scriptCyber Fraud on Ram Mandir Police and VHP alert | Rajasthan News : अब 'राम मंदिर' के नाम पर होने लगा साइबर फ्रॉड, ज़रूर पढ़ें अलर्ट करने वाली खबर | Patrika News

Rajasthan News : अब 'राम मंदिर' के नाम पर होने लगा साइबर फ्रॉड, ज़रूर पढ़ें अलर्ट करने वाली खबर

locationजयपुरPublished: Jan 27, 2024 11:31:50 am

Submitted by:

Nakul Devarshi

Ram Mandir Cyber Fraud Gang : सावधान रहें, कहीं राम मंदिर के दान और प्रसाद के नाम पर ना हो जाएं ठगी का शिकार

7.jpeg

अयोध्या में भव्य राम मंदिर के उद्घाटन और भगवान रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के बाद देशभर के लोग इस ऐतिहासिक मंदिर में दर्शन को लेकर उत्सुक हैं। लेकिन भीड़ अधिक होने से केवल वर्चुअल दर्शन ही कर रहे हैं। वहीं, साइबर अपराधियों ने मंदिर के नाम पर फायदा उठाना शुरू कर दिया है। वे दान और प्रसाद के नाम पर ठगने के लिए सोशल मीडिया पर मैसेज और लिंक्स भेज रहे हैं।

इस संबंध में गृह मंत्रालय की ओर से भी अलर्ट जारी हो चुका है। गृह मंत्रालय के साइबर सिक्योरिटी व साइबर अवेयरनेस के मीडिया हैंडल पर कहा गया है कि सावधान रहें, जालसाज अयोध्या राम मंदिर के प्रसाद के ऑनलाइन ऑर्डर या दान के संग्रह की पेशकश के साथ आपको धोखा देने का प्रयास कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें : अगर खाते हैं घी, तो ज़रूर पढ़ लें राजस्थान में हुए इस 'खुलासे' को

विहिप ने किया सावधान
विश्व हिन्दू परिषद् (विहिप) के आधिकारिक एक्स हैंडल पर पोस्ट की गई है और लोगों को सावधान रहने की बात कही है। इस पोस्ट में कहा है कि श्री राम जन्मभूमि मंदिर, अयोध्या के लिए अलग समिति बनाकर, रसीद छापकर धन संग्रह की सूचना अथवा अनुमति किसी को भी नहीं दी है। समाज भी ऐसी परिस्थिति में सजग रहे।

लीक हो सकता है डेटा और अकाउंट
राम मंदिर के दर्शन और दान के नाम से फ्रॉड मैसेज भेजे जा रहे हैं। साइबर अपराधियों की ओर से फर्जी मोबाइल एप्लीकेशन की एपीके फाइल लोगों के व्हाट्सएप पर भेजी जा रही है। साइबर एक्सपर्ट श्याम चन्देल ने बताया कि इस एपीके फाइल के इन्स्टॉल करने पर मोबाइल का सारा डेटा चोरी हो सकता है एवं मोबाइल हैक हो सकता है। साथ ही उस मोबाइल में जो सिम काम कर रही है, उससे संबंधित सारे बैंक खाते आपके यूपीआई से खाली हो सकता है। इसलिए इस तरह का कोई मैसेज प्राप्त होने पर कोई भी प्रतिक्रिया ना दें। उसे तुरन्त डिलीट करें और अपने मोबाइल की हिस्ट्री फ़ाइल, कुकीज़ एवं केसेस फ़ाइल को भी डिलीट करें।

ये भी पढ़ें : अब खस्ता समोसे-कचोरी-जलेबी नहीं, सरकारी अफसरों-कार्मिकों के लिए तय हुआ ये 'अल्पाहार मेन्यू'

ऐसे मैसेज आ रहे हैं

साइबर ठग लोगों को वाट्सएप, इंस्टाग्राम, टेलीग्राम, फेसबुक अकाउंट पर लिंक भेज रहे हैं। उसमें कहा जा रहा है कि मंदिर उद्धाटन के लिए वीआइपी पास प्राप्त करें। भेजा जा रहा एपीके फाइ एक मैलवेयर है, जिसपर क्लिक करते ही मोबाइल फोन, लैपटाप व अन्य इलेक्ट्रानिस डिवाइस को जालसाज रिमोट पर लेकर ठगी कर सकते हैं। डेटा चुराने के साथ उगाही आदि कर सकते हैं। पुलिस ने लोगों से इस तरह के मैसेज पर ध्यान नहीं देने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि भेजे जा रहे एपीके फायल पर लिक नहीं करें और उसे डिलीट कर दें।

साइबर ठगी होने पर यहां करें संपर्क
पुलिस के अनुसार, साइबर अपराध होने पर अपनी शिकायत साइबर हेल्पलाइन 1930 या https://cybercrime.gov.in/ पर दर्ज करवाएं। साइबर पुलिस द्वारा साइबर अपराधियों के बैंक खातों को फ्रीज करके ठगी से प्राह्रश्वत की गई राशि वापस आपके बैंक खाते में ट्रांसफर करवा सकती है।

 

ट्रेंडिंग वीडियो