scriptWhat is the reaction of young friends regarding the consecration | भगवान राम की मंदीर में प्राण प्रतिष्ठा को लेकर क्या है युवा साथियों की प्रतिक्रिया, जानकर हो जाएंगे दंग | Patrika News

भगवान राम की मंदीर में प्राण प्रतिष्ठा को लेकर क्या है युवा साथियों की प्रतिक्रिया, जानकर हो जाएंगे दंग

locationजयपुरPublished: Jan 22, 2024 11:54:41 am

Submitted by:

Dinesh Gurjar

भगवान राम की प्राण प्रतिष्ठा आज होने जा रही है , ऐसे में युवा साथियों नें इस दिन को लेकर कुछ ऐसी प्रतिक्रिया दी है, जिसे आप जानकर दंग रह जाएंगे ।

adfgdfgdfgdf.jpg

धनेश्वरी शर्मा
नमस्ते मेरा नाम धनेश्वरी शर्मा है और मैं 22 जनवरी को भगवान राम की प्राण प्रतिष्ठा के दिन को लेकर बहुत उत्साहित हूं। यह एक ऐतिहासिक दिन होगा, और मैं इस अवसर का हिस्सा बनने के लिए भाग्यशाली महसूस करती हूं। आज मैं घर में भगवान राम की पूजा करूंगी और उनसे आशीर्वाद मांगूंगी कि वे मुझे एक अच्छी इंसान बनने में मदद करें। फिर, मैं अपने परिवार और दोस्तों के साथ मंदिर जाने की योजना बना रही हूं। हम सभी मिलकर भगवान राम की प्राण प्रतिष्ठा के समारोह में भाग लेंगे। मैं इस दिन को कभी नहीं भूलूंगी। यह एक ऐसा दिन होगा जिसे मैं हमेशा अपने दिल में संजोकर रखूंगी।


मोहित सबदानी

22 जनवरी को राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा के दिन मैं सुबह जल्दी उठकर स्नान कर मंदिर जाऊंगा और राम कथा के साथ हनुमान चालीसा का पाठ करूंगा। इसके बाद परिवार संग टीवी के माध्यम से लाइव प्राण प्रतिष्ठा समारोह देखूंगा। शाम के वक्त राम ज्योति जला इस पावन पर्व पर राम नाम का स्मरण करूंगा। प्राण प्रतिष्ठा का यह दिन मेरे लिए नववर्ष होगा जिससे में एक नई शुरुआत कर सकता हूं।


तरूषी सराफ
मैं एक 20 वर्षीय लड़की हूं, और मैं 22 जनवरी को भगवान राम की प्राण प्रतिष्ठा के दिन बहुत उत्साहित हूं। यह एक ऐतिहासिक दिन होगा, और मैं इस अवसर का हिस्सा बनने के लिए भाग्यशाली महसूस करती हूं। वाकई हमारे लिए यह पावन दिन होने वाला है जब भगवान श्री राम मंदीर में विराजमान होंगे।

कोमल बंसल-
नमस्ते! मेरा नाम कोमल है और में एक 18 वर्षीय लड़की हूं, और मैं भगवान राम की मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा होने के दिन को लेकर बहुत खुश हूं। 22 जनवरी यानि प्राण प्रतिष्ठा के दिन मैं गरीबों को दान करने का काम करूंगी इसी के साथ घर को दिवाली की तरह सजाने का काम भी में करुंगी। यह दिन खुशियों भरा है इस दिऩ को मैं कभी नही भुलुंगी। मैं चाहुंगी कि इस दिन को दूसरी दिवाली के रूप से जाना जाए औऱ दूसरी दिवाली के रूप में मनाया जाए।

तनाया यादव-
मैं इस दिन को भगवान राम के जीवन और शिक्षाओं के बारे में जानने के लिए समर्पित करूंगी। मैं उनके चरित्र और आदर्शों को समझने की कोशिश करूंगी और उनसे प्रेरणा लूंगी। मैं भगवान राम की प्राण प्रतिष्ठा के समारोह के बारे में भी पढ़ूंगी और देखूंगी। इसके अलावा, मैं इस दिन को भारत की संस्कृति और विरासत को मनाने के लिए समर्पित करूंगी। मैं हिंदू धर्म के बारे में और जानेंगे और भगवान राम के इतिहास के बारे में अधिक जानने की कोशिश करूंगी। मैं भारत की समृद्ध संस्कृति और विरासत के बारे में अन्य लोगों को भी बताना चाहूंगी।

ट्रेंडिंग वीडियो