scriptDM Faizabad Dr Anil Kumar Pathak cleaned village by planting a broom | किसान ने कहा हमारे गाँव में नहीं है सफाईकर्मी डीएम फैजाबाद ने खुद उठा ली झाड़ू | Patrika News

किसान ने कहा हमारे गाँव में नहीं है सफाईकर्मी डीएम फैजाबाद ने खुद उठा ली झाड़ू

एक लावारिस वृद्ध महिला के शव का अंतिम संस्कार कर चर्चा का केंद्र बने थे आईएएस अधिकारी डॉ अनिल पाठक

फैजाबाद

Published: September 08, 2018 06:53:38 pm

फैजाबाद : तहसील दिवस में एक किसान ने जब जिलाधिकारी डॉ अनिल पाठक से शिकायत की कि उसके गांव में सफाई कर्मी तैनात नहीं है जिसकी वजह से उसके गांव में गंदगी फैली हुई है।गंदगी की शिकायत को सुनकर गांव की सफाई की कमान जिलाधिकारी ने आज खुद संभाल ली। मिल्कीपुर तहसील के सिधौना गांव में पहुंचे जिलाधिकारी डॉ अनिल पाठक ने खुद झाड़ू उठा कर गांव की सफाई कर डाली।उनके साथ में गांव वालों ने भी सफाई अभियान में हिस्सा लिया। DM की इस पहल पर गांव वालों ने जमकर तारीफ की और कहा कि सिर्फ प्रशासन ही नहीं हर व्यक्ति को अपने गांव की अपने घर के सामने की सफाई खुद करनी चाहिए अगर एक अधिकारी शहर से आकर गांव की सफाई कर सकता है झाड़ू लगा सकता है तो क्या गांव वाले खुद अपने घर के सामने की सफाई नहीं कर सकते। सफाई करने के बाद जिलाधिकारी उस गांव के प्राइमरी पाठशाला में भी पहुंचे और पठन पाठन का जायजा लिया। कवि हृदय डीएम डॉ अनिल पाठक ने ब्लैक बोर्ड पर लिखकर बच्चों को पढ़ाना शुरू कर दिया और बच्चों से सवाल भी किए।
DM Faizabad Dr Anil Kumar Pathak cleaned village by planting a broom
एक लावारिस वृद्ध महिला के शव का अंतिम संस्कार कर चर्चा का केंद्र बने थे आईएएस अधिकारी डॉ अनिल पाठक

बताते चलें कि अपने सौम्य व्यवहार और कुशल कार्यप्रणाली के चलते जिलाधिकारी फैजाबाद डॉ अनिल कुमार पाठक इन दिनों चर्चा के केंद्र में है | अभी इसी सप्ताह जिलाधिकारी फैजाबाद अपनी कार्यप्रणाली को लेकर चर्चा का केंद्र तब बन गए थे जब उन्होंने अपने पद पर रहते हुए अपनी ड्यूटी निभाने के अलावा मानवीय दृष्टि को सर्वोपरि मानते हुए एक वृद्ध महिला का इलाज कराने और उसके निधन पर उसकी चिता को मुखाग्नि देकर अंतिम संस्कार करने वाले जिलाधिकारी फैजाबाद डॉ अनिल कुमार पाठक ने उस वृद्ध लावारिस मृत्यु महिला से एक बेटे का संबंध निभाने में कोई कसर नहीं छोड़ी | अभी तक जहां उन्होंने मृत महिला के निधन के बाद अपने हाथों से उस महिला की चिता को मुखाग्नि दी थी | वही अब वैदिक कर्मकांड के अनुसार जिलाधिकारी ने वृद्ध महिला की अस्थियों का विसर्जन कर 13 दिन के क्रिया कर्म की तैयारी कर ली है और 13 दिन ब्राह्मण भोज के साथ मृत महिला की आत्मा की शांति के लिए सारे कर्मकांड करने की ठान रखी है | डीएम फैजाबाद अनिल कुमार पाठक द्वारा उठाए गए इस कदम को लेकर समाज के हर वर्ग में उनकी जमकर तारीफ हो रही है |

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

'हर घर तिरंगा' अभियान में शामिल हुई PM नरेंद्र मोदी की मां हीराबेन, बच्‍चों के संग फहराया राष्‍ट्रीय ध्‍वज7,500 स्टूडेंट्स ने मिलकर बनाया सबसे बड़ा ह्यूमन फ्लैग, गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हुआ नामबिहारः सत्ता गंवाते ही NDA के 3 सांसद पाला बदलने को तैयार, महागठबंधन में शामिल होने की चल रही चर्चा'फ्री रेवड़ी ' कल्चर व स्कूल के मुद्दे पर संबित्र पात्रा ने AAP को घेरा, कहा- 701 स्कूलों में प्रिंसिपल नहीं, 745 स्कूलों में नहीं पढ़ाया जाता विज्ञानPM मोदी ने कॉमनवेल्थ गेम्स में हिस्सा लेने वाले दल से मुलाकात की, कहा- विजेताओं से मिलकर हो रहा गर्वप्रियंका के बाद अब सोनिया गांधी भी दोबारा हुईं कोरोना पॉजिटिव, तेजस्वी यादव ने कल ही की थी मुलाकातजम्मू कश्मीर में टेरर लिंक मामले में बिट्टा कराटे की पत्नी समेत चार सरकारी कर्मचारी बर्खास्त2009 में UPSC किया टॉप, 2019 में राजनीति के लिए नौकरी छोड़ी, अब 2022 में फिर कैसे IAS बने शाह फैसल?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.