UP गेट पर देर रात धरना स्थल की बिजली काटी, किसानों को बड़ी कार्रवाई की आशंका

Highlights

- यूपी गेट धरना दे रहे किसानों ने अंधेरे में गुजारी रात

- किसानों ने लाठी-डंडे के साथ दिया पहरा

- किसानों ने सरकार पर लगाया तानाशाही का आरोप

By: lokesh verma

Published: 28 Jan 2021, 10:45 AM IST

गाजियाबाद. गणतंत्र दिवस के अवसर पर किसान ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा के बाद जहां एक तरफ दिल्ली पुलिस पूरी तरह एक्शन में आ गई है। वहीं, अब गाजियाबाद जिला प्रशासन भी पूरी तरह अलर्ट मोड पर आ गया है। गाजियाबाद के यूपी गेट पर धरने पर बैठे किसानों को दी गई बिजली रात के समय काट दी गई। किसान लाठी-डंडे लेकर रातभर पहरा देते हुए दिखाई दिए। किसानों को अब आशंका है कि रात के समय कोई भी बड़ी कार्रवाई हो सकती है।

यह भी पढ़ें- भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ने कहा दिल्ली में लालकिले की हिंसा के पीछे कमयुनिस्ट पार्टी का हाथ

बता दें कि यूपी गेट बॉर्डर पर पिछले दो महीने से ज्यादा समय से बड़ी संख्या में किसान धरने पर बैठे हुए हैं। किसानों ने वहीं अपने तंबू लगाए हुए हैं। अभी तक इन किसानों को पानी का टैंकर, अस्थाई सुलभ शौचालय और स्ट्रीट लाइट से कनेक्शन करने के बाद लाइट भी दी गई थी। लेकिन, जिस तरह से गणतंत्र दिवस पर किसान ट्रैक्टर रैली के दौरान दिल्ली में उत्पात मचा उसके बाद से देशभर में इन लोगों के खिलाफ गुस्सा भरा हुआ है। हर कोई किसानों के खिलाफ तीखी प्रतिक्रिया दे रहा है और इन्हें सख्त से सख्त सजा दिए जाने की मांग की जा रही है। वहीं, अब गाजियाबाद के यूपी गेट बॉर्डर पर बैठे किसानों की देर रात बिजली काटी गई और किसानों को रात अंधेरे में ही गुजारनी पड़ी है। जिस तरह से अचानक यहां की बिजली काटी गई है, उससे लगता है कि अब धरने पर बैठे किसानों को दी जा रहीं अन्य सुविधाएं भी बंद की जा सकती हैं।

समाप्त नहीं होगा हमारा आंदोलन: राकेश टिकैत

गाजीपुर बॉर्डर पर राकेश टिकैत ने कहा कि इस तरीके से हमारा आंदोलन समाप्त नहीं होगा। गांव-गांव में धरने चलेंगे। बिजली काटी गई है वह भी देखा जाएगा। आगे आंदोलन को मजबूती मिलेगी।

बगैर बिजली काम करना हमारी आदत

बिजली काटे जाने पर गाजीपुर में किसान आंदोलन कमेटी के प्रवक्ता जगतार सिंह बाजवा ने कहा कि आंदोलन किसान कर रहे हैं और वह खेत में भी बिना बिजली के काम करते हैं। इसकी उन्हें आदत है। उन्होंने कहा कि सरकार आंदोलन को खत्म करने के लिए तानाशाही पर उतर आई है।

यह भी पढ़ें- किसान आंदोलन के खिलाफ सामूहिक मुंडन कराकर किया अनोखा प्रदर्शन

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned