देर रात तक खुलने वाली शराब की दुकानों को लेकर फिर होगी सख्ती, CM गहलोत ने बैठक में दिए निर्देश

देर रात तक खुलने वाली शराब की दुकानों को लेकर फिर होगी सख्ती, CM गहलोत ने बैठक में दिए निर्देश

abdul bari | Publish: Aug, 04 2019 10:06:16 PM (IST) | Updated: Aug, 05 2019 12:12:24 AM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ( ashok gehlot ) ने रविवार को मुख्यमंत्री कार्यालय में कानून-व्यवस्था ( law and order ) तथा अपराध नियन्त्रण को लेकर बैठक को संबोधित किया। इस दौरान मुख्यमंत्री देर रात तक खुलने वाली शराब की दुकानों ( liquor shops ) को लेकर फिर सख्ती के मूड में दिखे।

जयपुर

प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ( Ashok Gehlot ) ने रविवार को मुख्यमंत्री कार्यालय में कानून-व्यवस्था ( law and order ) तथा अपराध नियन्त्रण को लेकर बैठक को संबोधित किया। इस दौरान मुख्यमंत्री देर रात तक खुलने वाली शराब की दुकानों को लेकर फिर सख्ती के मूड में दिखे। उन्होंने रात्रि 8 बजे के बाद शराब की दुकानों ( liquor shops ) को बंद करने के निर्देशों की कड़ाई से पालना करने की बात कही। उन्होंने कहा कि यदि रात्रि 8 बजे बाद शराब की दुकान खुली मिलती हैं तो दुकान संचालक के साथ-साथ जिम्मेदार अधिकारियों पर भी कार्रवाई हो। उन्होंने कहा कि हुक्का बार प्रतिबंध का कानून बन गया है। अब कहीं भी हुक्का बार चलता पायें तो संबंधित रेस्टोरेंट मालिक पर कड़ी कार्यवाही की जाए।

क्राइम ब्रांच, साइबर सेल और एसओजी को बनाएं मजबूत

बैठक में गहलोत ने कहा कि क्राइम ब्रांच, साइबर सेल और एसओजी पुलिस की महत्वपूर्ण विंग हैं। अपराध नियंत्रण ( crime control ) और अपराधियों पर कार्रवाई करने में इनकी अहम भूमिका है। ऐसे में इनमें काबिल अफसर लगाए जाएं। साथ ही इन्हें आवश्यक संसाधन सुलभ करवाकर मजबूत बनाया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि पुलिस में अनुसंधान अधिकारियों की कमी को दूर करने, रिक्त पदों को भरने सहित आवश्यक संसाधन उपलब्ध करवाने में सरकार कोई कमी नहीं रखेगी। उन्होंने कहा कि बदलते दौर में पुलिस अधिकारी बेहतर पुलिसिंग के लिए सोशल मीडिया टूल्स का भी उपयोग करें। अफवाहों को रोकने की दिशा में प्रो-एक्टिव रहकर काम करें। उन्होंने शांति समितियों और सीएलजी ( CLG ) का पुनर्गठन करने के भी निर्देश दिए।


इन मुद्दों पर भी सीएम ने रखी अपनी बात

गहलोत ने कहा कि अपराधियों पर अंकुश रखने के साथ-साथ बदलती सामाजिक व्यवस्था में पुलिस की चुनौतियां भी बढ़ी हैं। खाप पंचायत, ऑनर किलिंग, अंतरजातीय विवाह तथा सामाजिक कुप्रथाओं से संबंधित कई ऐसे संवेदनशील मामले हैं, जिनमें पुलिस सोसायटी को जागरूक कर बड़ी संख्या में अपराधों पर नियंत्रण कर सकती है। समाज को ऐसे अपराधों के प्रति शिक्षित और जागरूक करने में पुलिस अपनी प्रभावी भूमिका अदा करे।

 

यह खबरें भी पढ़ें...

प्रेम-प्रसंग का संदेह: शादीशुदा युवक-युवती को 8 घंटे तक कमरे में बनाए रखा बंधक

 

 

दोस्तों के साथ शोरुम में आए युवक की कनपटी पर गोली लगने से मौत, जांच में जुटी पुलिस


राजस्थान के 14 जिलों के लिए चेतावनी जारी, तेज बारिश के साथ आ सकता है अंधड़

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned