script30 साल पहले गई ‘थानेदारी’, फिर ऐसे बना कालेरा गैंग का सरगना, ASP के पति के कारनामे सुन उड़ जांएगे होश | SI Paper Leak Case : Tulchharam Kalra gang used to leak the exam papers while distributing them | Patrika News
जयपुर

30 साल पहले गई ‘थानेदारी’, फिर ऐसे बना कालेरा गैंग का सरगना, ASP के पति के कारनामे सुन उड़ जांएगे होश

Tulchharam Kalra Gang : आरोपी तुलछाराम की वर्ष 2006 में नविता से शादी हुई। शादी के बाद बीकानेर में रहकर वहां भी चाणक्य कोचिंग खोल ली। शादी के समय पत्नी थर्ड ग्रेड टीचर थी और बाद में बीकानेर में एक स्कूल में प्रधानाचार्य बन गई।

जयपुरJun 10, 2024 / 09:05 am

Anil Prajapat

Tulchharam Kalra gang

आरोपी प्रवीण विश्नोई और एसीओजी की गिरफ्त में एएसपी का पति तुलछाराम कालेरा।

SI Paper Leak Case : जयपुर। बीकानेर में ब्लूटूथ से नकल करवाने वाली गैंग का मास्टरमाइंड (अति. पुलिस अधीक्षक नवीता खोखर का पति) तुलछाराम कालेरा वर्ष 1991 में उप निरीक्षक बना था। आरोप है कि डीडवाना में पोस्टिंग के दौरान दो कांस्टेबल व दो परिचित युवकों के जरिए हवाला की रकम ले जा रहे दो लोगों से लूट की वारदात को अंजाम दिलवाया। मामला खुलने के बाद आरोपी तुलछाराम को गिरफ्तार किया गया और 1993 में बर्खास्त किया। हालांकि बाद में कोर्ट से लूट के मामले में बरी हो गया। इसके बाद चूना पत्थर का भट्टा लगा लिया और जोधपुर में 2004 में चाणक्य नाम की कोचिंग खोल ली।

नहीं बन सका आरएएस

आरोपी तुलछाराम की वर्ष 2006 में नविता से शादी हुई। शादी के बाद बीकानेर में रहकर वहां भी चाणक्य कोचिंग खोल ली। शादी के समय पत्नी थर्ड ग्रेड टीचर थी और बाद में बीकानेर में एक स्कूल में प्रधानाचार्य बन गई। आरोपी तुलछाराम वर्ष 2010 में भतीजे पोरव कालेरा के साथ उप निरीक्षक भर्ती परीक्षा में बैठा। दोनों का एक ही परीक्षा केन्द्र और एक ही कमरे में रोल नंबर आया। आरोपी ने भतीजे पोरव की कॉपी लेकर उसका पेपर सॉल्व किया।
वर्ष 2014 में परीक्षा का परिणाम आया तो पोरव की 409वीं रैंक बनी। लेकिन आरोपी के साथी ने आरपीएससी में इस संबंध में शिकायत की। तब जांच में आरोप सही पाए गए और अजमेर के सिविल लाइंस थाने में मामला दर्ज करवाया गया। तब तक आरोपी तुलछाराम ने आरएएस भर्ती परीक्षा पास कर ली थी लेकिन अजमेर के सिविल लाइंस थाने में गिरफ्तार होने पर उसका आरएएस में चयन नहीं हो सका। वहीं आरोपी पोरव कालेरा वर्ष 2014 में ही द्वितीय ग्रेड टीचर परीक्षा में नकल करवाने के लिए पेपर सॉल्व करते पकड़े गया। इसके चलते वह उप निरीक्षक भर्ती परीक्षा में दस्तावेज सत्यापित नहीं करा पाया और थानेदार बनने से रह गया।
यह भी पढ़ें

SI Paper Leak Case : खुद की कोचिंग छात्रा संग लिव इन रिलेशनशिप में रह रहा था ASP का पति तुलछाराम

15 जून तक रिमांड पर, 30 और गिरफ्तार होने के रडार पर

एसओजी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रामसिंह शेखावत के नेतृत्व में जुटी टीम ने गिरफ्तार प्रशिक्षु उप निरीक्षक मनीषा सिहाग, अंकिता गोदारा व प्रभा बिश्नोई को रविवार को न्यायालय में पेश किया, जहां से तीनों को 15 जून तक एसओजी की रिमांड पर सौंप दिया। वहीं पहले से गिरफ्तार पोरव कालेरा, नरेशदान चारण, प्रवीण बिश्नोई व दिनेश चौहान 11 जून तक रिमांड चल रहे हैं। एसओजी की रडार पर 30 प्रशिक्षु उप निरीक्षक हैं, इनमें कुछ प्रशिक्षण स्थल से छुट्टी लेकर भाग गए। बताया जाता है कि पोरव की पत्नी की बहन भी भागने वाले प्रशिक्षु उप निरीक्षकों में शामिल है।

जगदीश व तुलछाराम की अलग-अलग गैंग

पेपर लीक मामले में जगदीश बिश्नोई व तुलछाराम कालेरा की अलग-अलग गैंग है। आरोपी जगदीश बिश्नोई गैंग परीक्षा से पहले पेपर लीक करवाती थी। जबकि तुलछाराम कालेरा की गैंग परीक्षा में पेपर बांटने के दौरान लीक करवाती थी। कई बार तुलछाराम गैंग आरोपी जगदीश बिश्नोई गैंग से भी पेपर ले लेती थी।

Hindi News/ Jaipur / 30 साल पहले गई ‘थानेदारी’, फिर ऐसे बना कालेरा गैंग का सरगना, ASP के पति के कारनामे सुन उड़ जांएगे होश

ट्रेंडिंग वीडियो