scriptDog trapped in cage meant for leopard after 15 days | 15 दिन बाद पिंजरे में फंसा कुत्ता, लोगों में दहशत बरकार | Patrika News

15 दिन बाद पिंजरे में फंसा कुत्ता, लोगों में दहशत बरकार

locationइंदौरPublished: Jan 31, 2024 02:03:11 pm

Submitted by:

Ashtha Awasthi

इंदौर। शहर के नैनोद क्षेत्र में मंगलवार को तेंदुए ने फिर बछड़े पर हमला किया। इसके बाद क्षेत्र में दहशत का माहौल है। तेंदुए का मूवमेंट मिलने के 15 दिन बाद भी वन विभाग खाली हाथ है। हर बार वन विभाग तेंदुए को जल्द ढूंढने का दावा करता है, लेकिन संसाधनों के अभाव में आमजन की जान खतरे में डाली जा रही है। तेंदुए को पकड़ने के लिए लगाए एक पिंजरे में मंगलवार को कुत्ता फंस गया।

dog_meat_1_070620122205.jpg
leopard

तेंदुए के भूखे होने की आशंका: डीएफओ महेंद्र सोलंकी के मुताबिक, ड्रोन के जरिए रात में भी नैनोद में सर्च ऑपरेशन चलाया जाएगा। रात में सर्चिंग के वक्त वाइल्ड लाइफ एक्सपर्ट की टीम की मदद ली जाएगी। आशंका है कि तेंदुआ भूखा है। इसके चलते बच्चों को खतरा हो सकता है। तेंदुआ सबसे पहले 15 जनवरी को सुपर कॉरिडोर पर नजर आया था। इसके बाद अलग-अलग क्षेत्र में देखे जाने की शिकायत वन विभाग को मिली थी। कुछ दिन पहले दिलीप नगर नैनोद में तेंदुआ रहवासी क्षेत्र के बेहद करीब देखा गया था।

15 दिनों से सर्चिंग का दिखावा

वन विभाग 15 दिन बाद भी तेंदुए को पकड़ नहीं सका है। मंगलवार को भी विभाग बछड़े पर हमले को किसी अन्य जंगली जानवर के हमले की आशंका जता रहा था, लेकिन पशु चिकित्सक ने तेंदुए के हमले की पुष्टि की है। फॉरेस्ट की टीम के पास रात में सर्चिंग करने के लिए टॉर्च नहीं थी। मंगलवार को दो किलोमीटर से अधिक रेंज तक रोशनी करने वाली हाईटेक टॉर्च खरीदी। कई दिनों से थर्मल कैमरे से सर्चिंग का दावा करने वाली टीम ने मंगलवार को थर्मल कैमरा किराए से लेने पर विचार किया।

दूसरी ओर, तेंदुए को पकड़ने के लिए अलग-अलग हिस्सों में पिंजरे लगाए जा रहे हैं, लेकिन अब तक तेंदुआ नहीं फंसा। लेकिन इसमें कुत्ता जरूर फंस गया था। पिंजरे में जानवर फंसा देख रहवासियों ने उसे तेंदुआ समझा और वन विभाग को सूचना दी। वन विभाग जब पहुंचा तो खुलासा हुआ कि यह कुत्ता है। उसके बाद उसे छोड़कर पिंजरे को दूसरे स्थान पर शिफ्ट किया।

बछड़े पर हमले की चिकित्सक ने की पुष्टि

मंगलवार को नैनोद इलाके में बछड़े पर तेंदुए ने हमला किया। यह हमला तेंदुए ने ही किया है, जिसकी पुष्टि पशु चिकित्सक ने की है। साथ ही फॉरेस्ट की टीम को मौके पर पगमार्क भी मिले हैं। इस घटना से इलाके में सनसनी फैल गई। वन विभाग ने इलाके में पिंजरे और कैमरे लगाए हैं, लेकिन उसमें भी कुछ सामने नहीं आया है। तेंदुए को पकड़ने में नाकाम विभाग की टीम लोगों को हिदायत ही दे रही है कि बच्चों को सुरक्षित रखें।

ट्रेंडिंग वीडियो