script Rajasthan Chunav: जयपुर जिले की इन सीटों पर 'फाइट' है सबसे 'टाइट', त्रिकोणीय नहीं- दिख रहा चतुष्कोणीय मुकाबला | Rajasthan Chunav Congress Bjp Facing Tough Challenge From Independent Candidates On Many Seats In Rajasthan | Patrika News

Rajasthan Chunav: जयपुर जिले की इन सीटों पर 'फाइट' है सबसे 'टाइट', त्रिकोणीय नहीं- दिख रहा चतुष्कोणीय मुकाबला

locationजयपुरPublished: Nov 24, 2023 09:29:23 am

Submitted by:

Kirti Verma

Rajasthan Chunav: विधानसभा चुनाव में इस बार कांग्रेस को निर्दलीय और अन्य दलों के प्रत्याशियों से प्रदेश में कई सीटों पर कड़ी चुनौती मिल रही है। इधर जयपुर जिले की 19 में से 12 सीटों पर भाजपा-कांग्रेस प्रत्याशियों के बीच सीधा मुकाबला है।

rajasthan election

Rajasthan Chunav: विधानसभा चुनाव में इस बार कांग्रेस को निर्दलीय और अन्य दलों के प्रत्याशियों से प्रदेश में कई सीटों पर कड़ी चुनौती मिल रही है। इधर जयपुर जिले की 19 में से 12 सीटों पर भाजपा-कांग्रेस प्रत्याशियों के बीच सीधा मुकाबला है। वहीं 5 सीटें ऐसी हैं जहां त्रिकोणीय मुकाबला है तो दो सीटों पर चतुष्कोणीय मुकाबला बना हुआ है। इन सीटों पर निर्दलीय और अन्य दलों के प्रत्याशियों ने भाजपा-कांग्रेस के प्रत्याशियों को कड़ी चुनौती दे रखी है। जयपुर शहर की भी 10 में से 9 सीटों पर सीधा मुकाबला है। वहीं एक सीट पर त्रिकोणीय मुकाबला है। हवामहल, किशनपोल, विद्याधर नगर, आदर्श नगर, मालवीय नगर, सिविल लाइंस, सांगानेर, बगरू और आमेर क्षेत्र में सीधा मुकाबला है वहीं झोटवाड़ा विधानसभा क्षेत्र में त्रिकोणीय मुकाबला है।

इन सीटों पर सीधा मुकाबला

हवामहल
हवामहल विधानसभा क्षेत्र में भाजपा प्रत्याशी स्वामी बालमुकुंदाचार्य और कांग्रेस प्रत्याशी आर आर तिवारी के बीच सीधा मुकाबला है। हवामहल सीट पर भाजपा-कांग्रेस दोनों ही दलों से नए प्रत्याशी हैं। आप प्रत्याशी के चुनाव मैदान से हटने के बाद कांग्रेस को राहत मिली है।

आदर्श नगर
आदर्श नगर विधानसभा क्षेत्र में भी भाजपा प्रत्याशी रवि नैय्यर कांग्रेस प्रत्याशी रफीक खान के बीच सीधी टक्कर है। कांग्रेस से बगावत कर आप की टिकट पर चुनाव मैदान में उतरे उमरदराज अब कांग्रेस के समर्थन में चुनाव मैदान से हट गए हैं, जिससे यहां कांग्रेस को राहत मिली है।

किशनपोल
किशनपोल विधानसभा क्षेत्र में भी कांग्रेस प्रत्याशी अमीन कागजी और भाजपा प्रत्याशी चंद्र मनोहर बटवाड़ा के बीच सीधा मुकाबला है। हालांकि यहां कई निर्दलीय प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं लेकिन मजबूत चेहरे के तौर पर कोई भी सामने नहीं है। यहां भाजपा ने नए चेहरे के रूप में बटवाड़ा को चुनाव मैदान में उतारा।

सिविल लाइंस
सिविल लाइंस विधानसभा क्षेत्र में भी कांग्रेस प्रत्याशी और कैबिनेट मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास और भाजपा प्रत्याशी गोपाल शर्मा के बीच सीधी टक्कर है। भाजपा के बागी रणजीत सिंह सोडाला के चुनाव मैदान से हटने के बाद भाजपा को यहां राहत मिली है। भाजपा ने यहां नए चेहरे के रूप में गोपाल शर्मा को चुनाव मैदान में उतारा है।

मालवीय नगर
मालवीय नगर विधानसभा क्षेत्र में भी भाजपा प्रत्याशी और मौजूदा विधायक कालीचरण सराफ और कांग्रेस प्रत्याशी अर्चना शर्मा के बीच सीधा मुकाबला है। हालांकि दोनों तीसरी बार आमने-सामने हैं। पिछला चुनाव सराफ बहुत कम अंतर से जीते थे।

सांगानेर
सांगानेर विधानसभा क्षेत्र में भी कांग्रेस प्रत्याशी पुष्पेंद्र भारद्वाज और भाजपा प्रत्याशी भजन लाल शर्मा के बीच सीधा मुकाबला है। भाजपा ने मौजूदा विधायक अशोक लाहोटी का टिकट काटकर नए चेहरे के तौर पर भजनलाल को चुनाव मैदान में उतारा है। इस सीट पर बसपा प्रत्याशी भी कांग्रेस को समर्थन देकर चुनाव मैदान से हट गए हैं।

विद्याधर नगर
विद्याधर नगर विधानसभा क्षेत्र में भी भाजपा प्रत्याशी दिया कुमारी और कांग्रेस प्रत्याशी सीताराम अग्रवाल के बीच सीधा मुकाबला है। भाजपा ने मौजूदा विधायक नरपत सिंह की बजाय जयपुर के पूर्व राजपरिवार की सदस्य और राजसमंद से भाजपा सांसद दिया कुमारी को चुनाव मैदान में उतारा है। कांग्रेस ने सीताराम अग्रवाल को दूसरी बार यहां से टिकट दिया है।

बगरू
बगरू विधानसभा क्षेत्र में भी कांग्रेस प्रत्याशी गंगा देवी और भाजपा प्रत्याशी कैलाश वर्मा के बीच सीधा मुकाबला है। गंगा देवी मौजूदा विधायक हैं तो वहीं कैलाश वर्मा 2013 में यहां से विधायक चुने गए थे।

आमेर
आमेर विधानसभा में कांग्रेस प्रत्याशी प्रशांत शर्मा और भाजपा प्रत्याशी और मौजूदा विधायक सतीश पूनिया के बीच सीधी टक्कर है। सतीश पूनिया भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष रह चुके व उपनेता प्रतिपक्ष हैं। दोनों दूसरी बार आमने-सामने हैं।

जमवारामगढ़
जमवारामगढ़ में भी भाजपा प्रत्याशी महेंद्रपाल मीना और कांग्रेस प्रत्याशी गोपाल मीना के बीच सीधी टक्कर है। गोपाल मीना मौजूदा विधायक और जयपुर देहात के अध्यक्ष भी हैं। यहां आरएलपी प्रत्याशी सहित शेष निर्दलीय भी मैदान में डटे हैं। बावजूद इसके भाजपा-कांग्रेस के बीच ही सीधा मुकाबला बताया जा रहा है।

दूदू
दूदू विधानसभा क्षेत्र में भी भाजपा-कांग्रेस के बीच ही सीधा मुकाबला है। कांग्रेस ने पिछली बार निर्दलीय चुनाव जीते बाबूलाल नागर को उतारा है वहीं भाजपा से प्रेमचंद बैरवा चुनाव लड़ रहे हैं। बाबूलाल नागर दूदू से चार और बैरवा एक बार विधायक रह चुके हैं।

फुलेरा
यहां भी भाजपा-कांग्रेस के बीच सीधी टक्कर है। भाजपा के निर्मल कुमावत यहां से लगातार तीन बार जीत चुके हैं और चौथी बार चुनाव मैदान में हैं। वहीं कांग्रेस से विद्याधर चौधरी दूसरी बार चुनाव मैदान में हैं। चौधरी पिछली बार मामूली अंतर से चुनाव हारे थे।

यह भी पढ़ें

भूल हो गई थी, सरकार आते ही राजस्थान के इस कस्बे को बनाएंगे जिला- अशोक गहलोत

इन सीटों पर त्रिकोणीय मुकाबला
झोटवाड़ा
झोटवाड़ा विधानसभा क्षेत्र में त्रिकोणीय मुकाबला है। कांग्रेस ने मौजूदा विधायक और मंत्री लालचंद कटारिया की जगह एनएसयूआइ के अध्यक्ष अभिषेक चौधरी को मैदान में उतारा है। भाजपा ने जयपुर ग्रामीण से सांसद राज्यवर्धन सिंह राठौड़ को टिकट दिया है। निर्दलीय प्रत्याशी आशु सिंह सुरपुरा ने मुकाबले को त्रिकोणीय बना रखा है। भाजपा से टिकट नहीं मिलने पर सुरपुरा बागी होकर चुनाव लड़ रहे हैं, जिससे यहां भाजपा की परेशानी बढ़ी हुई है।

शाहपुरा
शाहपुरा विधानसभा सीट पर भाजपा के उपेन यादव, कांग्रेस से मनीष यादव और निर्दलीय आलोक बेनीवाल के बीच त्रिकोणीय मुकाबला है। पिछला चुनाव भी आलोक बेनीवाल निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर जीते थे। वहीं भाजपा ने पूर्व विधायक राव राजेंद्र सिंह का टिकट काटकर उपेन यादव को चुनाव मैदान में उतारा है। इस सीट पर बसपा-रालोपा के प्रत्याशी भी चुनाव मैदान में हैं।

चाकसू
चाकसू विधानसभा में त्रिकोणीय मुकाबला नजर आ रहा है। यहां भाजपा से रामावतार बैरवा, कांग्रेस से वेदप्रकाश सोलंकी और आरएलपी से भाजपा के बागी विकेश खोलिया चुनाव मैदान में हैं। तीनों ही प्रत्याशियों ने पूरा जोर लगा रखा है।

कोटपूतली
कोटपूतली विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के हंसराज पटेल व कांग्रेस के राजेन्द्र यादव के अलावा निर्दलीय मुकेश गोयल के मैदान में डटे रहने से मुकाबला त्रिकोणीय बना हुआ है। वहीं बसपा, जेजेपी और रालोपा प्रत्याशी भी चुनावी मैदान में हैं। राजेंद्र यादव लगातार दो बार विधायक रहे हैं और तीसरी बार चुनाव मैदान में हैं।

विराटनगर
विराटनगर विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के कुलदीप धनखड़ व कांग्रेस के इंद्राज गुर्जर के अलावा कांग्रेस के बागी पूर्व विधायक रामचंद्र सराधना ने मुकाबले को त्रिकोणीय बना रखा है। पिछली बार निर्दलीय चुनाव लड़कर 40 हजार से ज्यादा वोट लाने वाले धनखड़ को भाजपा ने प्रत्याशी बनाकर चुनाव मैदान में उतारा है वहीं कांग्रेस प्रत्याशी इंद्राज मौजूदा विधायक हैं।

यह भी पढ़ें

राजनाथ सिंह आ गए, लेकिन नहीं उतर पाया हैलीकॉप्टर, जानिए ऐसा क्यों हुआ

इन सीटों पर चतुष्कोणीय मुकाबला

चौमूं
यहां भाजपा के रामलाल शर्मा, कांग्रेस की शिखा मील बराला के अलावा रालोपा के छुट्टन यादव और बसपा से कैलाशराज सैनी ने मुकाबले को चतुष्कोणीय बना रखा है। रालोपा प्रत्याशी यादव पिछले विधानसभा चुनावों में 38 हजार से अधिक वोट हासिल कर तीसरे नंबर रहे थे। कांग्रेस पार्टी ने यहां नए चेहरे के तौर पर डॉ. शिखा को चुनाव मैदान में उतारा है, वहीं कैलाशराज सैनी कांग्रेस के बागी हैं।

बस्सी
बस्सी विधानसभा सीट पर इस बार चतुष्कोणीय मुकाबला बना हुआ है। यहां कांग्रेस के लक्ष्मण मीना व भाजपा के चंद्रमोहन मीना मैदान में हैं, लेकिन भाजपा के बागी जितेंद्र मीना व बस्सी से दो बार विधायक रह चुकी अंजू धानका ने चुनाव को चतुष्कोणीय बना दिया है। लक्ष्मण मीना पिछला चुनाव निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर जीते थे। इस बार कांग्रेस ने उन्हें प्रत्याशी बनाया है।

ट्रेंडिंग वीडियो