2000 की आबादी वाले गांव से पहली बार बेटा पहुंचा आइआइटी, पिता ने पूरे गांव में बांटी मिठाई

2000 की आबादी वाले गांव से पहली बार बेटा पहुंचा आइआइटी, पिता ने पूरे गांव में बांटी मिठाई

Hussain Ali | Publish: Jun, 15 2019 04:30:00 PM (IST) Indore, Indore, Madhya Pradesh, India

2000 की आबादी वाले गांव बरखेड़ा से शहर आकर दो साल से जेईई की तैयारी कर रहे अभिषेक गुर्जर की कहानी सभी के लिए प्रेरणा है।

इंदौर. 2000 की आबादी वाले गांव बरखेड़ा से शहर आकर दो साल से जेईई की तैयारी कर रहे अभिषेक गुर्जर की कहानी सभी के लिए प्रेरणा है। उन्होंने अपनी कमजोरियों को ताकत बनाया और आइआइटी प्रवेश परीक्षा क्रेक की।। अभिषेक गुर्जर नरसिंह जिले बांसखेड़ा गांव के रहने वाले है। पिता किसान है और मां सिर्फ दसवीं पास लेकिन अभिषेक ने जेईई एडवांस्ड में ऑल इंडिया रैंक 682 और ओबीसी कैटेगरी में 67वीं रैंक हासिल की है।

must read : मां के गुजरने के बाद पिता ने निभाई दोहरी भूमिका, बेटे ने सिटी टॉपर बनकर दिया फादर्स डे का गिफ्ट

गांव से पहला स्टूडेंट हूं

अभिषेक बताते है कि दो साल पहले में जेईई की तैयारी करने के लिए इंदौर आया था। हमारे गांव में दो हजार लोग रहते है और मैं पहला लडक़ा हूं जो आइआइटी में एडमिशन लेना वाला हूं। मैं आइआइटी दिल्ली में सीएस ब्रांच में एडमिशन लेना चाहता हूं। उन्होंने बताया कि पिता किसान और मां दसवी पास है लेकिन उनका ख्वाब था कि बेटा अच्छे से अच्छी पढ़ाई करें और इसीलिए उन्होंने हमेशा में मुझे आगे बढ़ाने का प्रयास किया। मेरी सफलता से पूरा गांव उत्साहित है। मेरे पापा ने पूरे गांव को मिठाई खिलाकर अपनी खुशी का इजहार किया। मुझे मेरी मां की एक बात हमेशा मोटिवेट करती थी, वो कहती थी शिक्षा से बढ़ा कोई धन नहीं होता और इसी से आगे बढ़ा जा सकता है। बस वहीं बात मुझे आगे बढऩे की प्रेरणा देती रही।

must read : फरवरी 2023 तक इंदौर में दौडऩे लगेगी मेट्रो ट्रेन, यहां बनेंगे स्टेशन

हर दिन 12 घंटे की पढ़ाई

वे बताते है कि जब में शुरूआत में टेस्ट देता था तो मेरी रैंक 30 से 40 के अंदर आती थी। इससे काफी निराश भी हुआ लेकिन अपनी वीक पॉइंट्स पर काम किया तो इम्प्रुवमेंट होने लगा मेरी रैंक टॉप -10 में आने लगी। हर दिन में लगभग 12 घंटे पढ़ाई करता था। साथ ही हर दिन दो मॉक टेस्ट देता था। मैं दो साल में सिर्फ एक ही बार में अपने गांव गया था।

must read : द. अफ्रीका की मैराथन में दौड़े शहर के ये रनर्स, बोले - इंडिया-इंडिया के नारे लगने से बढ़ा जोश

जोन टॉपर्स में छात्र व छात्राएं दोनों

आईआईटी ने इस वर्ष प्रत्येक जोन से 5-5 टॉपर्स की सूची जारी की है। रिजल्ट के अनुसार, एआईआर-1 पर चयनित कार्तिकेय चंद्रेश गुप्ता मुंबई टॉपर रहे। एआईआर-2 पर चयनित हिमांशु गौरव सिंह आईआईटी दिल्ली जोन टॉपर, अनन्या गुप्ता गल्र्स टॉपर रही। कानपुर जोन में धु्रव अरोड़ा व वलाया रामचंदानी टॉपर रही। खडग़पुर जोन से छात्र गुदिपति अनिकेत, छात्रा अंजलिना टॉपर रहे। गुवाहाटी से छात्रों में प्रादिप्ता पराग बोहरा, छात्राओं में आकृति जोन टॉपर रहे। रूडक़ी जोन में जयेश सिंघला (एआईआर-17), गल्र्स में तनु गोयल टॉपर रही। हैदराबाद जोन में जिलिला आकाश रेड्डी, गल्र्स में सूर्या पानेसी साई अव्वल रही।

must read : फोन घनघनाते ही जरूरतमंदों की जान बचाने दौड़ पड़ते हैं शहर के ये फरिश्ते

3636 आर्थिक पिछड़े छात्र चयनित

जेईई-एडवांस्ड के रिजल्ट में कैटेगरी के अनुसार, सामान्य वर्ग के 15,566 विद्यार्थी, ओबीसी-एनसीएल के 7651, एससी वर्ग से 8758, एसटी वर्ग से 3054 विद्यार्थी क्वालिफाई घोषित किए गए। पहली बार, आईआईटी में ईडब्ल्यूएस अर्थात आर्थिक रूप से पिछड़े 3636 विद्यार्थियों को चयनित किया गया। प्रत्येक आईआईटी में 10 प्रतिशत ईडब्लूएस कोटा के लिए अतिरिक्त सीटें आवंटित की जाएगी।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned