कॉरपोरेट कंपनी की तर्ज पर तैयार होगा यह कार्यालय, बनेगा मॉल और बिजनेस सेंटर भी, शहर सुंदर होने के साथ करोड़ों रुपए की होगी आय

कॉरपोरेट कंपनी की तर्ज पर तैयार होगा यह कार्यालय, बनेगा मॉल और बिजनेस सेंटर भी, शहर सुंदर होने के साथ करोड़ों रुपए की होगी आय
Corporate office

Balmeek Pandey | Publish: Jul, 26 2019 11:33:56 AM (IST) Katni, Katni, Madhya Pradesh, India

- कटनी शहर अब शीघ्र ही बड़े शहरों की तर्ज पर नजर आएगा। नगर निगम का एक्शन प्लान फलीभूत हो गया तो नगर निगम जहां कार्पोरेट ऑफिस जैसा नजर आएगा तो वहीं दो अलग-अलग स्थानों पर मॉल और बिजनेंस सेंटर शहर को नई पहचान देंगे।

- शहर में नगर निगम के माध्यम से जो भी विकास कार्य कराए जा रहे हैं या स्वीकृति मिलती है उसमें नगर निगम को 10 प्रतिशत प्रीमियम राशि जमा करनी होती है। यह राशि मिलने वाले कर से अदा की जा रही है, लेकिन टैक्स कम होने के कारण नगर निगम को आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ता है।

- इस समस्या से निपटने और शहर को सुंदर व विकसित शहर की तर्ज पर बनाने के लिए नगर निगम ने विशेष प्लान तैयार किया है।

कटनी. कटनी शहर अब शीघ्र ही बड़े शहरों की तर्ज पर नजर आएगा। नगर निगम का एक्शन प्लान फलीभूत हो गया तो नगर निगम जहां कार्पोरेट ऑफिस जैसा नजर आएगा तो वहीं दो अलग-अलग स्थानों पर मॉल और बिजनेंस सेंटर शहर को नई पहचान देंगे। शहर में नगर निगम के माध्यम से जो भी विकास कार्य कराए जा रहे हैं या स्वीकृति मिलती है उसमें नगर निगम को 10 प्रतिशत प्रीमियम राशि जमा करनी होती है। यह राशि मिलने वाले कर से अदा की जा रही है, लेकिन टैक्स कम होने के कारण नगर निगम को आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ता है। इस समस्या से निपटने और शहर को सुंदर व विकसित शहर की तर्ज पर बनाने के लिए नगर निगम ने विशेष प्लान तैयार किया है। एमआइसी और परिषद की मुहर लगते ही इस प्लान पर काम शुरू होगा। यह पूरा काम प्राइवेट पब्लिक पार्टनरशिप (पीपीपी) मोड पर होगा।

 

फुटपाथ को व्यवस्थित करने यहां बनेगा लाखों रुपये से वेंडर मार्केट, नगर निगम ने तैयार किया प्रस्ताव

 

बिजनेस हब के रूप में खड़ा होग
ननि द्वारा 75 करोड़ रुपये से अधिक की लागत का स्टीमेट तैयार किया गया है। इसे एमआइसी में रखा जाएगा। यहां से परिषद में स्वीकृति के लिए जाएगा। इसके बाद नगरीय प्रशासन विभाग को भेजा जाएगा। नगर निगम परिसर में कॉर्पोरेट ऑफिस, बस स्टैंड में बिजनेस सेंटर, सिविल लाइन में मॉल बनने से शहर में पार्किंग, टै्रफिक की समस्या से मुक्ति तो मिलेगी ही, साथ ही कटनी एक बार फिर बिजनेस हब के रूप में खड़ा होगा। खास बात यह है कि इस प्रयोग से नगर निगम को हर साल करोड़ों रुपये का राजस्व मिलेगा। इसमें लैंड कास्ट, कंस्ट्रक्शन कास्ट, 15 प्रतिशत सुपरवीजन प्रॉफिट के साथ ही लगभग 10 फीसदी प्रॉफिट कास्ट तय की गई है।

 

इस शहर में मुख्यमंत्री अधोसंरचना विकास में सामने आई बड़ी लापरवाही, इस नोटिस से उजागर हुआ मामला



यह है तीन बड़े प्रोजेक्ट
नगर निगम द्वारा नगर निगम परिसर कारपोरेट ऑफिस की तर्ज पर विकसित करने का प्लान बनाया है। यहां पर 25 हजार स्क्वायरफीट जमीन है। इसमें करोड़ों रुपये की लागत से बेहतर बिल्डिंग बनेगी। बेसमेंट में पार्किंग और स्टोन प्लान किया गया है। ग्राउंड और प्रथम तल में कॉमर्शियल दुकानें बनेंगी, दूसरी और तीसरे माले में अलीनशान नगर निगम का ऑफिस रहेगा।

 

प्रदेश के इस शहर में आधार कार्ड लोगों के लिए कैसे बन गया फजीहत, देखें वीडियो

 

शहर का सराय क्षेत्र
शहर के सिविल लाइन सराय क्षेत्र को भी कारपोरेट मॉल के आकार में शॉपिंग कॉम्पलैक्स विकसित करने की योजना बनाई गई है। यहां पर 9 हजार 644 वर्गीमीटर नगर निगम की जमीन है जो कुछ खाली और कुछ में आवास बने हुए हैं। यह बिल्डिंग भी डबल बेसमेंट में रहेगी। बेसमेंट में पार्किंग के साथ ही कॉमर्शियल दुकान एवं शोरूम बनाए जाने की योजना बनाई गई है।

 

बड़ा खुलासा: ...तो इसलिए धसक गया चार करोड़ के निर्माणाधीन पुल का हिस्सा, देखें वीडियो

 

बस स्टैंड के सामने बिजनेस सेंटर
बस स्टैंड क्षेत्र में बिजनेस सेक्टर में अपार संभावनाएं हैं। इस बात को ध्यान में रखते हुए नगर निगम ने बस स्टैंड के सामने नगर निगम की खाली पड़ती ढाई एकड़ जमीन में बिजनेस सेंटर प्लान किया है। यहां पर कॉमर्शियल भवन बनाने के लिए योजना बनाई गई हैं। इस सेंटर में गोडाउन, दुकान और शोरूम खोलकर उन्हें किराए में देकर नगर निगम आय बढ़ाएगी।

योजना को लेकर खास-खास
- नगर निगम की आय बढऩे के साथ शहर को मिलेगा स्मॉर्ट लुक।
- लीजरेंट से नगर निगम को कई वर्षों तक होगी आमदनी।
- प्लान पर स्वीकृति मिलते ही कंसलटेंट तैयार किए जाएंगे।
- इसके लिए जनप्रतिनिधि व शहर के लोगों से भी राय ली जाएगी।

इनका कहना है
शहर को सुंदर बनाने के साथ विकसित शहरों की श्रेणी में लाने के लिए प्लान खास तैयार किया गया है। शीघ्र ही इसका स्टीमेट एमआइसी व परिषद में रखा जाएगा। यहां से मुहर लगने के बाद शासन को भेजने का प्लान है। शीघ्र इस दिशा में पहल की जाएगी।
शैलेंद्र शुक्ला, अधीक्षण यंत्री, नगर निगम।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned