योग गुरु की कंपनी का दावा, उनकी दवा से ठीक हुए जयपुर के कई कोरोना मरीज!

— एसएमएस अस्पताल के डॉक्टर्स ने कहा, नहीं किया कोई ट्रायल

By: Ankita Sharma

Published: 24 May 2020, 12:58 PM IST

— बाबा रामदेव को दवा ट्रायल की अनुमति नहीं!

- इंदौर में कोरोना मरीजों पर ड्रग ट्रायल की अनुमति मांगी थी

जयपुर। योग गुरु बाबा रामदेव की कंपनी को कोरोना मरीजों पर ट्रायल की अनुमति नहीं दी गई है। बाबा की कंपनी ने कोरोना मरीजों पर आयुर्वेदिक दवाओं के क्लिनिकल ट्रायल की अनुमति मांगी थी। खास बात ये है कि मीडिया रिपोट्र्स में दावा किया जा रहा है कि ट्रायल की यह अनुमति कंपनी जयपुर में कोरोना मरीजों के उनकी दवा लेने के बाद ठीक होने के आधार पर मांग रही थी। हालांकि इसी बीच जयपुर में एसएमएस अस्पताल के चिकित्सकों का कहना है कि उन्होंने किसी भी ऐसी आयुर्वेदिक दवा का ट्रायल फिलहाल नहीं किया है। दूसरी ओर कंपनी का दावा था कि उनकी दवा का जयपुर के कुछ मरीजों पर ट्रायल किया गया है, जिसके परिणाम सकारात्मक मिले हैं।

बताया जा रहा है कि बाबा रामदेव की कंपनी को क्लिनिकल ट्रायल के लिए इंदौर जिला कलक्टर ने अनुमति दे दी थी, लेकिन इस पर विवाद हो गया। कई संगठनों ने इसका विरोध किया, जिसके बाद इंदौर कलक्टर मनीष सिंह ने सफाई दी कि मेडिकल कॉलेज से प्राप्त आवेदन में दवा मरीजों को काढ़े की तरह देने की बात कही थी। अनुमति भी दवा बांटने की दी थी, ट्रायल की नहीं। वहीं मेडिकल कॉलेज की डीन डॉ. ज्योति बिंदल ने कहा है कि आवेदन में ड्रग कोरोना मरीज को देने और परिणाम टेस्ट करने की बात लिखी थी, इसलिए आवेदन प्रमुख सचिव को भेजा था। बाबा की कंपनी ने दावा किया है कि जयपुर में कुछ मरीजों पर इसे परखा गया है। गौरतलब है कि बाबा की कंपनी ने पिछले दिनों आयुर्वेदिक काढ़े को लेकर एडवाइजरी जारी होने के बाद दवा बनाने का दावा किया था। कंपनी ने अश्वगंधा से यह दवाई तैयार की है। गौरतलब है कि अश्वगंधा को हमेशा से ही सेहत के लिए अच्छा माना जाता है। हालांकि ये कोरोना के इलाज में कितना कारगर है, जिस विषय में फिलहाल कोई अधिकारिक ट्रायल सामने नहीं आया है।

Corona virus
Ankita Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned