video: भाजपा सदस्यता विस्तारक बूथवार पता लगाएंगे विधानसभा चुनाव क्यों हारे और लोकसभा कैसे जीते

प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत ने कार्यकर्ताओं को बताया सदस्यता अभियान में किन बातों पर रखें ध्यान.

बूथवार समाज और परिवार के सदस्यों की संख्या के आधार पर बनाए जाएंगे भाजपा के सदस्य.

By: raghavendra chaturvedi

Published: 20 Jul 2019, 03:33 PM IST

कटनी. भाजपा के सदस्यता अभियान को लेकर आयोजित जिलास्तरीय बैठक में प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत ने कार्यकर्ताओं से कहा कि जिन बूथों पर हम विधानसभा चुनाव 2018 में हारे हैं और लोकसभा चुनाव 2019 में जीते हैं। उनकी सूची बनाएं, पता करें कि लोग विचारधारा से जुड़े हैं तो व्यक्ति को महत्व देकर मतदान करने के क्या कारण हैं। सदस्यता विस्तारकों से उन्होंने कहा कि बूथ में प्रत्येक परिवार से लोग भाजपा के सदस्य बनें, ऐसा प्रयास हो।

जिन बूथों में पीछे रहे उन्हें जीतना तथा जहां हमें जीत मिली वहां अपनी इस बढ़त को दोगुनी करने के लक्ष्य के साथ कार्यकर्ता इस महासदस्यता अभियान में जुटें। निर्मल सत्य गार्डन में आयोजित कार्यक्रम में भगत ने कहा कि शहडोल में हम चार लाख से ज्यादा मतों से लोकसभा चुनाव जीते, लेकिन पुष्पराजगढ़ विधानसभा में पीछे रहे।

मंडला लोकसभा सीट जीते, लेकिन पांच विधानसभा में पीछे रहे। सदस्यता अभियान के दौरान ऐसे कारणों का भी मंथन करना होगा। कार्यकर्ताओं को जिला सदस्यता प्रभारी महापौर शशांक श्रीवास्तव, भाजपा जिलाध्यक्ष पीतांबर टोपनानी ने संबोधित किया।

इस अवसर पर महासदस्यता अभियान के संभागीय प्रभारी राय सिंह सेंधव, पूर्व जिलाध्यक्ष रामचंद्र तिवारी, चमनलाल आनंद, पूर्व मंत्री अलका जैन, पूर्व जिलाध्यक्ष विजय शुक्ला, युवा मोर्चा जिलाध्यक्ष मृदुल द्विवेदी, नगर अध्यक्ष रामरतन पायल, निगमाध्यक्ष संतोष शुक्ला, महिला मोर्चा अध्यक्ष भावना सिंह सहित बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता मौजूद रहे।

 

फाल्ट आने पर सुधार करने वाले बिजली कर्मचारियों के लिए कुछ इस तरह सोशल मीडिया बना मददगार

एसपी ने बरही टीआइ को लगाई फटकार, पूछा पीडि़त बुजुर्ग की चार शिकायत पर क्यों नहीं की कार्रवाई

रात में बारुद सुबह होते-होते बन गई पटाखा की टिकिया!

BJP
raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned