scriptjabalpur engineering college celebrates 75th anniversary | जबलपुर का सरकारी कॉलेज: जो शरारतों में अव्वल लेकिन दीं नामी हस्तियां | Patrika News

जबलपुर का सरकारी कॉलेज: जो शरारतों में अव्वल लेकिन दीं नामी हस्तियां

जबलपुर का सरकारी कॉलेज: जो शरारतों में अव्वल लेकिन दीं नामी हस्तियां

 

जबलपुर

Updated: July 12, 2022 10:55:35 am

जबलपुर। अस्सी के दशक का पूर्वार्ध यह मेरे कॉलेज जीवन का कालखंड। अत्यंत सुनहरा, चमकता - दमकता। वो भी इसलिए, की मैं जबलपुर के गवर्नमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज में पढ़ रहा था। जबलपुर का, या यूं कहे की पूरे महाकौशल क्षेत्र का सबसे बड़ा कॉलेज। 7 जुलाई 1947 को, अर्थात स्वतंत्र होने के मात्र सवा महीना पहले, यह कॉलेज प्रारंभ हुआ अर्थात कॉलेज प्रारंभ हो कर 75 वर्ष पूर्ण हो रहे हैं। उन दिनों निजी अभियांत्रिकी महाविद्यालय होते ही नहीं थे। मेरे प्रवेश लेने से कुछ ही वर्ष पूर्व रीवा का अभियांत्रिकी महाविद्यालय प्रारंभ हुआ था। वह महाकौशल का दूसरा अभियांत्रिकी महाविद्यालय था। पूरे प्रदेश में गिने चुने अभियांत्रिकी महाविद्यालय थे।

jabalpur engineering college
jabalpur engineering college

विचारक एवं पूर्व छात्र प्रशांत पोल ने साझा की यादें, बताया कैसे हुई स्थापना, कौन कौन यहां पढ़ा

जबलपुर, रीवा, रायपुर, बिलासपुर, इंदौर, ग्वालियर और उज्जैन, बस इतने ही। इन सब में जबलपुर अलग था। पुराना तो था, लेकिन फेकल्टी के मामले में और शरारतों के मामले में अव्वल माना जाता था। शरद यादव को उस कॉलेज से निकले पांच - सात साल ही हुए थे। वह आपातकाल के बाद का समय था। आपातकाल में हमारे कॉलेज से कई बड़े नेता निकले। राजीव क्षीरसागर (वर्तमान में संघ प्रचारक) जैसे विद्यार्थियों ने कॉलेज छोड़ कर सत्याग्रह में भाग लिया था और सवा वर्ष से ज्यादा समय जेल में बिताया था।

jabalpur engineering college celebrates 75th anniversary, 75th anniversary celebration Jec Jabalpur

सरसंघ चालक संदर्शन जी इसी कॉलज के छात्र रहे
ऐसे उथल-पुथल भरे माहौल में मैंने कॉलेज में प्रवेश लिया था। उन दिनों पांच वर्ष का इंजीनियरिंग होता था। पहले दो वर्ष सभी विषय पढऩे पड़ते थे। सेकंड ईयर के बाद विषय चुनना होता था। हमारे समय ज्यादातर छात्र सिविल चुनते थे। उसके बाद मैकेनिकल। मेरा तो प्रवेश के समय से ही तय था, इलेक्ट्रॉनिक्स और टेलीकॉम में जाना। देश में 1946 में दूरसंचार का विभाग सर्वप्रथम बेंगलुरु में खुला। अगले ही वर्ष जबलपुर और पुणे में दूरसंचार प्रारंभ हुआ। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पांचवें सरसंघचालक सुदर्शन इसी पहले बैच के दूरसंचार के छात्र थे। उन दिनों दूरसंचार की ही डिग्री मिलती थी। इलेक्ट्रॉनिक्स यह शब्द, इस डिग्री में, साठ के दशक के अंत में जुड़ा।


देश को दिए सर्वश्रेष्ठ इंजीनियर
कॉलेज में बहुत ज्यादा गतिविधियां उन दिनों होती नहीं थी लेकिन कॉलेज का माहौल बड़ा वाइब्रेंट रहता था। दस बजे कॉलेज गेट पर कोई चढ़ गया, तो समझो हड़ताल पक्की। हड़ताल के लिए कोई विशेष कारण भी नहीं होते थे। कॉलेज में स्विमिंग पूल होना चाहिए, जैसी मांगों के लिए भी स्ट्राइक होती थी। कॉलेज गेट बंद दिखा कि चेहरे पर खुशियां छा जाती और कौन से टॉकीज में बारह का शो मिल सकता हैं, उसकी पड़ताल होती थी। इस कॉलेज ने अनेक हस्तियां इस देश को दी। केवल मध्यप्रदेश नहीं, तो सारे देश में उच्च गुणवत्ता के अभियंता दिए। कॉलेज के वे पांच वर्ष, जीवन के सबसे सबसे मधुर, सबसे सुहाने और सबसे हैप्पिनिंग वर्ष थे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

किडनैंपिग के आरोपी हैं बिहार के कानून मंत्री कार्तिकेय सिंह, सरेंडर वाले दिन ही ली शपथ, नीतीश बोले-मुझे जानकारी नहींदिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने लॉन्च किया ‘मेक इंडिया नंबर-1’ कैंपेन, पूछा - आजादी के 75 वर्ष बाद भी हम बाकी देशों से पीछे क्यों?सुप्रीम कोर्ट ने 'रेवड़ी कल्चर' के खिलाफ सभी पक्षों से मांगे सुझाव, 22 अगस्त तक दिया वक्तशिवमोगा तनाव पर कर्नाटक BJP नेता केएस ईश्वरप्पा का विवादित बयान- मुस्लिम यहां शांति से रहे या पाकिस्तान चले जाएंकेरल कोर्टः यौन उत्पीड़न की शिकायत पहली नजर में नहीं टिकेगी, जब महिला ने 'यौन उत्तेजक' पोशाक पहनी होTrain Accident: महाराष्ट्र के गोंदिया में रेल हादसा, पैसेंजर ट्रेन ने मालगाड़ी को मारी टक्कर; दो यात्री घायलमहागठबंधन सरकार बनने के बाद आज पटना में नीतीश कुमार से मिलेंगे राजद सुप्रीमो लालू यादव, इन मुद्दों पर होगी बातElon Musk News : ट्विटर से डील रद्द करने वाले एलन ने अब Twitter पर ही किया एक और कंपनी खरीदने का ऐलान और फिर मारी पलटी!
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.