scriptDeer and jawan's friendship: Deer and jawan's friendship in naxal camp | जंगल में नक्सल मोर्चे पर तैनात जवानों से हिरण ने की खास दोस्ती, अब साथ ही करती है गश्त | Patrika News

जंगल में नक्सल मोर्चे पर तैनात जवानों से हिरण ने की खास दोस्ती, अब साथ ही करती है गश्त

Deer and jawan's friendship: घोर नक्सल प्रभावित सुकमा जिले से खास तस्वीर (Special picture) आई है सामने, जवान (Jawan's) उसे जंगल में छोड़ देते हैं लेकिन वह लौटकर उनके पास ही आ जाती है, अब जवानों के साथ ही रहती है हिरणी, जवान भी उसके खाने-पीने व स्वास्थ्य (Health) का रखते हैं पूरा ख्याल

जगदलपुर

Published: December 04, 2021 02:57:37 pm

जगदलपुर. Deer and jawans friendship: इंसान व जानवरों की दोस्ती बेमिसाल होती है। जानवर भी इंसान की भाषा बखूबी समझते हैं। कई जानवरों की प्रकृति इंसानों के साथ रहने की नहीं होती है लेकिन कई वन्य जीव व जानवर इंसानों का साथ पसंद करते हैं। ऐसी ही एक तस्वीर बस्तर रेंज (Bastar Range) के घोर नक्सल प्रभावित सुकमा जिले से सामने आई हैं। यहां नक्सल मोर्चे पर तैनात जवानों से एक हिरणी (Female deer) ने दोस्ती की है। पहली बार हुआ ये कि हिरणी जवानों के कैंप (Jawan's camp) तक पहुंच गई। पहले तो जवानों ने सोचा कि वह भटककर आ गई होगी, लेकिन जवानों को देखकर वह बार-बार उनके पास आ रही थी। जब जवान उसके पास गए तो वह खड़ी ही रही, जवानों ने उसे जंगल में छोडऩा चाहा लेकिन वह उनके पास ही लौट आती। तब से वह जवानों के साथ ही रहने लगी। अब जवान जब गश्त पर जाते हैं तो वह भी उनके साथ होती है।
Deer and jawans friendship in Naxal morcha
Deer and jawans friendship

जवानों और हिरणी के इस खास दोस्ती (Special friendship) की कहानी दरअसल यह है कि सुकमा जिले के एक कैंप के जवान कुछ महीने पहले नियमित पेट्रोलिंग पर जंगल के भीतर गए थे। इसी दौरान उन्हें वहां पर एक हिरणी दिखाई दी, जो बार-बार उनकी ओर आई जा रही थी।
यह भी पढ़ें
लाखों रुपए खर्च कर लाए गए कुमकी हाथियों में 2 निकलीं गर्भवती, अब हर महीने रख-रखाव पर 1.20 लाख खर्च

Deer and jawans friendship news
IMAGE CREDIT: Naxal camp
जवानों ने जब इस बात पर गौर किया तो उन्हें मालूम चला कि हिरणी किसी जंगली जानवरों से बचना चाहती है और डरी हुई है। जवानों ने जंगल में कुछ दूर जाकर हिरणी के वापस लौटने का इंतजार किया लेकिन वह वापस नहीं जाना चाहती थी। जब जवान कैंप की ओर बढऩे लगे तो उनके साथ ही चलने लगी।
यह भी पढ़ें
अपना आधार कार्ड कर लें लॉक ताकि कोई न कर सके इसका मिस यूज, ये है लॉक करने का प्रोसेस


अब जवानों के साथ ही रह रही हिरणी
जंगल में हुई इस दोस्ती (Deer and jawans friendship) के बाद से हिरणी जवानों के साथ ही कैंप में रह रही है। जब भी जवान कैंप के आसपास गश्त पर जाते हैं तो वह उनके साथ होती है। कैंप (Police jawan's camp) में जवान उसके खाने-पीने का पूरा ख्याल रखते हैं। पूरे कैंप के जवानों की हिरणी के साथ दोस्ती हो चुकी है। हिरणी व जवानों की दोस्ती क्षेत्र में अब चर्चा का विषय बन गई है।
BY- आकाश मिश्रा

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Corona Update in Delhi: दिल्ली में संक्रमण दर 30% के पार, बीते 24 घंटे में आए कोरोना के 24,383 नए मामलेSSB कैंप में दर्दनाक हादसा, 3 जवानों की करंट लगने से मौत, 8 अन्य झुलसे3 कारण आखिर क्यों साउथ अफ्रीका के खिलाफ 2-1 से सीरीज हारा भारतUttar Pradesh Assembly Election 2022 : स्वामी प्रसाद मौर्य समेत कई विधायक सपा में शामिल, अखिलेश बोले-बहुमत से बनाएंगे सरकारParliament Budget session: 31 जनवरी से होगा संसद के बजट सत्र का आगाज, दो चरणों में 8 अप्रैल तक चलेगानिलंबित एडीजी जीपी सिंह के मोबाइल, पेन ड्राइव और टैब को भेजा जाएगा लैब, खुल सकते हैं कई राजUP Election 2022: सपा कार्यालय में आयोजित रैली में टूटा कोविड प्रोटोकॉल, लखनऊ के गौतमपल्ली थाने में सपा नेताओं पर FIR दर्जGujarat Hindi News : दो अलग-अलग सड़क दुर्घटनाओं में दो छात्राओं समेत पांच की मौत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.