कृषि उपज मंडी के खरीदी केंद्र में प्रशासन की कार्रवाई, यहां क्विंटलों से पड़ा है धान पर किसानों का पता नहीं

यहां मुखबिर की सूचना पर कृषि उपज मंडी में दबिश देने पहुंची प्रशासन की टीम को बड़े व्यापक पैमाने पर बेपरवाही देखने को मिली है।

By: Faiz

Published: 11 Jan 2021, 05:21 PM IST

कटनी। मध्य प्रदेश के कटनी स्थित कृषि उपज मंडी में सोमवार को प्रशासन ने बड़ी कार्रवाई की। यहां मुखबिर की सूचना पर कृषि उपज मंडी में दबिश देने पहुंची प्रशासन की टीम को बड़े व्यापक पैमाने पर बेपरवाही देखने को मिली। जिले के गंगा स्व सहायता समूह की कृषि मंडी में क्विंटलों धान के कई ढेर तो लगे हुए थे, लेकिन मौके पर कोई भी किसान मौजूद नहीं था, जिससे पता लगाया जा सके कि, किसानों का ही धान है।

 

पढ़ें ये खास खबर- Birthday Special : राहुल द्रविड़ ही बना सके हैं दुनियाभर में सिर्फ ये रिकॉर्ड, सचिन भी रह गए पीछे

देकें खबर से संबंधित वीडियो...

सिर्फ 17 किसानों का ही पंजियन मिला, बाकि गायब

कृषि मंडी में अब भी 33 किसानों के ढेर लगे हुए थे, जिसमें से 18 से 56 क्विंटल धान रखी हुई है। इसमें जांच टीम को सिर्फ 17 किसानों के पंजीयन ही मिले हैं, जिनमें 16 क्विंटल धान बताई जा रही है। शेष धान के किसान नहीं मिले हैं, टीम के मिताबिक, पूरी धान लावारिस हालत में मंडी के भीतर पड़ी हुई है। इस पर एसडीएम बलवीर रमण, तहसीलदार संदीप श्रीवास्तव ने जांच की।

 

पढ़ें ये खास खबर- छेड़छाड़ का आरोप लगाकर बीच सड़क पर लड़के को डंडे से पीट रही थी लड़की, पुलिस के सामने हुआ ये खुलासा


एक संदिग्ध से की जा रही पूछताछ

लगभग 1 घंटे तक किसानों का इंतजार किया, जब कोई भी किसान नहीं पहुंचा तो धान जब्त करने की कार्रवाई करते हुए मंडी सचिव उस मालिक को अधिकृत किया है, कि जब तक पर्याप्त दस्तावेज और पंजीयन उपलब्ध ना हो जाएं, तब तक धान की तोल नहीं की जाए। इस दौरान एक संदिग्ध किशोर को भी हिरासत में लिया गया, जिसे पूछताछ के लिये कुठला थाना भेज दिया गया है। फिलहाल, मामले की जांच भी शुरु कर दी गई है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned