script चीन बॉर्डर पर जवान उगा रहे फल-सब्जियां... डिब्बा बंद भोजन से तौबा | jaipur | Patrika News

चीन बॉर्डर पर जवान उगा रहे फल-सब्जियां... डिब्बा बंद भोजन से तौबा

locationजयपुरPublished: Jan 15, 2024 01:21:35 pm

Submitted by:

Devendra Singh

डीआरडीओ की पहल पर भारत-चीन सीमा पर ग्रीनहाउस से बदली तस्वीर , स्थानीय लोगों को भी किया जा रहा प्रेरित

jaipur
jaipur
देवेंद्र सिंह राठौड़

जयपुर. भारत-चीन सीमा पर तैनात जवान अब खुद की सेहत को लेकर सजग हो गए हैं। डिब्बाबंद भोजन से तौबा कर ताजा फल-सब्जियों का सेवन कर रहे हैं। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) की पहल पर यह संभव हो पाया है। दरअसल, अरुणाचल प्रदेश से सटे भारत-चीन सीमा पर ठंडे व पर्वतीय क्षेत्र होने के कारण सेना के जवानों को डिब्बाबंद भोजन पर ही निर्भर रहना पड़ता था। इस कारण जवानों को सेहत संबंधी काफी दिक्कत हो रही थी। इस समस्या को देखते हुए असम राज्य के तेजपुर स्थित डीआरडीओ ने वर्ष 2014 में पहल की थी। जिसके तहत अरुणाचल प्रदेश के तवांग और सलारी क्षेत्र में डीआरडीओ की दोनों अनुसंधान केंद्रों में ग्रीनहाउस स्थापित किए गए। जहां सफलतापूर्वक फल और सब्जियों का उत्पादन किया गया। जवानों को प्रशिक्षण दिया गया। इसके बाद जवानों ने सीमा क्षेत्रों में कई ग्रीनहाउस स्थापित किए। इन सभी में फल-सब्जियां उगा रहे हैं। अब फल-सब्जियां स्थानीय लोगों को नि:शुल्क उपलब्ध भी करवा रहे हैं।
.............
स्थानीय लोगों को भी कर रहे प्रेरित

इस प्रोजेक्ट के तहत ग्रामीणों को भी प्रेरित किया जा रहा है। उन्हें भी ग्रीनहाउस का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इससे उन्हें रोजगार भी मिल रहा है। साथ ही सालभर ताजी फल-सब्जियां भी मिल जाती हैं।
.....
यहां भी प्रयोग

डीआरडीओ के अधिकारियों का कहना है कि सीमा क्षेत्रों पर ग्रीनहाउस तैयार किए जाने का प्रयोग लद्दाख, तिब्बत, हिमाचल में भी किए जा रहे हैं। वहां पर भी सफलता मिली है।
....
ये उगा रहे फल-सब्जियां

- मूली, गोभी, टमाटर, ब्रोकली, ककड़ी आदि सब्जियां।

यह होता है ग्रीन हाउस

ग्रीनहाउस एक तरह से पौधों के लिए सुरक्षित आश्रय स्थल होता है। कांच या प्लास्टिक के फ्रेम वाले ग्रीनहाउस का इस्तेमाल फलों, सब्जियों, फूलों और किसी भी अन्य पौधों के उत्पादन के लिए किया जाता है। इससे बहुत अधिक गर्मी और सर्दी से पौधे सुरक्षित रहते हैं। धूल, बर्फ, बारिश और कीटों का असर नहीं होता। प्रकाश और तापमान नियंत्रण की वजह से ग्रीनहाउस कृषि के अयोग्य भूमि को कृषि योग्य भूमि में बदल देता है।

ट्रेंडिंग वीडियो