लगाई गई हैं। जल्दी उसे गिरफ्तार कर लिया जाएगा। सिविल लाइन थाना में इस संबंध में एक मुकदमा भी दर्ज किया गया है।

जिला कारागार का किया निरीक्षण

एक सवाल के जवाब में एसएसपी संजय कुमार वर्मा ने बताया कि जिला कारागार परिसर का उनके द्वारा निरीक्षण किया गया है। उच्च अधिकारियों ने भी जिला कारागार का निरीक्षण किया है। जिला कारागार के नए अधीक्षक आए हैं। जिनको निर्देशित किया गया है कि भविष्य में इस तरह की घटना दोबारा ना हो इसका विशेष ध्यान रखा जाए। जिला कारागार कर्मियों की लापरवाही से यह घटना हुई है। निलंबन की रिपोर्ट भी वरिष्ठ अधिकारियों को भेजी गई है। उनकी प्राथमिकता फरार कैदी की गिरफ्तारी है।

ट्रेंडिंग वीडियो